कार्रवाई: एक की दुकान बंद होते ही 12 फर्जी डॉक्टर भागे

Bhind News - भास्कर संवाददाता | लुकवासा/शिवपुरी जिले के लुकवासा कस्बे में फर्जी डॉक्टर के इलाज से युवक की मौत की घटना के बाद...

Jan 16, 2020, 08:35 AM IST
Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
भास्कर संवाददाता | लुकवासा/शिवपुरी

जिले के लुकवासा कस्बे में फर्जी डॉक्टर के इलाज से युवक की मौत की घटना के बाद गुरुवार को सीएमएचओ खुद टीम के साथ मौके पर पहुंचे। लुकवासा कस्बे में एक वैद्य की दुकान खुली मिली। सर्टिफिकेट होने के साथ स्वास्थ्य विभाग में पंजीयन नहीं होने की वजह से दुकान बंद करा दी है। वहीं कार्रवाई के डर से अन्य 12 फर्जी डॉक्टर अपनी-अपनी क्लीनिक बंद करके भाग गए।

जानकारी के मुताबिक लुकवासा कस्बे में सोमवार को ग्राम रिजौदा निवासी युवक गणेशराम बाथम गिर्राज श्रीवास्तव की दुकान पर इलाज कराने गया था। इलाज के दौरान इंजेक्शन लगा दिया और दवाएं देकर घर भेज दिया। इलाज के दो घंटे बाद गणेशराम की घर पर मौत हो गई। परिजन सोमवार को गणेशराम का शव लेकर कोलारस आए। पुलिस ने पीएम कराकर मर्ग कायम कर लिया। फर्जी डॉक्टर के इलाज से युवक की मौत की घटना के बाद बुधवार को सीएमएचओ डॉ एएल शर्मा, जिला टीकाकरण अधिकारी व एएसओ आईपी गोयल लुकवासा पहुंचे।

अधिकारियों के पहुंचने पर यहां अधिकतर फर्जी डॉक्टर अपने क्लीनिक बंद करके भाग निकले। 73 साल के रामसिंह रघुवंशी का क्लीनिक खुला मिला। पूछताछ करने पर रामसिंह ने कहा कि वह रोगियों को परामर्श देते हैं। अधिकारियों ने जरूरी दस्तावेज मांगे तो रामसिंह ने अपना सर्टिफिकेट दिखाया जो वैद्य विशारद का निकला। लेकिन रामसिंह द्वारा स्वास्थ्य विभाग में अपना कोई पंजीयन नहीं कराया था। इसलिए सीएमएचअो ने क्लीनिक बंद करा दिया है।

फर्जी डॉक्टरों के पर्चे पर मेडिकल स्टोर वाले दे रहे दवाएं

लुकवासा कस्बे में क्लीनिक पंजीकृत नहीं है और मरीजों का एलोपैथिक इलाज किया जा रहा था। यही नहीं कस्बे में मेडिकल स्टोर भी खुले हैं, जो इन्हीं फर्जी डॉक्टरों के पर्चे पर मरीजों को दवाएं दे रहे थे। अधिकारियों ने बताया कि कस्बे में फर्जी डॉक्टरों ने क्लीनिक के नाम नहीं लिखे हैं। लेकिन बैंच डालकर जरूर रखते हैं, ताकि मरीज क्लीनिक पहचान सकें।

प्राथमिक अस्पताल की नर्स से सूची बनवाई, कस्बे में 12 फर्जी डॉक्टर निकले

अधिकारियों की टीम लुकवासा पहुंची तो अधिकतर फर्जी डॉक्टर अपने क्लीनिक बंद करके भाग गए थे। इसके बाद अधिकारी प्राथमिक अस्पताल आए और यहां नर्स से फर्जी डॉक्टरों की सूची बनवाई। जिसमें 12 लोगों के नाम सामने आए हैं। संबंधितों पर कोई भी पंजीयन नहीं है। फिर भी सालों से इलाज कर रहे हैं। वहीं जिस क्लीनिक पर इलाज से युवक की मौत हुई है, वह भी बंद मिला।

Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
X
Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
Mo News - mp news action 12 fake doctors ran away as soon as one shop closed
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना