--Advertisement--

SP से कहा- साहब मेरी कार मुझे दिलवा दो, केबिन से बाहर आकर उठाया ये कदम

कार के लिए पुलिस के चक्कर काट रहे 60 साल के एक शख्स ने एसपी ऑफिस के सामने जहर खाकर सुसाइड करने की कोशिश की ।

Danik Bhaskar | Dec 16, 2017, 04:55 AM IST

सीहोर (भोपाल). कार के लिए पुलिस के चक्कर काट रहे 60 साल के एक शख्स ने एसपी ऑफिस के सामने जहर खाकर सुसाइड करने की कोशिश की । वह अपनी कार वापस दिलाने की गुहार लगाने एसपी ऑफिस गया था। जब थोड़ी देर बाहर बैठने को कहा तो उसने जहर खाकर सुसाइड की कोशिश की। देखते ही देखते वहां भगदड़ मच गई। इसके बाद एडिशनल एसपी किसान को लेकर हॉस्पिटल पहुंचे। जहां प्राथमिक उपचार के बाद उसे भोपाल रेफर कर दिया गया। क्या है मामला...

- सीहोर जिले के आष्टा केवखेड़ी के रहनेवाले देवसिंह पुत्र बापूसिंह मेवाड़ा ने पिछले साल जुलाई महीने में एक अल्टो कार फाइनेंस करवाई थी। दो माह बाद ही सितंबर 2016 में उन्होंने यह कार सवा दो लाख रुपए में शुजालपुर के रहने वाले महेंद्र सिंह को बेच दी थी।

- इसके लिए देवसिंह ने महेंद्र से 50 हजार रुपए एडवांस लिए थे। उनके बीच 500 रुपए के स्टांप पर इस खरीदी का एग्रीमेंट भी हुआ था। कार खरीदने के बाद महेंद्र को पता चला कि उस पर फाइनेंस तो बहुत ज्यादा है।

- ऐसे में शुजालपुर के रहने वाले महेंद्र ने यह कार कुछ दिन तो खुद चलाई और फिर राजगढ़ जिले के पचोर थाना क्षेत्र के रहने वाले तरवर सिंह को एक लाख रुपए में कार बेच दी। अब जब कार फाइनेंस करने वाली एयू फाइनेंस इंडिया लिमिटेड कंपनी देवसिंह को कार की बकाया किश्त जमा करने के लिए दबाव बनाने लगी तो देवसिंह भी कार बेंचने वालों से कार वापस मांगने लगा।

कुछ समझ पाते उससे पहले तो जहर खाने की खबर आ गई
- एसपी के मताबिक, शाम को देवसिंह उनके पास आया और उसकी कार वापस दिलाने की गुहार लगाने लगा। उन्होंने देवसिंह की पूरी बात सुनकर उसे बाहर बैठ जाने के लिए कहा। इस दौरान वे बाकि लोगों से बाच करने लगा। तभी खबर आई कि बाहर देवसिंह ने जहर खा लिया।

- देवसिंह जब वहां उल्टियां करने लगा तो एडि.एसपी अवधेश प्रताप सिंह और बाकि पुलिसकर्मी देवसिंह को लेकर सिटी हॉस्पिटल पहुंचे। यहां उसका प्राथमिक उपचार के बाद उसे भोपाल रेफर कर दिया।

तीन-चार दिन से धमकी दे रहा था कि मैं मर जाऊंगा

- पुलिस सूत्रों के मुताबिक, देवसिंह पिछले तीन-चार दिन से एसपी ऑफिस के चक्कर लगाते हुए पुलिस से अपनी कार वापस दिलाने की गुहार लगा रहा था। लेकिन टेक्निकल प्रॉब्लम के कारण पुलिस देवसिंह को उसकी कार वापस दिलाने में कोई खास मदद नहीं कर पा रही थी।

- ऐसे में हर दिन वह एसपी ऑफिस आकर ड्यूटी करने वाले पुलिसकर्मियों को बताया था कि बहुत परेशान है, यदि पुलिस ने उसकी नहीं सुनी तो वह जहर खाकर सुसाइड कर लेगा। शुक्रवार को आखिरकार देवसिंह ने एसपी बहुगुणा से चर्चा कर बाहर निकलकर जहर खा लिया।

साल भर से भटक रहे, लेकिन नहीं मिल रहा न्याय
- जहर खाने वाले देवसिंह के बेटे मोर सिंह ने बताया कि उसके पिता करीब एक साल से अधिक समय से न्याय के लिए भटक रहे हैं। लेकिन कहीं भी उनकी सुनवाई नहीं हुई। ऐसे में पिछले कुछ दिनों से वे बहुत परेशान थे। शुक्रवार को भी सीहोर आए तो एसपी साहब ने बाहर बैठने का बोल दिया।