मंडे पॉजिटिव / अफ्रीका के सबसे ऊंचे पर्वत किलिमंजारो पर चढ़ाई करेगा 15 साल का अमन, 48 साल की अनिता



15 years of peace will climb Africa's highest mountain Kilimanjaro
X
15 years of peace will climb Africa's highest mountain Kilimanjaro

  • मरान्गु गेट से चढ़ाई की शुरुआत, 19341 फीट की ऊंचाई 5 दिन की यात्रा के बाद तय होगी 
  • मध्य प्रदेश की माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली मेघा परमार इन्हें लीड करेंगी

Dainik Bhaskar

Sep 16, 2019, 07:09 AM IST

भोपाल (अनूप दुबे) . अफ्रीका का सबसे ऊंचा पर्वत किलिमंजारो... ऊंचाई 19 हजार 341 फीट... पर्वतारोहियों के लिए यह किसी रोमांच से कम नहीं है। यहां जैसे-जैसे आप ऊपर चढ़ते हैं...मौसम के बदलते मिजाज का सीधा साक्षात्कार होता चला जाता है। मौसम के कठिन पल यहां हर वक्त एक कठिन परीक्षा के लिए हमेशा तैयार रहते हैं। शायद इसीलिए किलिमंजारो पर्वतों की एक चुनौती का नाम है। इसकी चर्चा इसलिए कि राजधानी के 15 वर्षीय अमन गाैर, 48 वर्षीय अनिता डामौर और 40 वर्षीय डॉ. जय प्रकाश इस पर्वत की चढ़ाई करने जा रहे हैं। इन्हें लीड करेंगी माउंट एवरेस्ट फतह करने वाली मेघा परमार।

 

एवरेस्ट की ऊंचाई इस पर्वत से अधिक लेकिन चुनौतियां किलिमंजारो में ज्यादा, वजह- पल-पल बदलता कठिन मौसम

अमन कराटे में ब्लैक बेल्ट हैं। रोज 7 किमी तक की रनिंग करते हैं। इसके साथ ही साइकिलिंग और योग के माध्यम से अपने दिमाग पर नियंत्रण कर रहें हैं, ताकि किलिमंजारो पर्वत पर हर पल बदलते मौसम से दिमाग पर पड़ने वाले दुष्परिणाम को कम किया जा सके। अमन ने बताया कि करीब 20 दिन पहले उनकी पूर्व पीटीआई टीचर मेघा परमार स्कूल आईं थीं। उन्होंने एक फिटनेस टेस्ट लिया था, जिसमें मैं फर्स्ट आया। उन्होंने मेरे माता-पिता से बात की और फिर मैं इस चुनौती के लिए तैयार हो गया। उन्होंने मुझे पर्वत के बारे में बताया कि वहां पर मौसम ही सबसे बड़ी चुनौती है। पहाड़ पर पहले ग्रीनरी रहती है। उसके खत्म होते ही बारिश होने लगती है। फिर धीरे-धीरे ऑक्सीजन की कमी हाेने लगती है। मौसम रुखा हो जाता है। इसके बाद ठंड पड़ने लगती है। ऐसे में हाइपोथर्मिया (इसमें शरीर का तापमान सामान्य से कम हो जाता है) हो जाता है, जो सबसे अधिक चुनौती भरा होता है। यही कारण है कि माउंट एवरेस्ट(ऊंचाई 29002 फीट) की अपेक्षा किलिमंजारो पर्वत की चढ़ाई काफी कम है लेकिन किलिमंजारो में मौसम कठिन है। यहां पर चढ़ाई के दौरान सबसे ज्यादा मौतें होती हैं। 

 

ये अभियान महिलाओं के लिए....अनीता 48 साल की उम्र में भी एथलीट की तरह रोज मॉर्निंग वॉक, कसरत और योग करती हैं। वह कुछ सहेलियों के साथ मिलकर इन्वायरमेंट के लिए भी काम करती हैं। उन्होंने बताया कि वे इस खतरनाक चढ़ाई के साथ पर्यावरण, स्वच्छता और महिलाओं में फिटनेस की जागरूकता का संदेश लेकर अपना अभियान शुरू कर रहीं हैं। 

 

ऐसे जाएंगे अफ्रीका... अफ्रीका की यात्रा पर जाने के पूर्व यात्री को यलो बुखार का एक इंजेक्शन लगवाना अनिवार्य होता है, ताकि वहां की बीमारी भारत न आ सकें। ग्रुप मेंबर 18 सितंबर को मुंबई एयरपोर्ट से किलिमंजारो एयरपोर्ट तक फ्लाइट से जाएंगे। 19 सितंबर को मरान्गु गेट से पर्वत की चढ़ाई शुरू करेंगे। पांच दिन की यात्रा करते हुए 23 सितंबर को 19 हजार 341 फीट की ऊंचाई तक पहुंचेंगे।

COMMENT

आज का राशिफल

पाएं अपना तीनों तरह का राशिफल, रोजाना