भोपाल

--Advertisement--

ईंट के रुपए दिए फिर भी पीएनबी का चेक नहीं दे रहे, इसलिए कर रहा हूं आत्महत्या...

ईंट के रुपए दे दिए बावजूद पीएनबी का चेक नहीं लौटा रहे हैं, इसलिए आत्महत्या कर रहा हूं।

Dainik Bhaskar

Jan 06, 2018, 06:17 AM IST
Brick is not paying PNB checks yet

होशंगाबाद/माखननगर. भोपाल की दिलीप बिल्डकान कंपनी में व्हीकल इंचार्ज का काम करने वाले अनमोल शर्मा ने सल्फाॅस खाकर जान दे दी। वह बाबई नगर पंचायत की भाजपा पार्षद सुमन प्रजापति के बेटे राकेश और बद्री प्रजापति से परेशान थे। सुसाइड नोट में अनमोल ने इसका जिक्र किया। लिखा ईंट के रुपए दे दिए बावजूद पीएनबी का चेक नहीं लौटा रहे हैं, इसलिए आत्महत्या कर रहा हूं।

अनमोल ने गुरुवार रात करीब 2 बजे घर में ही सल्फॉस खाया था। परिजन उन्हें सरकारी अस्पताल ले गए। जहां से होशंगाबाद के निजी अस्पताल में भर्ती किया था। शुक्रवार को मौत हो गई। अनमोल के पास से 4 पेज का सुसाइड नोट मिला है। इसमें वार्ड 8 की भाजपा पार्षद सुमन प्रजापति के बेटे बद्री प्रजापति व राकेश प्रजापति की प्रताड़ना से तंग आकर जान देने की बात लिखी है। पुलिस ने सुसाइड नोट जब्त कर लिया है। जांच में साफ होगा कि प्रताड़ित कितना किया था और उसका स्तर क्या था। एसपी ने जांच के आदेश दिए हैं।


एसपी अरविंद सक्सेना ने बताया बाबई के आवास काॅलोनी में रहने वाले मिथिलेश शर्मा के बेटे अनमोल शर्मा ने मकान बनाया था। उन्होंने ईंट राकेश और बद्री प्रजापति से ली थी। इसके बदले में पीएनबी का चेक दिया था। अनमोल ने दोनों को ईंट के रुपए नकद दे दिए थे लेकिन चेक नहीं लौटा रहे थे।

शव रख प्रदर्शन
अनमोल का शव नसीराबाद चौराहे पर रख परिजनों ने जाम कर दिया। अधिकारियों ने तीन दिन में जांच और आरोपियों की गिरफ्तारी की मांग मानी तब लोग माने।

अनमोल पर 25 हजार रुपए लेने के लिए बनाया था दबाव
बाबई थाना प्रभारी गिरीश खरे ने बताया अनमोल पर बद्री प्रजापति व राकेश प्रजापति ने 25 हजार रुपए लेने के लिए दबाव बनाया था। अनमोल ने यह बयान दिया है। अब मर्ग डायरी आने पर प्रकरण दर्ज किया होगा। अभी परिजनों के बयान नहीं हुए हैं। हालांकि कुछ लोगों से पूछताछ की जा रही है।

सुसाइड नोट के कुछ अंश
अनमोल पिता मिथिलेश, पुलिस और न्यायाधीश् के नाम पर पत्र लिखकर गया है। उसने लिखा है कि मैंने राकेश और बद्री को 20 नवंबर 2017 को पूरे रुपए दे दिए हैं। रुपए देने से पहले मैंने उन्हें पंजाब बैंक का एक चेक भी अमानत के रूप में दिया था, लेकिन ये लोग चेक वापस नहीं कर रहे हैं और जबरन पैसों की मांग कर रहे हैं। वे आए दिन मुझे डरा रहे हैं। 3 जनवरी को भी उन्होंने मुझे डराया और धमकाया था। इससे आहत होकर मैं आत्महत्या कर रहा हूं। पिता जी अपना ध्यान रखना और मुझे माफ कर देना।

शाम को किया अंतिम संस्कार :

शव का पीएम जिला अस्पताल में हो गया था। परिजन उसे लेकर बाबई गए। यहां शाम को अंतिम संस्कार कर दिया।

मैं अभी जयपुर में हूं। आने के बाद पूरा मामला समझूंगा। पार्षद की गलती होगी तो पार्टी को अवगत करा दूंगा। अभी मुझे कोई जानकारी नहीं है।-हरि जायसवाल, जिलाध्यक्ष भाजपा

मुझे बेटों के लेनदेन की जानकारी नहीं है। घटना का पता शुक्रवार की दोपहर उस वक्ता चला जब अनमोल की मृत्यु की खबर आई।- सुमन प्रजापति, पार्षद, वार्ड 8

X
Brick is not paying PNB checks yet
Click to listen..