अचानक बढ़ी बिजली की डिमांड रोज 8 हजार मेगावाट की जरूरत

Betul News - मानसूनी बारिश के रुकने के कारण अब अचानक गर्मी बढ़ गई है। इससे प्रदेशभर में बिजली की डिमांड रोजाना डेढ़ से दो हजार...

Bhaskar News Network

Jul 14, 2019, 09:10 AM IST
Sarni News - mp news demand for ever increased power demand of 8 thousand megawatts per day
मानसूनी बारिश के रुकने के कारण अब अचानक गर्मी बढ़ गई है। इससे प्रदेशभर में बिजली की डिमांड रोजाना डेढ़ से दो हजार मेगावाट तक बढ़ी है। सरप्लस बिजली होने के कारण अभी तो दिक्कत नहीं है, लेकिन आने वाले दिनों में खरीफ फसलों की सिंचाई और गर्मी बढ़ने से खपत के बढ़ने के आसार हैं। इसे लेकर पावर प्लांटों को तैयार किया जा रहा है। जबकि मानसूनी सीजन में पावर प्लांटों की इकाइयां मेंटेनेंस पर रहती हैं।

मानसून के जोरदार आगाज और तेज बारिश के कारण अचानक बिजली की डिमांड में तीन हजार मेगावाट तक की गिरावट आई थी। गर्मी के दिनों में 9500 मेगावाट तक रहने वाली बिजली की डिमांड खिसककर 6 हजार मेगावाट तक आ गई थी। इसके बाद पावर प्लांटों को रेस्ट दिया। सरकारी थर्मल प्लांटों का लोड कम कर इकाइयों को मेंटेनेंस पर डालने की तैयारी की जा रही थी। सतपुड़ा प्लांट की 11 नंबर इकाई को मेंटेनेंस के लिए बंद भी कर दिया, लेकिन इस बीच बारिश रुक गई और अचानक बिजली की डिमांड में डेढ़ से 2 हजार मेगावाट की बढ़ोतरी हो गई।

सारनी। बारिश नहीं होने से सतपुड़ा प्लांट की 2 इकाइयां बंद हैं।

बारिश नहीं हुई तो खरीफ फसल पर पड़ेगा संकट

बारिश नहीं होने के कारण सबसे बड़ा संकट खरीफ फसलों पर आ गया है। ज्यादा बारिश नहीं होने की स्थिति में किसानों को मजबूरी में फसलों की सिंचाई करनी होगी। इससे बिजली की डिमांड और ज्यादा बढ़ जाएगी। गर्मी बढ़ने के कारण पंखे, कूलर और एसी से बिजली की खपत पहले ही बढ़ चुकी है।

चालू होते ही बंद हो गई इकाई, दूसरी में लो वैक्यूम की समस्या, एक मेंटेनेंस के लिए बंद

डिमांड बढ़ने के दौरान सतपुड़ा को भी बेहतर उत्पादन करना होगा, लेकिन यहां की परिस्थितियां ऐसी नहीं हैं। पावर प्लांट की 210 मेगावाट क्षमता वाली 7 नंबर इकाई 29 मई को आईडी फैन का स्ट्रक्चर टूटने के कारण बंद हो गई थी। इसके बाद गुरुवार रात इकाई शुरू की। मगर, लोड पर आने के तीन घंटे में ही इसमें जनरेटर प्रोटेक्शन की समस्या आ गई। वहीं प्लांट की 210 मेगावाट क्षमता वाली 8 नंबर इकाई के कंडेंसर में कचरा होने के कारण यह लो वैक्यूम की समस्या से ग्रसित है। प्लांट की 250 मेगावाट क्षमता वाली 11 नंबर इकाई का मेंटेनेंस किया जा रहा है। पूरा दारोमदार 6, 8, 9 और 10 नंबर इकाइयों पर है।

एमओडी में महंगी हुई सतपुड़ा पावर प्लांट की बिजली

पावर मैनेजमेंट कंपनी द्वारा जारी मैरिट ओवर डिस्पैच में सतपुड़ा पावर प्लांट की इकाइयों की प्रति यूनिट लागत बढ़ गई है। नई इकाइयों से पहले 2.27 रुपए प्रति यूनिट बिजली बनती थी। अब यह 2.31 रुपए हो गई है। जबकि पुरानी इकाइयों की लागत पहले 2.58 रुपए प्रति इकाई थी। यह बढ़कर 2.73 रुपए हो गई है।

X
Sarni News - mp news demand for ever increased power demand of 8 thousand megawatts per day
COMMENT