--Advertisement--

खुदकुशी / मौत से पहले भव्य ने पहनी थी बहन की लेगिंग व टीशर्ट, डॉक्टरों ने माना डिसऑर्डर



12th class student suicide
X
12th class student suicide

  • सुमित्रा परिसर में 12वीं के छात्र की मौत का मामला
  • मामा का सवाल- यदि ये आत्महत्या है तो उसे किसने उकसाया

Dainik Bhaskar

Dec 08, 2018, 04:52 AM IST

भोपाल . सुमित्रा परिसर में मदर टेरेसा स्कूल के 12वीं कक्षा के छात्र भव्य बागड़े की मौत किन परिस्थितियों में हुई दो दिन बाद भी इसका खुलासा नहीं हो सका है। मौके पर मिले सबूत देखकर पुलिस इसे खुदकुशी मान रही है। ये कदम उठाने से पहले उसने बहन की लेगिंग और टीशर्ट पहनी थी। डॉक्टरों ने इसे एक किस्म का डिसऑर्डर माना है। हालांकि, परिवार का तर्क है कि यदि भव्य ने खुद ही दुपट्टे से अपना दम घोंटा तो उसके हाथ गले से दूर क्यों थे? 

 

भव्य की मौत का पता गुरुवार शाम तब चला जब उसकी मां सुरेखा घर लौटीं। दरवाजा अंदर से बंद था। सुरेखा ने किराएदार बाबूलाल व एक महिला की मदद से खिड़की से हाथ डालकर बैडमिंटन की मदद से दरवाजे की कुंडी खोल ली। अंदर जाकर देखा कि भव्य अपने बिस्तर पर पड़ा था। उसके चेहरे पर पॉलिथीन और गले में दो दुपट्टे लिपटे थे। पैर भी एक कपड़े से बंधे मिले।

 

भव्य ने युवतियों की लेगिंग और टीशर्ट पहनी हुई थी। एएसपी संजय साहू के मुताबिक घटनास्थल की परिस्थितियां देखकर ये मामला खुदकुशी जैसा ही लगता है। डॉक्टरों की पैनल से शुक्रवार दोपहर भव्य के शव का पोस्टमार्टम करवाया गया है। फिलहाल पीएम रिपोर्ट नहीं मिली है। इसके बाद ही किसी नतीजे पर पहुंचा जा सकेगा। परिवार के भी बयान लिए जाएंगे, ताकि ये पता चल सके कि उसने युवतियों के परिधान क्यों पहने हुए थे? 


आज खेलना था फाइनल मैच : भव्य की मौत का पता चलते ही उसके दोस्त और टीचर्स शुक्रवार को उसके घर पहुंचे। दोस्तों का कहना है कि भव्य एक अच्छा क्रिकेटर भी था। शुक्रवार को स्कूल में फाइनल मैच होना था। उसके मामा ने बताया कि भव्य बेहद शालीन था। घर की कई जिम्मेदारियां उसी ने संभाल रखी थीं।

 

जैसे खुला, वैसे बंद भी किया जा सकता है दरवाजा : मामा राहुल रंगारे ने भव्य की मौत पर सवाल उठाया है। राहुल कौटिल्य कोचिंग एकेडमी के संचालक हैं। उनका कहना है कि यदि ये खुदकुशी है तो भव्य को ऐसा करने के लिए आखिर किसने उकसाया? यदि ऐसा नहीं है तो दरवाजा जैसे खिड़की से हाथ डालकर खोला गया वैसे बंद भी तो किया जा सकता है। जब सुरेखा कमरे में पहुंचीं तो भव्य के हाथ शरीर से दूर थे। उसने दुपट्टे से खुद का गला घोंटा है तो ऐसा कैसे संभव है? पुलिस को जांच के दौरान इन बिंदुओं का भी ख्याल रखना चाहिए। 
 

Bhaskar Whatsapp
Click to listen..