--Advertisement--

सैनिकों को मिली मोबाइल तोड़ने की सजा, चीनी मीडिया ने वीडियो किया वायरल

इंडियन आर्मी का चीन के एक न्यूज चैनल की वेबसाइट पर वीडियो दिखाने का मामला सामने आया है।

Dainik Bhaskar

Dec 17, 2017, 05:20 AM IST
चीन के न्यूज चैनल 'चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क' ने अपनी ऑफिशियल साइट पर एक वीडियो  अपलोड किया है। चीन के न्यूज चैनल 'चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क' ने अपनी ऑफिशियल साइट पर एक वीडियो अपलोड किया है।

सागर (मध्य प्रदेश). चीन के न्यूज चैनल 'चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क' ने अपनी ऑफिशियल साइट पर एक वीडियो शुक्रवार को अपलोड किया है। इसमें महार रेजीमेंट सेंटर के अंदर कुछ सैनिकों की मौजूदगी में उनके मोबाइल फोनों को सजा के तौर पर पत्थरों से तोड़ते हुए दिखाया गया है। इस वीडियो पर भारतीय सेना ने सफाई दी है। रेजीमेंट के एक अफसर का कहना है कि यह वीडियो किसी सैन्यकर्मी ने सोशल मीडिया पर अपलोड कर दिया जिसका चाईनीज मीडिया गलत तरीके से पेश कर रहा है।

केवल 2 जी फोन के यूज की है इजाजत

अफसरों ने बताया कि जहां तक सैनिकों के लिए फोन यूज की बात है तो उनके लिए सेंटर के अंदर 9 एसटीडी-पीसीओ बूथ हैं। इसके अलावा उन्हें 2 जी फोन रखने की इजाजत है, लेकिन जब कभी वह ट्रेनिंग या ऑफिशियल वर्किंग पर रहेंगे, उन्हें अपना मोबाइल प्लाटून कमांडर के पास जमा करना होगा। फ्री टाइम में वह इसका यूज कर सकते हैं।

कब का है वीडियो

सेना के अफसरों का कहना है कि वीडियो दो साल पुराना यानी सितंबर 2015 का है। वीडियो में दिखाए गए फोन इसलिए तोड़े गए क्योंकि ट्रेनी सिपाही आदेशों का उल्लंघन करते हैं, जबकि उन्हें ड्रिल, वेपन-ट्रेनिंग क्लासेज के दौरान मोबाइल यूज की इजाजत नहीं है। ट्रेनीज को पहले चेतावनी देकर मोबाइल यूज करने से रोकते हैं। जो इस आदेश को नहीं मानते उनका फोन जब्त कर लिया जाता है। इसके बाद दोबारा ऐसी हरकत करते पकड़े जाने पर ही उनका फोन तोड़ा जाता है।

सेना के अफसरों का कहना है कि यह वीडियो दो साल पुराना यानी सितंबर 2015 का है। सेना के अफसरों का कहना है कि यह वीडियो दो साल पुराना यानी सितंबर 2015 का है।
वीडियो मध्यप्रदेश के सागर की महार रेजीमेंट का है। वीडियो मध्यप्रदेश के सागर की महार रेजीमेंट का है।
सैनिको की मौजदगी में तोड़े गए मोबाइल फोन। सैनिको की मौजदगी में तोड़े गए मोबाइल फोन।
मोबाइल फोन तोड़ते जवान। मोबाइल फोन तोड़ते जवान।
X
चीन के न्यूज चैनल 'चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क' ने अपनी ऑफिशियल साइट पर एक वीडियो  अपलोड किया है।चीन के न्यूज चैनल 'चाइना ग्लोबल टेलीविजन नेटवर्क' ने अपनी ऑफिशियल साइट पर एक वीडियो अपलोड किया है।
सेना के अफसरों का कहना है कि यह वीडियो दो साल पुराना यानी सितंबर 2015 का है।सेना के अफसरों का कहना है कि यह वीडियो दो साल पुराना यानी सितंबर 2015 का है।
वीडियो मध्यप्रदेश के सागर की महार रेजीमेंट का है।वीडियो मध्यप्रदेश के सागर की महार रेजीमेंट का है।
सैनिको की मौजदगी में तोड़े गए मोबाइल फोन।सैनिको की मौजदगी में तोड़े गए मोबाइल फोन।
मोबाइल फोन तोड़ते जवान।मोबाइल फोन तोड़ते जवान।
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..