• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhensdehi News
  • मरीजों को नहीं मिल रहा इलाज, कर्मचारियों की हड़ताल से किसानों को पंजीयन की चिंता
--Advertisement--

मरीजों को नहीं मिल रहा इलाज, कर्मचारियों की हड़ताल से किसानों को पंजीयन की चिंता

भैंसदेही। सोसाइटी में लगा ताला। भावांतर योजना के लाभ से वंचित रहेंगे किसान आठनेर | सहकारिता कर्मचारियों की...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:15 AM IST
भैंसदेही। सोसाइटी में लगा ताला।

भावांतर योजना के लाभ से वंचित रहेंगे किसान

आठनेर | सहकारिता कर्मचारियों की हड़ताल से रबी फसलों का पंजीयन भी नहीं हो पा रहा है। 28 फरवरी को पंजीयन की अंतिम तिथि थी, लेकिन हड़ताल की वजह से अधिकांश किसान गेहूं, चना सहित अन्य फसलों के पंजीयन से वंचित रह गए हैं। उनक कहना है कि तारीख नहीं बढ़ी तो समर्थन मूल्य और बोनस का लाभ नहीं मिलेगा। किसान सौरभ वागद्रे, प्रदीप झोड़, मृदुल जायसवाल, जगदीश लहरपुरे ने बताया शासन ने कोई स्पष्ट दिशा-निर्देश जारी नहीं किए हैं। सहकारी सोसाइटी में पंजीयन नहीं हो रहा है। पंचायतों और नगर परिषद कार्यालय में पंजीयन की जानकारी मिली थी, लेकिन वहां भी कोई निर्देश नहीं आए हैं। किसानों ने पंजीयन की तारीख बढ़ाने और अन्य विभागों में पंजीयन के लिए कहा है। उल्लेखनीय है सहकारिता कर्मचारियों की हड़ताल से गरीबों को होली के पहले राशन भी नहीं मिल पाएगा।

12 मार्च तक होंगे पंजीयन

भैंसदेही|
कृषि विभाग भैंसदेही के वरिष्ठ कृषि विकास अधिकारी एसएन मोरे ने बताया किसानों के पंजीयन की तिथि बढ़ाई गई है। अब 12 मार्च तक पंजीयन करा सकते हैं। किसान ग्राम पंचायत में पंजीयन कर सकते हैं।

हड़ताल से व्यवस्था ठप

भैंसदेही|
सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र व ब्लाॅक के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र सावलमेंढ़ा, खामला और झल्लार में पदस्थ संविदा कर्मचारी, अस्पताल में पदस्थ 3 एएमओ डॉक्टर्स हड़ताल पर हैं। बीएमओ अरुण अटल ने बताया अस्पताल में पदस्थ 3 एएमओ डॉक्टर्स, बीसीएम, डीईओ, एनएचएम स्टॉफ नर्स, डीईओ डीडीसी, फार्मासिस्ट, पोषक प्रशिक्षक एएनएम, एमटीएस, एसटीएस, सपोर्टिंग स्टाफ, केयर टेकर, कुक और स्वीपर कुल 28 संविदा कर्मचारी हड़ताल पर हैं। इससे व्यवस्था प्रभावित हो रही है।

पांच केंद्रों पर होती है गेहूं खरीदी

ब्लाॅक में आठनेर, सातनेर, मांडवी, पुसली और हिड़ली में गेहूं खरीदी केंद्र है। सहकारी सोसाइटी में बने खरीदी केंद्र में अभी तक 1395 किसानों का ही पंजीयन हो पाया है। आठनेर सोसाइटी के प्रबंधक आरके शिवहरे ने बताया पंजीयन की तारीख बढ़ाने की अभी जानकारी नहीं आई है। पांचों केंद्रों में 1395 किसानों के पंजीयन हुए हैं।