Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Aarushi, Has The Responsibility Of Sending Dropout Children

ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION

भोपाल की संस्था आरुषि ने ली ड्रॉपआउट बच्चों को स्कूल पहुंचाने की जिम्मेदारी।

Rashmi Prajapati | Last Modified - Feb 01, 2018, 01:18 PM IST

  • ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION
    +4और स्लाइड देखें
    आरुषि संस्था में बच्चों को अलग तरह से दी जा रही है तालीम।

    भोपाल। इस स्कूल में पढ़ने वाले बच्चों को नंबर की कोई चिंता नहीं होती और न ही क्लास बंक करने का कोई डर। बस फ्री होकर उन्हें पढ़ाई करनी है, खेलना, कूदना है। ऐसा स्कूल भोपाल में आरुषि संस्था ने 'तालीम' नाम से शुरू किया है। यहां पर ड्राप आउट बच्चों को लाया जा रहा है। और उन्हें फ्री एजुकेशन दी जा रही है।

    - ये ऐसे बच्चे हैं, जोआर्थिक तंगी के कारण कई बार स्कूल से दूर हो जाते हैं। ऐसे बच्चों की एक बड़ी संख्या है, जो स्कूल जाना तो चाहती है, लेकिन विवश है स्कूल जाने के समय में काम पर जाना पड़ेगा। क्योंकि उन्हें मजदूरी करनी पड़ी

    -पढ़ाई बीच में छोड़ देने वाले ऐसे ही बच्चों के लिए भोपाल की संस्था ‘आरुषि’ ने शहर से महज 13 किमी दूर एक अनोखा स्कूल ‘तालीम’ शुरू किया है। इस स्कूल में बच्चों को डेमोक्रेटिक स्कूल कॉन्सेप्ट के तहत चीजों को सीखने की छूट दी गई है।

    गुलजार ने दिया नाम... तालीम

    -आरुषि के वॉलेंटियर अनिल मुदगल ने बताया, यह एक ऐसा स्कूल है, जहां बच्चों को उनकी समझ के अनुसार चीजें सीखने की आजादी है।

    -स्वतंत्रता है शिक्षा को अपने हिसाब से बिना क्लास और नंबरों के भय के ग्रहण करने की। इस स्कूल के कॉन्सेप्ट और बच्चों के स्टडी मटेरियल पर काम करते हुए, जब हमने इसकी चर्चा गीतकार गुलजार से की, तो उन्होंने ही इस स्कूल को तालीम नाम दिया।

    -उन्होंने बताया कि बच्चों को उनकी उम्र के हिसाब से एग्जाम भी दिलवाएंगे, ताकि वे दोबारा पढ़ाई शुरू कर सकें।

    -वहीं इन बच्चों को संस्था की ओर से ऐसे कोर्स व ट्रेनिंग भी दी जाएगी, जिससे वे आत्मनिर्भर बनकर अपने परिवार को सपोर्ट कर पाएं।
    टाटा इंस्टीट्यूट के वालंटियर
    -इस स्कूल में अब करीब 70 बच्चे आने लगे हैं। इन बच्चों को मजेदार ढंग से पढ़ाने के लिए टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ सोशल साइंसेस के दो स्टूडेंट्स अपनी वॉलेंटियर सर्विस दे रहे हैं।

    -पिछले दिनों आरुषि के बच्चों से मिलने पहुंचे सिनेमेटोग्राफर जीशान ने इन ड्रॉप आउट बच्चों के साथ समय बिताया और इनके खूबसूरत फोटोग्राफ्स भी क्लिक किए।

    ऐसे होती है पढ़ाई...
    - प्रार्थना की जगह ढोल-ढमाकों से होती है शुरुआत
    - अलग-अलग विषयों की कहानी, किस्सों और गीतों से होती है पढ़ाई।
    - क्लास नहीं अपने इंट्रेस्टिंग सब्जेक्ट के हिसाब पढ़ते हैं बच्चे।


    क्या है आरुषि संस्था...
    -भोपाल में संचालित होने वाली आरुषि संस्था दिव्यांग बच्चों के रिहैबिलिटेशन के लिए काम करती है। इस संस्था से लंबे से कई सेलीब्रिटी वालंटियर के तौर पर जुड़े रहे हैं। इनमें प्रमुख रूप से गीतकार, फिल्म निर्देशक गुलजार, फिल्म डायरेक्टर विशाल भारद्वाज, सिंगर रेखा भारद्वाज, एक्टर यशपाल शर्मा और बॉलीवुड सिनेमेटोग्राफर जीशान आदि शामिल हैं।

  • ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION
    +4और स्लाइड देखें
    यहां पर बच्चों को एक-दूसरे के साथ मिलकर खेलकूद व पढ़ाई का मौका मिलता है।
  • ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION
    +4और स्लाइड देखें
    यहां पर ड्राप आउट बच्चों को लाकर उन्हें एजुकेट किया जा रहा है।
  • ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION
    +4और स्लाइड देखें
    बच्चों को खुला वातावरण देने की कोशिश है।
  • ऐसा स्कूल, जहां नंबर और क्लास बंक के डर के बिना दी जाती है EDUCATION
    +4और स्लाइड देखें
    बच्चे आरुषि में पढ़ाई के साथ ही खेलकूद का पूरा लुत्फ उठाते हैं।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×