--Advertisement--

उत्तर वनमंडल की पाट बीट के नाले में मिला रीछ का कंकाल

उत्तर वनमंडल की पाट बीट में एक नाले के किनारे बुधवार दोपहर में लगभग 15 दिन पुराना रीछ का कंकाल मिला। सूचना मिलने पर...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:15 AM IST
उत्तर वनमंडल की पाट बीट में एक नाले के किनारे बुधवार दोपहर में लगभग 15 दिन पुराना रीछ का कंकाल मिला। सूचना मिलने पर उत्तर वनमंडल के आला अधिकारी और स्टाफ मौके पर पहुंचे। जिस जगह रीछ का कंकाल पड़ा हुआ था उसके समीप रीछ के बाल बिखरे पड़े थे।

सिर और रीढ़ की हड्डियों वाला कंकाल यहां पड़ा था। उसके आसपास के जंगल में जांच की। पशु चिकित्सकों को सूचना दी। इसके बाद पशु चिकित्सकों ने मौके पर पड़ताल की तो रीछ का कंकाल होने की बात कही। हालांकि पुष्टि करने के लिए कंकाल की हड्डियों को जबलपुर की लैब भिजवाया है। खास बात यह थी कि इस कंकाल में चारों पंजों की हड्डियां नहीं थी। ऐसी आशंका जताई जा रही है कि रीछ को मारकर उसके अंग निकाले गए हैं। डीएफओ उत्तर वनमंडल राखी नंदा भी जांच के लिए पहुंची। उन्होंने नाले के आसपास के एक किलोमीटर के एरिया में बारीकी से जांच करने के आदेश स्टाफ को दिए। इस दौरान जांच में इस जगह पर अन्य वन्य प्राणियों की मौजूदगी के संकेत मिले।

तेंदुए और लकड़बग्घे का मल मिला

जिस जगह रीछ का कंकाल मिला था। उसके समीप नाले के किनारे तेंदुए और लकड़बग्घे का मल भी मिला। यहां हिंसक वन्य प्राणियों की मौजूदगी के संकेत मिले। ऐसे में किसी अन्य वन्य प्राणी के साथ संघर्ष होने की स्थिति को भी नकारा नहीं जा सकता है।

तंत्र-मंत्र में इस्तेमाल होने का संदेह

ज्ञात हो कि पूर्व में भी जिले में रीछ के शिकार की घटनाएं हुई हैं। रीछ के पंजे और नाखूनों का उपयोग तंत्र-मंत्र में किए जाने के संकेत पूर्व में शिकारियों के बयान में सामने आए हैं। ऐसे में शिकार की आशंका से इनकार नहीं किया जा सकता है।