प्रकृति से जितना लो, उतना ही लौटाओ: डॉ. अनूप

Bhind News - एमजेएस काॅलेज में अायाेजित कार्यक्रम के दौरान प्राचार्य श्रीवास्तव संबोधित करते हुए। जलवायु परिवर्तन पर...

Nov 21, 2019, 06:26 AM IST
एमजेएस काॅलेज में अायाेजित कार्यक्रम के दौरान प्राचार्य श्रीवास्तव संबोधित करते हुए।

जलवायु परिवर्तन पर शासकीय एमजेएस कॉलेज में हुई संगोष्ठी

भास्कर संवाददाता | भिंड

राष्ट्रीय सेवा योजना द्वारा पूर्व प्रधानमंत्री स्व. जवाहर लाल नेहरू की याद में बुधवार काे शासकीय एमजेएस कॉलेज में संगोष्ठी का आयोजन किया गया। जिसमें मुख्य अतिथि के रूप में जवाहर लाल नेहरू विश्वविद्यालय में जलवायु परिवर्तन विषय पर शोध कर रहे छात्र अमित सिंह राजावत रहे।

उन्होंने कहा कि भारत लोकतांत्रिक देश है। नेहरू सर्वप्रथम व्यक्ति थे, जिन्होंने माना कि लोकतंत्र में सभी को वोट देने का अधिकार होना चाहिए। जिसके बाद देश में 18 साल का हर नागरिक वोट कर सकता है। उन्होंने आगे बताया कि भारत ने गुट निरपेक्ष अपनाया वह नेहरू की सोच थी। साथ ही वे समाजवाद और पूंजीवाद के समर्थक थे। नेहरू ने कहा कि उद्योग में हम जब आगे बढ़ना चाहें तो हमें रॉ मटेरियल और उर्जा की आवश्यकता होंगी। इसके लिए समाजवाद और पूंजीवाद को लेकर साथ चलना जरूरी है। इसी क्रम में उन्होंने विश्व में बढ़ रहे प्रदूषण पर अपनी चिंता व्यक्त की। कार्यक्रम में महाविद्यालय प्राचार्य डॉ.अनूप श्रीवास्तव ने कहा कि पर्यावरण को बचाने है तो हम सभी को पर्यावरण के प्रति अपनी सोच को बदलना होगा। क्योंकि हम प्रकृति से जितना लेते हैं। उसको उसका एक प्रतिशत वापस नहीं कर पाते हैं। इसी वजह से आज हम सभी प्रदूषण से ग्रस्त हैं। इसके लिए हमें अधिक से अधिक पौधे रोपना चाहिए। साथ ही बारिश के पानी का संरक्षण करना चाहिए। इस मौके पर डॉ.आरए शर्मा, प्रो.राजेंद्र सिंह राठौर, प्रो.अल्का, अतुलेश, सत्यम,इंद्रजीत, आदित्य दुबे, अंशुल, संघप्रिय, अजीत त्रिपाठी, देवरथ, ध्रुव, मोहित, सर्वेश, शिवकुमार, अश्वनी भदौरिया, राहुल राजपूत मौजूद रहे।

X

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना