• Hindi News
  • Mp
  • Bhind
  • Gohad News mp news budget has stuck bonus so farmers are not showing interest in registering support price

बजट ने अटकाया बोनस, इसलिए समर्थन मूल्य के पंजीयन कराने में रुचि नहीं दिखा रहे किसान

Bhind News - जिले में अभी तक बोनस की घोषणा नहीं की गई है समर्थन मूल्य पर पिछले वर्ष उपज बेचने वाले किसानों को अब तक फसल का...

Feb 15, 2020, 07:21 AM IST
Gohad News - mp news budget has stuck bonus so farmers are not showing interest in registering support price

जिले में अभी तक बोनस की घोषणा नहीं की गई है

समर्थन मूल्य पर पिछले वर्ष उपज बेचने वाले किसानों को अब तक फसल का बोनस नहीं दिया गया है। गेहूं खरीदी के लिए किसानों के पंजीयन का काम शुरू हो चुका है लेकिन पंजीयन कराने में किसान इस बार रुचि नहीं ले रहे हैं। हालात यह हैं कि जिले में करीब तीन लाख किसान हैं, इसमें से पिछले 14 दिनों में महज 12 से 15 हजार किसानों ने ही अपनी उपज बेचने के लिए पंजीयन कराया है। अब पंजीयन के लिए 14 दिन शेष रहे गए, लेकिन किसान पंजीयन के लिए केंद्रों पर नहीं आ रहे हैं। जबकि इस साल गेहूं खरीदी का लक्ष्य ढाई लाख टन रखा गया है। खास बात यह है कि जिले में अभी तक बोनस की घोषणा नहीं की गई है। जिससे किसान समर्थन मूल्य पर पंजीयन कराने में संकोच कर रहे हैं।

किसानों का 12.50 करोड़ रुपए का बोनस अटका:जिले में पिछली साल समर्थन मूल्य पर गेहूं बेचने के लिए 20 हजार 534 और सरसों बेचने के लिए 18 हजार 602 किसानों ने पंजीयन कराया था। जिन किसानों ने पिछले साल समर्थन मूल्य पर अपनी उपज बेची थी उनका शासन ने 12 करोड़ 50 लाख रुपए का बोनस रोक लिया है। बोनस का भुगतान इसलिए नहीं हो पा रहा है क्योंकि सरकार के पास बजट का अभाव है। इसलिए इस बार केंद्रों पंजीयन के लिए किसान बेहद कम संख्या में पहुंच रहे हैं। लहार में 1500 हजार, मेहगांव में 2 हजार और गोहद में 1800 किसानों ने अभी तक पंजीयन कराया है। इसके अलावा किसानों को अतिवृष्टि से खराब हुई फसलों की राहत राशि और फसल बीमा का लाभ मिलना बाकी है। इसके बावजूद सरकार किसानों को एक भी योजना के तहत राशि नहीं दे सकी। समर्थन मूल्य पर इस बार 25 मार्च से खरीदी शुरू होने के आसार है। मप्र राज्य सहकारी विपणन संघ द्वारा खरीदी की जाएगी। पिछले साल 20 मार्च से खरीदी शुरू होना थी लेकिन लिंक चालू न होने के कारण 25 मार्च से खरीदी शुरू हो सकी थी। वहीं पंजीयन केंद्रों पर 28 फरवरी तक सरकारी छुट्टी व रविवार को छोड़कर सुबह 10 से शाम 6 बजे तक किसान पंजीयन करवा सकेंगे। इसके लिए किसान स्वयं के मोबाइल से एमपी किसान एप व ई-उपार्जन मोबाइल एप के जरिए भी वे पंजीयन कर सकते हैं।

गेहूं का 1925 रुपए समर्थन मूल्य तय

इस साल गेहूं के समर्थन मूल्य में 4.61 फीसदी की बढ़ोतरी कर भाव 1,925 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है। जबकि पिछले साल गेहूं के समर्थन मूल्य में 6.05 फीसदी की बढ़ोतरी की थी। सरसों के समर्थन मूल्य में 5.35 फीसदी यानि 225 रुपए प्रति क्विंटल की बढ़ोतरी कर 4,425 रुपए प्रति क्विंटल समर्थन मूल्य तय किया है। इस वर्ष रबी के लिए सबसे ज्यादा बढ़ोतरी मसूर के समर्थन मूल्य में 7.26 फीसदी यानि 325 रुपए की कर भाव 4,800 रुपए प्रति क्विंटल तय किया है जबकि पिछले रबी में इसका समर्थन मूल्य 4,475 रुपए प्रति क्विंटल था। इसी तरह चना का समर्थन मूल्य 4620 से 255 रुपए बढ़ाकर 4875 रुपए किया गया है।

28 फरवरी तक होंगे खरीदी के लिए पंजीयन

इस साल एक फरवरी से 28 फरवरी तक गेहूं खरीदी के लिए पंजीयन किए जा रहे हैं। जिले में बनाए गए केंद्रों पर 10 फरवरी से चना व मसूर के पंजीयन भी शुरू किए हैं, जो 28 फरवरी तक किए जाएंगे। इसकी तैयारी को लेकर जिले में बारदाना पहुंचाया जा रहा है। पिछले साल गेहूं, चना, तुअर की खरीदी हुई थी। चना खरीदी के लिए 8 हजार किसानों ने पंजीयन करवाया था। इसमें 3 हजार किसानों ने ही उपज बेची। मसूर व तुअर का पंजीयन कराने वाले सभी किसानों ने उपज नहीं बेची थी। किसान श्यामसुंदर सिंह, कप्तान संह, बंटी सिंह, सुनील सिंह ने बताया कि बाजार में भाव अच्छे मिलने के कारण समर्थन मूल्य पर उपज नहीं बेची। व्यापारी से राशि भी तत्काल मिल जाती है।

बोनस शासन स्तर से आना है, हमने डिमांड भेजी है


गोरमी गल्ला मंडी में केंद्र पर समर्थन मूल्य के पंजीयन कराते किसान।

X
Gohad News - mp news budget has stuck bonus so farmers are not showing interest in registering support price
COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना