• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Bhind
  • Bhind - स्कूली बच्चों ने बनाए मिट्टी के गणेश, गमले में करेंगे विसर्जन
--Advertisement--

स्कूली बच्चों ने बनाए मिट्टी के गणेश, गमले में करेंगे विसर्जन

13 सितंबर गुरुवार को गणेश चतुर्थी है। घरों आैर प्रतिष्ठानों में प्रतिमाएं स्थापित होंगी। दैनिक भास्कर के मिट्टी...

Dainik Bhaskar

Sep 13, 2018, 02:20 AM IST
Bhind - स्कूली बच्चों ने बनाए मिट्टी के गणेश, गमले में करेंगे विसर्जन
13 सितंबर गुरुवार को गणेश चतुर्थी है। घरों आैर प्रतिष्ठानों में प्रतिमाएं स्थापित होंगी। दैनिक भास्कर के मिट्टी के गणेश, घर में विसर्जन अभियान से प्रेरित होकर आज शासकीय आदर्श स्कूल में बच्चों ने मिट्टी से गणेश प्रतिमाएं बनाईं। इन्हीं में एक बड़ी प्रतिमा स्कूल में स्थापित की जाएगी। इसका विसर्जन भी स्कूल परिसर में बड़े गमले में किया जाएगा। इसमें तुलसी का पौधा रोपा जाएगा। बाजार में लोग मिट्टी से निर्मित गणेश प्रतिमाएं तलाश रहे हैं। पीओपी से निर्मित प्रतिमाओं को महत्व नहीं दे रहे हैं।

गणेश चतुर्थी आज

शासकीय आदर्श स्कूल में बच्चों को दी गई जानकारी- क्यों श्रेष्ठ है मिट्टी के गणेश का पूजन करना

पीओपी के दुष्प्रभाव की दी जानकारी

बच्चों को स्कूल में हेड मास्टर प्रमोद त्रिवेदी ने पीओपी से निर्मित प्रतिमाओं के दुष्परिणामों की जानकारी दी। उन्होंने कहा पीआेपी ऐसा पदार्थ है जो पानी के संपर्क में आने और सूखने पर पत्थर की भांति सख्त हो जाता है। जब हम पीओपी की प्रतिमाओं को स्थापित करते हैं और महोत्सव के बाद इनका विसर्जन नदी और तालाबों में करते हैं। तब यह गलती नहीं हैं ज्यों की त्यों पड़ी रहती हैं। नदी व तालाब की तलहटी में जम जाती हैं। इससे पानी की री- चार्जिंग प्रक्रिया में अवरोध उत्पन्न होता है। पीओपी से निर्मित प्रतिमाएं हमारे पर्यावरण के लिए अनुकूल नहीं हैं। अत: हमें मिट्टी से निर्मित प्रतिमाओं की ही स्थापना करना चाहिए और प्रतिमाओं का विसर्जन घर पर गमले में करना चाहिए। इससे गणेश जी की कृपा हम पर हमेशा बनी रहेगी।

स्कूल के पूर्व छात्र ईशू के निर्देशन में बच्चों ने बनाई प्रतिमाएं

आदर्श स्कूल के पूर्व छात्र ईशू राठौर के निर्देशन में बच्चों ने मिट्टी के गणेश बनाए। बच्चे निकटस्थ में कुंभकार के घर से मिट्टी लेकर आए। इससे कंकड़- पत्थर निकालने के बाद पानी डालकर लुगदी बनाई और नन्हे हाथ छोटी- बड़ी प्रतिमाएं गढ़ने लगे। ईशू द्वारा बनाई गई बड़ी प्रतिमा स्कूल में ही स्थापित की जाएगी। जबकि छोटी- छोटी प्रतिमाएं बच्चे अपने घर ले जाकर स्थापित करेंगे।

हर कोई तलाश रहा मिट्टी के गणेश की प्रतिमाएं: बाजार में पीओपी प्रतिमाओं का क्रेज कम हो गया है। बच्चे, युवा और बड़े बाजार में मिट्टी के गणेश की प्रतिमाएं तलाश रहे हैं। अगर इनका दाम कुछ अधिक है तो लोग इसे भी चुकाने को तैयार हैं। मिट्टी के गणेश शहर में जेल रोड, गांधी मार्केट, हॉस्पिटल के सामने मिल रहे हैं। बाजार में साइज के हिसाब से इनकी कीमत 10 रुपए से लेकर 2 हजार रुपए तक है।

X
Bhind - स्कूली बच्चों ने बनाए मिट्टी के गणेश, गमले में करेंगे विसर्जन
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..