बैतूल

--Advertisement--

पुलिसकर्मी पर गोली चलाने वाले 2 आरोपियों को 10-10 साल की कैद

आरक्षक पर गोली चलाने वाला एक आरोपी अभी भी फरार भास्कर संवाददाता| बैतूल पुलिस आरक्षक पर गोली चलाकर जानलेवा...

Dainik Bhaskar

May 02, 2018, 02:10 AM IST
आरक्षक पर गोली चलाने वाला एक आरोपी अभी भी फरार

भास्कर संवाददाता| बैतूल

पुलिस आरक्षक पर गोली चलाकर जानलेवा हमला करने वाले दो आरोपियो को द्वितीय अपर सत्र न्यायाधीश प्रतिभा साठवणे ने 10-10 साल का कठोर कारावास और एक-एक हजार रुपए जुर्माने की सजा से दंडित किया। प्रकरण में अभियोजन का संचालन जिला लोक अभियोजन अधिकारी एमआर खान तथा एडीपीओ अमित राय ने किया।

कोतवाली में पदस्थ आरक्षक अजीत पटेल, विवेक, नीलेश तथा बैतूल बाजार में पदस्थ आरक्षक बलीराम चोरी की बाइक के प्रकरण की जांच में संदिग्ध आरोपियों की तलाश में 29 अप्रैल 2015 को देसावाड़ी गांव गए थे। स्टेट बैंक के सामने आरोपी राजेश, जयराम तथा फरार आरोपी इरफान एक लाल बाइक से आए और खरीददार से चर्चा करने लगे तभी पुलिस ने घेराबंदी कर आरोपियों को पकड़ने का प्रयास किया। तीनों आरोपियों ने पुलिस टीम पर हमला कर दिया। फरार आरोपी इरफान ने अपनी जेब से कट्टा निकालकर आरक्षक बलीराम के ऊपर फायर कर दिया। इससे बलीराम के पेट में चोटें आईं। इसके बाद आरोपी इरफान वहां से फरार हो गया, जबकि पुलिस ने राजेश पिता हजारीलाल कतिया निवासी केसिया तथा जयराम पिता मंसाराम यादव निवासी निमिया को पुलिस ने पकड़ लिया। घटना की रिपोर्ट कोतवाली थाने में की। इसके बाद प्रकरण न्यायालय में प्रस्तुत किया, जहां अभियोजन ने मामला संदेह के परे प्रमाणित किया। न्यायाधीश ने आरोपी राजेश और जयराम को 10-10 साल की कठोर कारावास की सजा सुनाई। इस मामले में आरोपी इरफान अभी तक फरार है।

सट्टा खिलाने वाले आरोपी को 3 माह का कारावास और 1 हजार का जुर्माना

बैतूल|
मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट हरप्रसाद वंशकार ने सट्टा पर्ची लिखने वाले आरोपी को तीन माह का साधारण कारावास और एक हजार रुपए जुर्माने से दंडित किया। अभियोजन का संचालन जिला लोक अभियोजन अधिकारी वंदना शिवहरे ने किया। 9 अप्रैल 2015 को दोपहर तीन बजे कमानी गेट के आगे रानीपुर रोड में सार्वजनिक स्थान पर सट्टा लिखते हुए आरोपी प्रदीप पिता फूलचंद जावलकर को पुलिस ने घेराबंदी कर पकड़ा। उसके पास से एक पेन, सट्टा पर्ची व नकद 505 रुपए जब्त कर प्रकरण दर्ज कर न्यायालय में पेश किया था। प्रकरण में अभियोजन का संचालन करने वाली एडीपीओ वंदना शिवहरे ने बताया न्यायालय ने आरोपी को दंडित करते हुए इस बात का उल्लेख विशेष रूप से किया कि वर्तमान में सट्टे का प्रकोप समाज में नासूर की तरह फैल रहा है। जिससे कई घर बर्बाद हो चुके हैं। इसलिए आरोपी को परीवीक्षा का लाभ न देते हुए कारावास से दंडित किया।

X
Click to listen..