--Advertisement--

स्कूल से नदारद रहने वाले 19 शिक्षकों को नोटिस

Betul News - प्रभातपट्टन ब्लॉक के प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के शिक्षकों की लापरवाही से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है।...

Dainik Bhaskar

Dec 09, 2018, 04:00 AM IST
Multai News - notice to 19 teachers absent from school
प्रभातपट्टन ब्लॉक के प्राथमिक और माध्यमिक स्कूल के शिक्षकों की लापरवाही से बच्चों की पढ़ाई प्रभावित हो रही है। पालकों की शिकायतों के बाद भी शिक्षा विभाग इस ओर ध्यान नहीं दे रहा है। बार-बार शिकायत मिलने पर शिक्षा विभाग की टीम ने स्कूलों का निरीक्षण किया तो कुछ स्कूल बंद मिले तो कहीं बिना अवकाश लिए शिक्षक नदारद थे। शिक्षकों की इस लापरवाही से बच्चों का शैक्षणिक स्तर भी कमजोर है। निरीक्षण करने पहुंची टीम के जांच प्रतिवेदन के बाद जिला शिक्षा अधिकारी ने 19 लापरवाह शिक्षकों को कारण बताओ नोटिस जारी कर तीन दिवस के भीतर जवाब मांगा है। नोटिस में संतोषजनक जवाब नहीं मिलने पर दो वार्षिक वेतनवृद्धि रोकने की चेतावनी दी है।

इन शिक्षकों की यह मिली लापरवाही

प्राथमिक स्कूल गौनापुर में 26 जून को शिक्षक सतीश खंडाग्रे बिना सूचना अनुपस्थित थे। चिल्हाटी के प्राथमिक स्कूल के शिक्षक जोदूलाल अहाके 21 जुलाई को नदारद थे। माध्यमिक स्कूल सालबर्डी के रमेश सूर्यवंशी 15 जून को अनुपस्थित थे। 16 अगस्त को मोरण्ड का प्राथमिक स्कूल बंद मिला और शिक्षक राजेश सोनी अनुपस्थित मिले। चारसी का माध्यमिक स्कूल भी बंद था। शिक्षक सुरेंद्र कुमरे और सैवंती कुसराम नहीं मिले। प्राथमिक स्कूल चारसी के शिक्षक विट्ठल धुर्वे और दशरथ पंडोले समय के पहले स्कूल बंद करके चले गए थे। गेहूं बारसा के प्राथमिक स्कूल में भी ताला लगा मिला। शिक्षक सुखदेव पटेल और सुगनी कुमरे नदारद मिले। रगड़गांव के प्राथमिक स्कूल के शिक्षक रामकिशन आहके, हेमलता धाकड़, जयवंती आहके, गरीबदास भूमरकर, सूर्यभान बर्डे, कैलाश बारस्कर भी समय से पहले स्कूल में ताला लगाकर चले गए थे। 28 जुलाई को अडामपारी का प्राथमिक स्कूल दोपहर में बंद हो गया था। शिक्षक युवराज उइके, गणेश भूमरकर, कमलाकर बारंगे समय के पहले घर चले गए थे।

1 साल पहले की शिकायत, नहीं हुई कार्रवाई

ग्राम खेड़ीढाना और पचधार के प्राथमिक स्कूल में पदस्थ शिक्षकों की पालकों ने एक साल पहले 26 अगस्त 2017 को बिसनूर में सीएफटीएल की बैठक में कलेक्टर से शिकायत की थी। खेड़ीढाना में पदस्थ शिक्षक चंपतराव झरबड़े 14 जनवरी 2017 से नदारद थे। इसके बाद भी अभी तक कार्रवाई नहीं हुई है। वहीं पचधार के रामचंद्र नागले की भी पालकों ने शिकायत की थी। अभी तक इन दोनों शिक्षकों पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है।

जांच के बाद नोटिस भेजने में लगे 4 महीने

शिक्षकों की लापरवाही के साथ शिक्षा विभाग की लचर प्रणाली भी सामने आई। शिक्षण सत्र शुरू होने के बाद जून, जुलाई और अगस्त महीने में स्कूलों का निरीक्षण करने टीम पहुंची थी। शिक्षकों की लापरवाही उजागर होने के बाद टीम ने जांच प्रतिवेदन उच्च अधिकारियों को भेजा। चार से पांच महीने बाद लापरवाह शिक्षकों को नोटिस जारी हो पाया है।

X
Multai News - notice to 19 teachers absent from school
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..