• Hindi News
  • Mp
  • Betul
  • Sarni News mp news wcl removed the dangerous sheets of the stadium but did not plan to improve

डब्ल्यूसीएल ने स्टेडियम की खतरनाक शीटें हटाईं, लेकिन सुधार का नहीं बनाया प्लान

Betul News - शहर में खेलने लायक कोई मैदान नहीं है। पिछले सप्ताह शहर के एकमात्र रामरख्यानी स्टेडियम की शीट से बॉल निकालते समय...

Dec 04, 2019, 10:25 AM IST
शहर में खेलने लायक कोई मैदान नहीं है। पिछले सप्ताह शहर के एकमात्र रामरख्यानी स्टेडियम की शीट से बॉल निकालते समय खिलाड़ी के गिरने के बाद कंपनी ने यहां से खतरनाक शीटें तो हटा दी हैं, लेकिन नई लगाने और सुधार करने का कोई प्लान नहीं है। सिविल विभाग ने इसके लिए कोई ठोस योजना बनाकर कंपनी को नहीं भेजी है। सुधार के नाम पर हर साल 26 जनवरी के पहले रंगाई, पुताई और छुट-पुट सुधार का काम हो जाता है। वो भी इसलिए क्योंकि यहां गणतंत्र दिवस समारोह होता है। दूसरा स्टेडियम पाथाखेड़ा में है, लेकिन यह डब्ल्यूसीएल के अधीन है। यहां भी सुविधाओं का टोटा है। ऐसे में खिलाड़ी खासे परेशान होते हैं।

सतपुड़ा पावर प्लांट प्रबंधन के कर्मचारियों के बच्चों की खेल सुविधा के लिए रामरख्यानी स्टेडियम बनाया था। स्टेडियम में पहले से ही सुविधाओं का अभाव था। मेटेनेंस नहीं होने और कंपनी का ध्यान नहीं होने के कारण ये मैदान खराब हो गया। रोजाना सैकड़ों खिलाड़ी यहां आते हैं, लेकिन सुधार कुछ नहीं। पिछले सप्ताह 25 नवंबर को एक खिलाड़ी बॉल निकालने के लिए शीट पर चढ़ा था। सड़ी-गली शीटें होने के कारण खिलाड़ी इससे गिर गया था। इसके बाद आनन-फानन में कंपनी प्रबंधन ने खतरनाक शीटों को हटा तो दिया, लेकिन नई शीटें लगाने और दर्शक दीर्घा का सुधार करने की कोई प्लानिंग नहीं की। दुख की बात यह है कि जब घटना हुई, तभी पावर प्लांट में कार्यरत कर्मचारियों के संगठनों को भी रामरख्यानी स्टेडियम की याद आई।

मिनी स्टेडियम का प्रस्ताव तो बना, लेकिन भोपाल-सारनी के बीच उलझी फाइल

सारनी। रामरख्यानी स्टेडियम की दर्शक दीर्घा में लगी शीटों को हटा दिया है।

टॉयलेट, पानी और लाइट जैसी सुविधा नहीं

सर्दी के दिन शुरू हो गए हैं। लोग अल सुबह 5 बजे से मैदान पहुंच रहे हैं। मगर, सुबह अंधेरे के कारण दिक्कतें होती हैं। मैदान में पीने के पानी और टॉयलेट जैसी जरूरी सुविधा तक नहीं है। कमोबेश यही हालत पाथाखेड़ा के डब्ल्यूसीएल विजय क्रीड़ांगण के भी हैं। यहां ड्रेसिंग रूम जैसी सारी सुविधाएं हैं, लेकिन सबकुछ बंद रहता है। आम खिलाड़ियों को केवल सुविधाविहीन मैदान मुहैया होता है।

खिलाड़ियों की सुविधा के लिए नगर पालिका ने पाथाखेड़ा के न्यू मार्केट स्थित फुटबॉल मैदान को मिनी स्टेडियम के रूप में विकसित करने का प्लान तैयार किया। इसकी ड्राइंग-डिजाइन तैयार कर दी। तकरीबन 38 लाख रुपए का बजट भी आंका। फाइल अभी भी भोपाल और सारनी के बीच उलझी पड़ी है। प्रोजेक्ट बनाकर पहली बार इसे मंजूरी के लिए भेजा, लेकिन टीएस यानी तकनीकी स्वीकृति नहीं मिली।

पुरस्कार की राशि से हो सकता है सुधार


प्लान तैयार कर रहे हैं


सुविधाओं के विस्तार पर भी देना होगा ध्यान


X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना