--Advertisement--

लोकसभा और विधानसभा चुनाव साथ कराने प्रदेश MP सरकार राजी, कमेटी बनाई गई

एक राष्ट्र, एक चुनाव का समर्थन करते हुए राज्य सरकार ने एक कमेटी गठित की है। कमेटी इस मुद्दे पर जनमत संग्रह करेगी।

Danik Bhaskar | Mar 05, 2018, 06:59 AM IST
मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभ मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभ

भोपाल. देश में लोकसभा और विधानसभा चुनाव एक साथ कराने की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की पहल एक राष्ट्र, एक चुनाव का समर्थन करते हुए राज्य सरकार ने एक कमेटी गठित की है। कमेटी इस मुद्दे पर जनमत संग्रह करेगी। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि मध्य प्रदेश में इस साल विधानसभा चुनाव होने हैं। उसके कुछ समय बाद ही लोकसभा चुनाव होंगे। इसमें बहुत समय निकल जाता है। अलग-अलग समय पर चुनाव होने के कारण आदर्श चुनाव आचार संहिता लागू रहती है। इसके चलते विकास के कार्य बाधित होते हैं। ऐसे में अगर लोकसभा और विधानसभा के चुनाव एक साथ हों तो समय और पैसा दोनों बचेंगे।

मंत्री नरोत्तम मिश्रा को बनाया कमेटी का अध्यक्ष

- मुख्यमंत्री ने रविवार को अपने निवास पर आयोजित प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि संसदीय कार्य मंत्री नरोत्तम मिश्रा को कमेटी का अध्यक्ष बनाया गया है। मिश्रा को इस मुद्दे पर केंद्रीय नेतृत्व और राज्य के बीच समन्वय रखने की जिम्मेदारी दी गई है। चूंकि यह सरकारी अभियान है, इसलिए अपर मुख्य सचिव रजनीश वैश्य और प्रमुख सचिव वीरा राणा को कमेटी में रखा गया है।

- इनके अलावा वरिष्ठ पत्रकार महेश श्रीवास्तव, गिरिजाशंकर, बीजेपी नेता विष्णुदत्त शर्मा, तपन भौमिक, रिटायर्ड आईएएस अफसर एमएम उपाध्याय और शिवनारायण रूपला को कमेटी में सदस्य बनाया गया है। कमेटी लोकसभा और विधानसभा के अलावा राज्य स्तर पर होने वाले विभिन्न चुनावों को एक साथ कराने के संबंध में विशेषज्ञों और अन्य लोगों से चर्चा कर चार माह में अपनी रिपोर्ट केंद्र सरकार और चुनाव आयोग को सौंपेगी।

उपचुनाव नहीं जीतने की कसक है : चौहान

एक सवाल के जवाब में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोलारस व मुंगावली विधानसभा क्षेत्र को लेकर पहले से धारणा रही है कि 2013 में कांग्रेस ने यह सीटें लंबे अंतर से जीती थीं। रणनीति की दृष्टि से देखें तो बीजेपी ने अच्छा प्रदर्शन किया। लेकिन जीत नहीं पाने की कसक है, क्योंकि हमने यह जीतने के लिए लड़ा था। हालांकि उन्होंने बीजेपी की हार में सपाक्स की भूमिका के सवाल का कोई जवाब नहीं दिया।

तो इमरजेंसी के बाद हुए चुनाव जैसे हालात बनेंगे: सरताज

सत्ता एवं संगठन से खफा चल रहे पूर्व मंत्री एवं सिवनीमालवा से बीजेपी विधायक सरताज सिंह ने तंज करते हुए कहा कि 2018 के चुनावों में इमरजेंसी के बाद हुए चुनाव जैसे हालात बनेंगे। जिसमें पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी तक चुनाव हार गई थीं। अब तो पार्टी में निष्ठावान कार्यकर्ताओं को पीछे की पंक्ति में खड़ा रहना पड़ रहा है। पार्टी की स्थिति ठीक नहीं है। अब राजनीति से घुटन होने लगी है। अब मैं केवल बीजेपी के लिए काम करुंगा।