--Advertisement--

घर में घुसकर छेड़छाड़ कर रहे थे बदमाश, लड़की ने वुमन सेफ्टी एेप की मदद से पकड़वाया

3 महीने पहले शुरू हुए वुमन सेफ्टी एप्लीकेशन से राजधानी में हुई यह पहली कार्रवाई।

Danik Bhaskar | Mar 02, 2018, 03:33 AM IST
घबराई छात्रा ने वुमन सेफ्टी एप घबराई छात्रा ने वुमन सेफ्टी एप

भोपाल. घर में घुसे मनचलों से बचने के लिए बीकॉम छात्रा ने जैसे ही वुमन सेफ्टी एप्लीकेशन का डेंजर बटन दबाया, कुछ मिनट बाद ही पुलिस की एक टीम मौके पर पहुंच गई। हबीबगंज पुलिस ने दोनों मनचलों को धरदबोचा। दोनों छेड़छाड़ की नीयत से छात्रा के घर में दाखिल हो गए थे। तीन महीने पहले शुरू हुए इस एप्लीकेशन से राजधानी में हुई ये पहली कार्रवाई है।

मोबाइल लोकेशन के आधार पर पुलिस मौके पर पहुंची

पुलिस के मुताबिक 19 साल की युवती राजधानी के एक कॉलेज में बीकॉम सेकंड ईयर की छात्रा है। बुधवार शाम करीब छह बजे दीपक जायसवाल अपने साथी मोहित के साथ छात्रा के घर आ पहुंचा। छात्रा दोनों को पहले से जानती है। उनके मंसूबे को भांपकर छात्रा ने दरवाजा खोलने से इनकार कर दिया। इससे नाराज आरोपी ने गेट पर पैर मारकर गाली-गलौच शुरू कर दी। छात्रा की मां ने उसे समझाया तो भी वह नहीं माना। घबराई छात्रा ने वुमन सेफ्टी एप्लीकेशन पर डेंजर बटन दबा दिया। इससे उसके दो परिचितों के साथ-साथ पुलिस के पास भी इन डेंजर का मैसेज पहुंच गया। छात्रा की मोबाइल लोकेशन के आधार पर कुछ ही मिनट में पुलिस मौके पर पहुंची और दोनों आरोपियों को हिरासत में ले लिया। छात्रा के विस्तृत बयान के बाद पुलिस ने आरोपियों के खिलाफ घर में घुसकर छेड़छाड़ समेत अन्य धाराओं में केस दर्ज कर लिया।

दोनों का है आपराधिक रिकॉर्ड

दोनों आरोपियों का आपराधिक रिकॉर्ड भी है। उनके खिलाफ जहांगीराबाद थाने में मारपीट का केस दर्ज है। मोहित दिल्ली में नूडल्स का ठेला लगाता है। छात्रा और दीपक छठवीं कक्षा में पढ़ाई के दौरान एक-दूसरे को जानते हैं। लेकिन कुछ दिनों से आरोपी ने छात्रा को परेशान करना शुरू कर दिया था।

महिलाओं की मदद के लिए यह किया जा रहा

राजधानी में महिला सुरक्षा को लेकर कई प्रयास जारी हैं। इनमें महिला थाना, निर्भया मोबाइल, मैत्री स्कूटर फोर्स, वी केयर फॉर यू, महिला हेल्प लाइन और शक्ति स्क्वायड शामिल हैं। कोई परेशानी होने पर महिला हेल्पलाइन 1090 और डायल 100 पर भी आप शिकायत कर सकती हैं। डीआईजी और आईजी स्तर के अफसर भी स्कूल-कॉलेज में पहुंचकर छात्र-छात्राओं को अपराध और कानून की बारीकियों की जानकारी दे रहे हैं, ताकि उन्हें जागरूक किया जा सके।