Hindi News »Madhya Pradesh »Bhensdehi» 83 किमी सीसी सड़कें बनाने का टारगेट तराई में खर्च होगा 62 हजार टैंकर पानी

83 किमी सीसी सड़कें बनाने का टारगेट तराई में खर्च होगा 62 हजार टैंकर पानी

इस साल भीषण जलसंकट गहराने की आशंकाएं हैं, लेकिन सीसी सड़कों के निर्माण कार्य अधूरे पड़े हैं। लेटलतीफी के कारण सड़क...

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 04, 2018, 07:20 AM IST

83 किमी सीसी सड़कें बनाने का टारगेट तराई में खर्च होगा 62 हजार टैंकर पानी
इस साल भीषण जलसंकट गहराने की आशंकाएं हैं, लेकिन सीसी सड़कों के निर्माण कार्य अधूरे पड़े हैं। लेटलतीफी के कारण सड़क निर्माण की टाइम लिमिट करीब आ गई हैं अब भीषण गर्मी में 15 करोड़ लीटर पानी खर्च कर इन सड़कों का निर्माण और तराई करनी पड़ेगी। कॉलोनियों में जिन 62 हजार टैंकरों का पानी पहुंचाकर जलसंकट दूर किया जा सकता था उन टैंकरों का पानी अब सड़क निर्माण और तराई में खर्च होगा।

जिले में दो बड़ी सीमेंट- कांक्रीट सड़कों का निर्माण चल रहा है। लेटलतीफी के कारण अब तक इनका निर्माण पूरा नहीं हुआ है। अब अप्रैल और मई में सड़क निर्माण की टाइम लिमिट पूरी होने जा रही है। पीडब्ल्यूडी ने ठेकेदारों को सड़क निर्माण जल्द पूरा करने के नोटिस जारी किए हैं। सड़क नहीं बनाने पर 10 प्रतिशत पेनाल्टी लगाने की चेतावनी भी दी है। ऐसे में अब बैतूल शहर और मुलताई- भैंसदेही के बीच सड़क निर्माण तेजी से शुरू हुआ है। बैतूल शहर में भी सीमेंट-कांक्रीट बिछाने की तैयारी की जा चुकी है। गर्मी में 83 किलोमीटर सड़क बनाने और 21 दिन तराई करने में 62 हजार 250 टैंकर पानी खर्च होगा। जिस पानी से 62 हजार कॉलोनियों को एक बार में पानी दिया जा सकता था वह सड़क बनाने में खर्च करना पड़ेगा।

शहर में बनने वाली सीसी रोड के लिए पुरानी सड़क उखाड़ने का काम शुरू हो गया है।

कहां बननी है

सड़क

मुलताई-भैंसदेही सड़क

लागत: 150 करोड़

कुल लंबाई- 83 किमी

अब तक बनी: 32 किमी

बनाई जानी है: 51 किमी

बनाने और तराई में खर्च होगा पानी: 38,250 टैंकर

बैतूल-बोरदेही -आमला सड़क

लागत: 130 करोड़

कुल लंबाई- 72 किलोमीटर

अब तक बनी: 40 किमी

बनाई जानी है: 32 किमी

बनाने और तराई में पानी लगेगा: 24 हजार टैंकर

शहर को 30 लाख लीटर पानी चाहिए रोज

ठेकेदार प्राइवेट टैंकरों का पानी लाएंगे, पानी चोरी की भी आशंका

ठेकेदार प्राइवेट टैंकरों का पानी परिवहन के लिए लेंगे। ऐसे में शहर का भूजलस्तर तेजी से नीचे जा सकता है। दरअसल अधिकांश प्राइवेट टैंकर ट्यूबवेल से ही टैंकर भरते हैं। शहर के अन्य जलस्स्रोतों से पानी के तेजी से दोहन और पानी की चोरी की आशंकाएं भी बन सकती हैं।

तराई में पानी की कमी हुई तो सड़क में आएंगे क्रेक

सड़क निर्माण मई तक पूरा किया जाना है। गर्मी में यदि पानी की कमी में सड़क बनाई गई तो सड़क में क्रेक आ जाएंगे। गिट्टियां भी उखड़ सकती हैं। ऐसे में पानी का भरपूर उपयोग करना भी जरूरी है।



ठेकेदार को कम से कम पानी खर्च करने की हिदायत देंगे

शहर में सीसी सड़क बनाने का काम किया जाना है। ठेकेदार को काम शुरू करवाने को कहा है। कम से कम पानी खर्च कर सड़क बनाने की हिदायत ठेकेदार को दी जाएगी। सड़क की गुणवत्ता और पानी के सदुपयोग दोनों का ध्यान रखा जाएगा। एमके जैन, एसडीएओ, पीडब्ल्यूडी

इधर नगरपालिका ने शहर में 15 मार्च के बाद से भीषण जलसंकट के आसार बनने की आशंका जताते हुए नगरीय प्रशासन ईई को पत्र लिखा है। 30 लाख लीटर पानी रोज बांधों से परिवहन करके लाने की बात लिखी है। एक ओर शहर में बांध का पानी लाने की बात चल रही है। वहीं दूसरी ओर शहर में ही 6 किलोमीटर सीसी सड़क बनाने का काम शुरू हुआ है।

इस तरह बर्बाद

होगा पानी

1 किलोमीटर लंबी और 10 मीटर चौड़ी बनाने में 3500 क्यूबिक मीटर कांक्रीट बिछेगा।

सीमेंट-कांक्रीट मिश्रण बनाने के लिए 8.75 लाख लीटर पानी केवल निर्माण में लगेगा। इस तरह 2.5 हजार लीटर क्षमता के 350 टैंकर पानी से केवल निर्माण होगा।

400 टैंकर पानी 1 किलोमीटर सड़क की 21 दिनों तक तराई करने में लगेगा।

83 किलोमीटर सीसी सड़क बननी है। इस तरह 83 किलोमीटर सड़क बनाने में 2.5 हजार लीटर क्षमता के टैंकरों का 62.250 टैंकर पानी लगेगा।

62,250 पानी टैंकरों का 15 करोड़ 56 लाख 25 हजार लीटर पानी निर्माण और तराई में खर्च होगा।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhensdehi News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: 83 किमी सीसी सड़कें बनाने का टारगेट तराई में खर्च होगा 62 हजार टैंकर पानी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From Bhensdehi

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×