Hindi News »Madhya Pradesh »Bhikangauv» भीकनगांव के 10 व झिरन्या के 9 गांवों के जलस्रोत व व्यवस्थाओं पर खर्च होंगे 15 करोड 5 लाख रुपए

भीकनगांव के 10 व झिरन्या के 9 गांवों के जलस्रोत व व्यवस्थाओं पर खर्च होंगे 15 करोड 5 लाख रुपए

भास्कर संवाददाता | भीकनगांव विधानसभा क्षेत्र के 19 गांवों की पेयजल व्यवस्था के स्थायी समाधान के लिए 15 करोड 5 लाख...

Bhaskar News Network | Last Modified - Apr 01, 2018, 02:00 AM IST

भीकनगांव के 10 व झिरन्या के 9 गांवों के जलस्रोत व व्यवस्थाओं पर खर्च होंगे 15 करोड 5 लाख रुपए
भास्कर संवाददाता | भीकनगांव

विधानसभा क्षेत्र के 19 गांवों की पेयजल व्यवस्था के स्थायी समाधान के लिए 15 करोड 5 लाख रुपए स्वीकृत हुए हैं। इससे भीकनगांव के 10 व झिरन्या विकासखंड के 9 गांवों को लाभ मिलेगा। जनसहयोग व शासन से मिली राशि से जल्द काम शुरू होगा। इसमें पेयजल स्रोत की व्यवस्था के साथ पाइप लाइन व टंकी का निर्माण होगा। अब तक इन गांवों की करीब 30 हजार आबादी निजी पेयजल स्रोत व हैंडपंप पर आश्रित थी।

कुछ पंचायतों में पेयजल लाइन थी, लेकिन फिर भी ग्रामीणों को परेशानी का सामना करना पड़ रहा था। सांसद नंदकुमारसिंह चौहान के प्रयासों से यह राशि स्वीकृत हुई है। आईटी प्रकोष्ठ प्रदेश कार्यकारिणी सदस्य निशांत जायसवाल व सुशील जायसवाल ने बताया जनसहयोग से राशि एकत्रित कर मुख्यमंत्री पेयजल योजनाएं बनाई गई है। सगुर भगुर की योजना पूरी होने के बाद चलाए गए अभियान के तहत 19 गांवों की योजनाओं को स्वीकृति मिली है। इनमें से 10 गांवों में काम चालू करने के आदेश भी हो चुके है, वहीं 9 गांवों की निविदाएं बुलवाई गई है। इस योजना का काम पूरा करने वाले ठेकेदार ही इसका संचालन भी करेंगे। इससे बार-बार आने वाली तकनीकी समस्याओं से भी निजात मिलेगी।

सगुर भगुर की योजना बनी मिसाल

स्व. रामचंद्र जायसवाल ने सबसे पहले सगुर भगुर में पेयजल योजना तैयार करवाई। उन्होंने पूर्व तहसील संघ चालक व शिक्षक नारायणप्रसाद जायसवाल के निधन पर समाज में लायन प्रथा बंद करवाने के साथ उनके पुत्र डॉ. राम जायसवाल खरगोन, श्याम जायसवाल व ब्रजेश जायसवाल से 1.50 लाख रुपए की एफडी पीएचई में जमा करवाई। पीएचई ने मुख्यमंत्री पेयजल योजना में 49.21 लाख रुपए स्वीकृत करवाकर योजना को पूरा करवाया। इसके बाद कई गांवों में यह अभियान चलाया गया।

पंचम्बा में पेयजल के लिए ग्रामीण भटक रहे हैं।

3 किमी दूर पीपरी से सगुर भगुर के कुएं में पानी लाया जा रहा है।

80 कनेक्शन बांटे

सगुर भगुर की आबादी 1743 है। पेयजल योजना का काम पूरा होने के बाद यहां के 385 में से 80 मकानों को कनेक्शन बांटे जा चुके हैं। उपसरपंच जितेंद्र चौहान, महेश चौहान, नीरज पटेल, भूपेंद्र पटेल, जितेंद्र यादव, राजू यादव, यशवंत यादव, पंकज जायसवाल आदि ने बताया पहले ग्रामीण निजी पाइप लाइन व हैंडपंप से पानी भरते थे। अब नलजल योजना से पेयजल का स्थायी समाधान हो चुका है।

भीकनगांव विकासखंड के गांव

गांव योजना राशि

मोहाली मुख्यमंत्री नलजल 128.69

पोखर खुर्द मुख्यमंत्री नलजल 102.89

चिरागपुरा मुख्यमंत्री नलजल 75.37

पिपल्या बुजुर्ग मुख्यमंत्री नलजल 65.40

चौंडी मुख्यमंत्री नलजल 80.95

पंचम्बा मुख्यमंत्री नलजल 64.84 उमरदड़ मुख्यमंत्री नलजल 63.93

बड़िया जनसहयोग राशि 77.97

आवलिया जनसहयोग राशि 34.51

दोंदवाड़ा जनसहयोग राशि 17.83

झिरन्या विकासखंड के गांव

गांव योजना राशि

राजपुरा मुख्यमंत्री नलजल 128.42

मानिकेरा मुख्यमंत्री नलजल 116.50

नीमसेठी मुख्यमंत्री नलजल 78.36

कटझिरा मुख्यमंत्री नलजल 79.16

पिपरखेड़ मुख्यमंत्री नलजल 87.28

नीमखेड़ा मुख्यमंत्री नलजल 83.15

आभापुरी जनसहयोग राशि 98.85

शिवना जनसहयोग राशि 98.99

पिपरी खेड़ी लाइन फाल्या जनसहयोग राशि 22.70

अन्य गांवों के लिए भी होंगे प्रयास

19 गांवों की मुख्यमंत्री नलजल योजना को स्वीकृति मिली है। सगुर भगुर की योजना पूरी हो चुकी है। यह जनसहयोग का आदर्श उदाहरण है। अन्य गांवाें में जनसहयोग से पेयजल समस्या के स्थायी समाधान के प्रयास किए जा रहे है। - वीडी शिवपुर, एसडीओ, पीएचई

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From Bhikangauv

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×