• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhind News
  • समर्थन मूल्य पर सरसों बेचने आए किसानों से कहा- काला-पीला दाना मिक्स है, नहीं खरीदेंगे
--Advertisement--

समर्थन मूल्य पर सरसों बेचने आए किसानों से कहा- काला-पीला दाना मिक्स है, नहीं खरीदेंगे

चना, सरसों और मसूर की खरीदी के पहले दिन विवाद भास्कर संवाददाता | भिंड समर्थन मूल्य पर सरसों बेचने आए किसानों को...

Danik Bhaskar | Apr 17, 2018, 02:25 AM IST
चना, सरसों और मसूर की खरीदी के पहले दिन विवाद

भास्कर संवाददाता | भिंड

समर्थन मूल्य पर सरसों बेचने आए किसानों को पहले ही दिन खरीद केंद्रों से मायूस होकर लौटना पड़ा। केंद्र प्रभारियों ने किसानों की सरसों का दाना काला और पीला मिक्स होने की वजह से खरीदने से इंकार कर दिया। इससे किसानों को न सिर्फ किराए भाड़े का नुकसान हुआ। बल्कि उनका समय भी बेकार गया। वहीं मंडी बंद होने की वजह से किसान अपनी फसल व्यापारियों को भी नहीं बेच सके।

सेामवार से जिले में समर्थन मूल्य पर सरसों, चना, मसूर की खरीद शुरू हुई। लेकिन पहले ही दिन यह खरीदी विवादों में पड़ गई। वजह यह थी कि केंद्र प्रभारियों का कहना था कि वे सिर्फ एक जैसे रंग वाले दाने की सरसों खरीदेंगे। वहीं किसानों का कहना था कि यह बात तो खरीद शुरू होने से पहले ही बताई जाना चाहिए थी। यह तो कियसपसें के साथ धोखा किया जा रहा है। वहीं एसडीएम संतोष तिवारी का कहना है कि काली-पीली मिक्स सरसों की खरीद को लेकर उपजी समस्या पर नैफेड के एक्सपर्ट से चर्चा की जा रही है। किसानों को परेशानी न हो इसलिए खरीद केंद्र पर निर्देश दिए गए हैं।

मानकों में नहीं काली- पीली सरसों का उल्लेख

सरसों के पीएसएस के तहत उपार्जन में एफएक्यू मानकों में काली- पीली मिक्स सरसों न खरीदने का उल्लेख कहीं नहीं है। मानकों में मिलावट बाह्य तत्व तारा मीरा सहित 2 प्रतिशत, अन्य फसलों का समिश्रण तोरिया सहित 10 प्रतिशत, बिना पके, सूखा, मुरझाया, अपरिपक्व व अविकसित 4 प्रतिशत, क्षतिग्रस्त एवं घुना व कीड़ा लगा दाना 2 प्रतिशत, छोटे व कमजोर बीज10 प्रतिशत व नमी 10 प्रतिशत का उल्लेख है।