--Advertisement--

MP Budget 2018: बनेंगी 3 हजार KM सड़कें, डिफॉल्टर किसानों को भी राहत

डिसक्लेमर : सरकार सिर्फ घोषणाएं करती है, पूरी हों जरूरी नहीं...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 05:53 AM IST

भोपाल. चुनावी वर्ष में पेश किए गए मध्यप्रदेश सरकार के इस बजट में सरकार ने वोटों के खातिर घोषणाओं की बारिश की है। उन डिफॉल्टर किसानों को भी राहत दी गई है जो पिछला कर्ज नहीं अदा कर सके। पिछले साल किसानों के आक्रोश को देखते हुए अधिकांश घोषणाएं उन्हीं के फायदे से जुड़ी हैं। बजट में सरकार ने खेती-बाड़ी के अलावा सड़कों पर भी खासा ध्यान दिया है। तीन हजार किमी नई सड़कें और 150 बड़े पुल बनाने की घोषणा की है। बदहाल सड़कों को सुधरवाने के लिए विधायकों पर जनता का दबाव था। सात स्मार्ट सिटी को 700 करोड़ रुपए देने की घोषणा की है। मेट्रो पर वित्तमंत्री ने कहा कि 2018-19 में इसका काम शुरू हो जाएगा। भारत माला प्रोजेक्ट के तहत जबलपुर, सागर, ग्वालियर और ओरछा में बायपास बनाने की तैयारी है।

जनता को खुश करने के लिए बनेंगी 3 हजार किमी सड़कें

स्वरोजगार : 15 फीसदी वृद्धि पिछले साल 673 करोड़ रुपए का प्रावधान किया गया था इस बार 774 करोड़ रुपए।

गांव-शहर विकास : 26 % वद्धि गांवों के लिए 18 हजार करोड़ और शहरों के लिए 12 हजार करोड़ रुपए का प्रावधान।

सड़कें : 10 % की बढ़ोतरी प्रदेशभर में नई सड़कें और 150 बड़े पुलों के लिए 8780 करोड़ रुपए।

भोपाल : सड़कों के लिए 20 करोड़, तालाबों की फिक्र नहीं

स्मार्ट सिटी के लिए 100 करोड़, सड़कों के लिए 20 करोड़ लेकिन तालाबों के संरक्षण के लिए अलग से कोई प्रावधान नहीं है। पर्यावरण की चिंता जरूर दिखाई है।

- पर्यावरणीय शोध और ट्रेनिंगके लिए - 5.85 करोड़
- राज्य पर्यावरण संरक्षण प्राधिकरण- 1.50 करोड़
- मध्यप्रदेश प्रदूषण निवारण मंडल को ग्रांट- 18.19 करोड़
- स्वच्छ पर्यावरण प्रबंधन(कार्बन रेटिंग) 1.10 करोड़।
- मंत्रालय का विस्तार- 1.82 करोड़
- शौर्य स्मारक के संचालन व संधारण- 2 करोड़
- शहीद स्मृति स्मारक- 5 करोड़
- भारत भवन- 12 करोड़
- सीपेट को इंफ्रास्ट्रक्चर के लिए - 12 करोड़

- आदमपुर छावनी से शिवमंदिर- 1.01 करोड़(1.25 किमी)
- करोंद बायपास से गल्ला मंडी-3.34 करोड़ (3.10 किमी)
- सेमरी से अमरावतकला 2.46 करोड़ (3.50 किमी)
- केरवा डेम पहुंच मार्ग 3.04 करोड़ (2.40 किमी)

इंदौर : जल्द शुरू होगा बोनमेरो ट्रांसप्लांट

इंदौर को भी भोपाल की तर्ज पर स्मार्ट सिटी के लिए 100 करोड़ का बजट दिया है। मेट्रो का भी भरोसा दिलाया है, साथ ही कचरे से बिजली बनाने का वादा है। इंदौर मेडिकल कॉलेज में कार्डियोलॉजी विभाग के उन्नयन की घोषणा है। इसके अलावा भोपाल-इंदौर एक्सप्रेस वे की सौगात देने की घोषणा की है।

- पांच हजार करोड़ का सिक्सलेन भोपाल-इंदौर एक्सप्रेस-वे

- मेडिकल कॉलेज में बोनमेरो ट्रांसप्लांट की तैयारी पूरी हो गई है। जल्द ही यह शुरू हो जाएगा। वित्तमंत्री बजट भाषण में बताया कि इसके लिए सभी आवश्यक उपकरण खरीद लिए गए हैं। यह सुविधा जल्द ही शुरू की जाएगी।
- तैयारी पूरी जल्द शुरू करेंगे बोनमेरो ट्रांसप्लांट

ग्वालियर : मेडिकल कॉलेज के लिए 25 करोड़

- ग्वालियर को भी स्मार्ट सिटी के लिए 100 करोड़ देने के अलावा यहां के मेडिकल कॉलेज में एक हजार बिस्तर के अस्पताल के लिए- 25 करोड़ देने की घोषणा हुई है। ग्वालियर मेडिकल कॉलेज में कार्डियोलॉजी विभाग की स्थापना व न्यूरोलॉजी का उन्नयन की भी घोषणा की है।

जबलपुर: भारत माला योजना के तहत बायपास

- मेडिकल कॉलेज में 6 वार्ड व बाउंड्रीवाल बनाने की घोषणा की है।

- आकांक्षा योजना अंतर्गत 400 आदिवासी विद्यार्थियों को राष्ट्रीय स्तर के संस्थानों में प्रवेश दिलाने के लिए निशुल्क कोचिंग। यह योजना इंदौर, ग्वालियर व भोपाल के लिए भी है। इसके अलावा भारत माला योजना के तहत बॉयपास बनाने की योजना।

आगे की स्लाइड्स में पढ़ें, बजट में क्या हैं सरकार की घोषणाएं...