--Advertisement--

डेढ़ रुपए किलो भाड़ा तो 6.50 रुपए किलो ही मिलेगा भाव

भारतीय किसान संघ ने उठाई परिवहन खर्च देने की मांग भास्कर संवाददाता | खरगोन प्याज उत्पादक किसान उपज बेचने के...

Danik Bhaskar | May 18, 2018, 03:25 AM IST
भारतीय किसान संघ ने उठाई परिवहन खर्च देने की मांग

भास्कर संवाददाता | खरगोन

प्याज उत्पादक किसान उपज बेचने के लिए परेशान हो रहे हैं। गुरुवार को खरीदी के दूसरे दिन कुछ किसान खंडवा गए। परिवहन में काफी खर्चा लग जाने से वे परेशान हो गए। भारतीय किसान संघ ने खरगोन मंडी में प्याज की खरीदी शुरू कराने व किसानों को उपज बेचने में जो भाड़ा लग रहा है उसका भुगतान कराने की मांग की। भीकनगांव क्षेत्र के किसानों को इंदौर व कसरावद क्षेत्र के किसानों को खंडवा प्याज ले जाने में परिवहन की समस्याओं से जूझ रहे हैं। किसानों ने बताया खंडवा या इंदौर उपज ले जाकर बेचने पर प्रति किलो डेढ़ रुपए तक का भाड़ा लग रहा है। यह राशि काटने के बाद किसानों को 4 रुपए किलो भी भाव नहीं मिले। यह राशि भावांतर में नहीं मिलेगी। 8 रुपए किलो का सरकारी दर पर खरीदी जके बावजूद परिवहन खर्च काटने के बाद 6.50 रुपए किलो ही भाव मिल पाएंगे। संघ के जिलाध्यक्ष श्यामसिंह पंवार ने कहा प्याज खरीदी की मांग उद्यानिकी विभाग व प्रशासन कर चुके हैं। स्थानीय मंडी में पिछले सालों में प्याज की बिक्री हुई है। ऐसे ही यहां खरीदी होना चाहिए।

गुरुवार को भीकनगांव क्षेत्र के कुछ किसान प्याज बेचने खंडवा गए। संघ प्रतिनिधियों के मुताबिक बाजार में अभी तक 7 रुपए किलो तक थोक में बिक रहे प्याज की 5 रुपए किलो भाव में बोली लगाई गई। सरकार भावांतर की राशि मिलाकर किसानों को 8 रुपए का भाव चुकाएगी। लेकिन यह सरकार व किसानों का सीधा नुकसान है। किसानों ने बताया 500 रुपए क्विंटल से ऊपर मुश्किल से ही कुछ किसानों की उपज बिकी।