--Advertisement--

70 दिन में पकेगी तरबूज की नई किस्म, 4 गुना आय भी

महेश चौहान | कसरावद (खरगोन) गर्मी से राहत के लिए तरबूज सर्वोत्तम उपाय माना जाता है। लेकिन अब इसकी नई किस्मों से...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:20 AM IST
महेश चौहान | कसरावद (खरगोन)

गर्मी से राहत के लिए तरबूज सर्वोत्तम उपाय माना जाता है। लेकिन अब इसकी नई किस्मों से अधिक मुनाफे ने इसकी लोकप्रियता और बढ़ा दी है। क्षेत्र में किसान इनका उत्पादन कर फायदा उठा रहे हैं। एक किस्म ऊपर से पीली व अंदर से सामान्य है। वहीं दूसरी सामान्य दिखाई देने वाली किस्म अंदर से पीली व स्वाद में पाइनापल जैसी है। शरीर में पानी की कमी को दूर करने वाली इन दोनों किस्मों के तरबूजों से 70 दिनों में किसान ने चार गुना मुनाफा कमाया है।

मंगलवार को भीकनगांव में मुख्यमंत्री के सामने इन दोनों किस्मों का प्रजेंटेशन होगा। साटकुर के किसान राजेश पाटीदार ने बताया उन्होंने 25 जनवरी 18 को नाॅन यू सीड्स की विशाला (ऊपर से पीला व अंदर से सामान्य) और सागर सीड्स का अनमोल (ऊपर से सामान्य व अंदर से पीला) किस्मों की फसल 2-2 भीगा भूमि में लगाई। दोनों में कुल खर्च 1 लाख 20 हजार रुपए आया। 70 दिनों में दोनों फसल पककर तैयार हुई। इनसे करीब 225 क्विंटल प्रति भीगा के हिसाब से उत्पादन हुआ। इसमें कुल आय करीब 4 लाख 90 हजार रुपए तक हुई। फसल को सिंचाई के साथ ड्रीप विधि से खाद दिया गया। वहीं मच्छरों से बचाने के लिए क्राॅप गाॅर्ड भी लगाए गए।

खरगोन जिले के साटकुर के किसान राजेश पाटीदार ने लगाई किस्म, एक ऊपर से पीला, दूसरा अंदर से पाइनापल जैसा

थोक बाजार में दोगुना है दाम

पाटीदार ने बताया विशाला तरबूज थोक बाजार में 15 रुपए व अनमोल 20 रुपए प्रतिकिलो के हिसाब से बेचा गया। सामान्य तरबूज के थोक का भाव काफी कम होता है। विशाला तरबूज को उसके पीले रंग के कारण लोकप्रियता मिल रही है, वहीं ऊपर से सामान्य लेकिन अंदर से पीले रंग के अनमोल किस्म के तरबूज को पाइनापल जैसे स्वाद के कारण पसंद किया जा रहा है। बड़ी मंडियों में जल्दी ही अच्छी मांग की उम्मीद है।

साटकुर के किसान राजेश पाटीदार तरबूज की फसल के साथ। मोबाइल नंबर 99264-64277

भीकनगांव मंें सीएम के सामने प्रेजेंटेशन होगा

पाटीदार ने बताया मंगलवार को भीकनगांव में मुख्यमंत्री शिवराजसिंह चौहान के दौरे के दौरान दोनों वेरायटियों के तजबूजों का उद्यानिकी विभाग की ओर से प्रजेंटेशन होगा। मुख्यमंत्री को तरबूज की नवीन किस्मों की जानकारी देने के साथ मुनाफे व इसकी कृषि विधि के बारे में भी बताएंगे।

नई किस्मों से अच्छा मुनाफा