--Advertisement--

सूरज व प्रियंका ने इक-दूजे को देखा और चेहरे पर बिखर गई मुस्कान

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2019, 04:00 AM IST

Bhind News - कैलारस से आए सूरज अग्रवाल जब मंच पर आए तो उनके सामने खड़ी थीं ग्वालियर की प्रियंका बिंदल। पहले दोनों ने एक-दूसरे का...

Mo News - mp news suraj and priyanka looked at me and smiled at the face
कैलारस से आए सूरज अग्रवाल जब मंच पर आए तो उनके सामने खड़ी थीं ग्वालियर की प्रियंका बिंदल। पहले दोनों ने एक-दूसरे का परिचय दिया। मंच से नीचे बैठे दोनों के माता-पिता ने दोनों को देखा। इधर मंच पर खड़े सूरज को देखकर प्रियंका पहले थोड़ी सकुचाई फिर चेहरे पर हल्की मुस्कुराहट बिखर गई। मानों दोनों ने तय कर लिया कि यही मेरे लिए सही हमसफर है। परिजन की रजामंदी मिलते ही दोनों का संबंध पक्का होने की घोषणा मंच से ही कर दी गई। जल्द ही दोनों विवाह बंधन में बंधेंगे।

मौका था वैश्य समाज के दो दिवसीय परिचय सम्मेलन का। रविवार को दूसरे दिन मंच से देशभर से आए 100 से अधिक युवक-युवतियों ने अपना परिचय दिया। कई युवक-युवतियों के बीच सगाई-संबंध, गौत्र सहित अन्य विषयों पर चर्चा चल रही है। लेकिन चार जोड़ों की शादी तय हो गई। इनमें कैलारस के सूरज व ग्वालियर की प्रियंका भी शामिल थीं। इस मौके पर मुख्य अतिथि कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी, वैश्य समाज के मुख्य संरक्षक ओमप्रकाश बंसल ने जोड़े को आशीर्वाद दिया और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की। मंच पर नीलम बिंदल, मीना गुप्ता संभागीय अध्यक्ष, संध्या सुरभि, किशोरी गुप्ता अध्यक्ष वैश्य समाज, रजनी अग्रवाल, राकेश गर्ग एडवोकेट आदि मौजूद थे।

संदेश...लड़के के पिता का आह्वान...मैं बहू नहीं बेटी लेने आया हूं, दहेज मुक्त करूंगा बेटे की शादी, आप भी लें संकल्प

सम्मेलन के मंच पर एक-दूसरे को देखकर प्रसन्न होते सूरज व प्रियंका।

सूरज के पिता बोले-बहू नहीं यह मेरी बेटी है

सूरज व प्रियंका का संबंध पक्का होने के बाद दोनों पक्षों के परिजन मंच पर मौजूद थे। लड़के सूरज के पिता डॉ. हरिश्चंद्र ने कहा कि-यह मेरी तीन बेटियां थीं, तीनों की शादी कर दी। आज मैं यहां से बहू नहीं बेटी लेकर जा रहा हूं। मैं अपने बेटे की शादी में दहेज नहीं लूंगा। आपको भी यह संकल्प लेना चाहिए कि बेटे की शादी में दहेज न लें, तभी लोग बेटियों को अभिशाप मानना बंद करेंगे। इस पर पूरा हॉल तालियों से गूंज उठा।

संभाग ही नहीं, जिला व ब्लॉक स्तर पर भी हों परिचय सम्मेलन: बंसल

वैश्य महासभा के मुख्य संरक्षक ओमप्रकाश बंसल ने परिचय सम्मेलन के मंच से कहा कि जैसा आयोजन मुरैना में संपन्न हुआ है। ऐसा ही आयोजन हर जिला व तहसील स्तर पर हो तो वैश्य समाज के आर्थिक रूप से कमजोर तबके को बेटे-बेटियों के लिए रिश्ता तलाशने के लिए बाहर नहीं जाना होगा। श्री बंसल ने कहा कि यह आपका और हमारा सौभाग्य है कि इस मंच से दर्जनों परिवार जुड़े, दर्जनों परिवारों के बीच चर्चा चल रही है। यदि हमने 10 बेटियों के संबंध भी यहां से तय करवाए तो यह हमारे लिए सबसे बड़ा पुण्य होगा। उन्होंने समाजबंधुओं से आह्वान किया कि आप सभी ऐेसे आयोजनों को निरंतर प्रोत्साहित करें।

परिचय सम्मेलन से घटते हैं खर्चे, बढ़ती है एकजुटता: विधायक रघुवंशी

परिचय सम्मेलन के दूसरे दिन मुख्य अतिथि के रूप में मौजूद कोलारस विधायक वीरेंद्र रघुवंशी ने कहा कि-वैश्य वर्ग दीन-हीन की सेवा करने वाला वर्ग है। आज मुरैना आकर मेरा मन प्रसन्न हो गया। समाज के हर तबके के युवक-युवती व उनके परिजन यहां मौजूद हैं। इससे न सिर्फ हमारे और समय और रुपए की बचत होगी। बल्कि इससे समाज एकजुट होगा। श्री रघुवंशी ने कहा कि-वैश्य समाज को राजनीति में भी आगे आना चाहिए। तभी उन्हें सशक्त प्रतिनिधित्व मिल सकेगा। उन्होंने परिचय सम्मेलन के लिए मुख्य संरक्षक ओमप्रकाश बंसल का धन्यवाद ज्ञापित किया।

X
Mo News - mp news suraj and priyanka looked at me and smiled at the face
Astrology

Recommended

Click to listen..