--Advertisement--

बैंक क्लर्क एग्जाम में हुआ फेल तो बैंकों में ही करने लगा चोरी, GF से किया था गोवा ट्रीप का प्रोमिस

ब्रांचों में घुसकर मोबाइल फोन और महिलाओं के पर्स चुराने वाले शातिर चोर को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया।

Danik Bhaskar | Dec 20, 2017, 01:08 AM IST
पुलिस की गिरफ्त में आरोपी। पुलिस की गिरफ्त में आरोपी।

भोपाल . राजधानी की अलग-अलग बैंक की ब्रांचों में घुसकर मोबाइल फोन और महिलाओं के पर्स चुराने वाले शातिर चोर को पुलिस ने अरेस्ट कर लिया। आरोपी ने बैंक क्लर्क की एग्जाम दिया था, जिसके बाद उसने बैंको को ही टारगेट करना शुरू कर दिया था। उसने अपनी एक गर्लफ्रेंड को गोवा घुमाने का वादा भी किया था। इसके लिए वह रुपए इकट्ठे कर रहा था। अारोपी ने बाइक चोरी की दो और बैंक में हुई वारदात कबूल की हैं।

गर्लफ्रेंड को गोवा घुमाने जुटा रहा था रकम

- पुलिस के मुताबिेक, संदीप बीकॉम पास है। उसने जनवरी 2017 में बैंक क्लर्क परीक्षा दी थी। इसमें वह फेल हो गया, जिसके बाद से उसने बैंकों में चोरी करनी शुरू कर दी। उसके पिता की तबीयत खराब रहती है, इसके बाद भी उसने पैसे कमाने के लिए चोरी का रास्ता अख्तियार कर लिया। पूछताछ में उसने बताया है कि उसकी एक गर्लफ्रेंड भी है। उसे आरोपी ने गोवा घुमाने का वादा किया था। यहां होने वाले खर्च जुटाने के लिए वह चोरियां कर रहा था।

जिस बाइक से घूम रहा था वो भी चोरी की

- 8 दिसंबर को बैंक ऑफ इंडिया में हुई चोरी के दौरान शातिर चाेर का हुलिया सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया। इसकी मदद से पुलिस आरोपी को तलाश रही थी। इसी बीच किलोल पार्क मस्जिद के पीछे आरोपी नजर आ गया।

- एएसपी के मुताबिक आरोपी ए-सेक्टर टीला जमालपुरा के रहने वाले 28 साल के संदीप बलवानी है। पूछताछ में उसने अलग-अलग बैंकों में घुसकर सामान चुराने की पांच वारदातें कबूल कीं। वह जिस बाइक से घूम रहा था, वह भी चोरी की निकली।

- इस बाइक को भी उसने एमपी नगर जोन-2 स्थित एक बैंक के सामने से चुराया था। जबकि, दूसरी बाइक एक कोचिंग क्लास की पार्किंग से चुराई थी। इस आधार पर पुलिस ने आरोपी को गिरफ्तार कर लिया है।

4 महीने में सात वारदातों को दिया अंजाम

- मार्च 2017 में बागसेवनिया पुलिस ने भी संदीप को अरेस्ट किया था। सितंबर में वह जेल से जमानत पर छूटा है।

- इसके बाद उसने महज चार महीने के भीतर चोरी की सात वारदातों को अंजाम दे दिया। फिलहाल ये वे वारदातें हैं, जो पुलिस उससे उगलवा सकी है।

- उससे करीब दो लाख रुपए का माल बरामद किया गया है। पुलिस उससे अन्य मामलों में भी पूछताछ कर रही है।

बहाने होता था बैंक कैंपस में दाखिल

- आरोपी लोन लेने की प्रक्रिया जानने के बहाने बैंकों में दाखिल होता था। वक्त भी वह दिन का चुनता था, जब लंच होने पर महिला कर्मचारी अपने पर्स बैंक में छोड़कर बाहर निकलती थीं। इसी दौरान मौका पाकर वह टेबल पर रखे पर्स या मोबाइल फोन चुरा लेता था।

- उसकी तस्वीरें बैंक ऑफ इंडिया, इलाहाबाद बैंक और केनरा बैंक में लगे सीसीटीवी कैमरों में भी कैद हुई थीं। पुलिस ने ये तस्वीरें जब सोशल मीडिया पर पुलिसकर्मियों को भेजीं तो बागसेवनिया थाने में एएसआई ने आरोपी को पहचान लिया।

आरोपी के पास बरामद मोबाइल और गहने। आरोपी के पास बरामद मोबाइल और गहने।
बरामद बाइक। बरामद बाइक।
संदीप (फाइल फोटो) संदीप (फाइल फोटो)