--Advertisement--

मारने के लिए 52 Rs में घर पार्सल किया था बम, पकड़ाया तो पूछा- वो मरा कि नहीं

पार्सल बम मामले में 38 लाख गबन के आरोपी ने रची थी साजिश।

Dainik Bhaskar

Jan 28, 2018, 03:58 AM IST
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी, दोनों के चेहरे ढके हुए। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी, दोनों के चेहरे ढके हुए।

सागर. शहर के मेन पोस्ट ऑफिस के सुपरीटेंडेंट केके दीक्षित को पार्सल बम से मारने की साजिश 38 लाख रुपए की गबन के मामले में हटाए गए उन्हीं के डिपार्टमेंट के पूर्व कर्मचारी हेमंत उर्फ आशीष साहू ने रची थी। इंटरनेट पर बम बनाने का तरीका खोजकर उसने पूरी प्लानिंग से वारदात को अंजाम दिया था।

पकड़े जाने पर हेमंत का पहला सवाल- दीक्षित मरा कि नहीं?
- पुलिस ने विस्फोट के मास्टर माइंड हेमंत साहू पिता लाल सिंह साहू निवासी सींगना थाना सुरखी को उसी के गांव से पकड़ा।
- उसने पूछताछ में बताया कि वह जिले के ही रामपुर पोस्ट ऑफिस में करता था।
- उसे केके दीक्षित ने एक घोटाले में फंसाकर नौकरी से निकाल दिया। वह दीक्षित से बदला लेना चाहता था।
- उसने पकड़े जाने पर पुलिस से पूछा कि दीक्षित मरा कि नहीं?

आरोपी बोला- नेट पर खोज लो बम बनाने के तरीके मिल जाएंगे
- मास्टर माइंड साहू कम्प्यूटर का अच्छा जानकार है। गबन में भी उसने अपने इस तकनीकी ज्ञान का उपयोग किया।
- जब पुलिस ने बम बनाने के बारे में पूछा तो उसने कहा कि नेट पर सर्च करो कई तरीके मिल जाएंगे।
- अारोपी ने बताया कि बाजार से FM रेडियो खरीदकर उसे पहले खाली किया और उसमें देशी बड़े पटाखे व अन्य सामान का उपयोग किया।

आगे की स्लाइड्स में देखें हादसे के बाद घर की फोटोज...

पार्सल देने पोस्ट आफिस जाते दो आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए। पार्सल देने पोस्ट आफिस जाते दो आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए।
विस्फोट में घर में रखे सामान के उड़े परखच्चे। विस्फोट में घर में रखे सामान के उड़े परखच्चे।
कमरे का मंजर। कमरे का मंजर।
अधीक्षक दीक्षित बेटे रीतेश के साथ अधीक्षक दीक्षित बेटे रीतेश के साथ
विजय मिश्रा, डॉ. रीतेश के मामा विजय मिश्रा, डॉ. रीतेश के मामा
X
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी, दोनों के चेहरे ढके हुए।पुलिस की गिरफ्त में आरोपी, दोनों के चेहरे ढके हुए।
पार्सल देने पोस्ट आफिस जाते दो आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए।पार्सल देने पोस्ट आफिस जाते दो आरोपी सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गए।
विस्फोट में घर में रखे सामान के उड़े परखच्चे।विस्फोट में घर में रखे सामान के उड़े परखच्चे।
कमरे का मंजर।कमरे का मंजर।
अधीक्षक दीक्षित बेटे रीतेश के साथअधीक्षक दीक्षित बेटे रीतेश के साथ
विजय मिश्रा, डॉ. रीतेश के मामाविजय मिश्रा, डॉ. रीतेश के मामा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..