Hindi News »Madhya Pradesh »Indore »News» Mumtaz Took The Last Breath In This Fort

मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म

25 साल पहले इसे देखरेख के अभाव में बंद कर दिया था।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 26, 2018, 07:56 AM IST

  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    बुरहानपुर की नायाब इमारताें में से एक शाही किला

    बुरहानपुर. ये तस्वीर है बुरहानपुर की नायाब इमारताें में से एक शाही किले की। इस बुलंद इमारत को छठी-सातवीं शताब्दी में आदिल शाह फारुकी बादशाह ने बनवाया था। इस किले का ज्यादातर भाग खंडित हो गया है। फिर भी अपना वैभवशाली अतीत लिए खड़ा है। पहले सात मंजिल का भव्य महल था, लेकिन अब केवल तीन मंजिल ही शेष है। 25 साल पहले इसे देखरेख के अभाव में बंद कर दिया था। अब ये शाही किला पर्यटकों के लिए खुलेगा।

    इंटक ने लिखा था आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया को पत्र

    शाही किले के भीतरी भाग में अनेक रास्ते होने के कारण इसमें जाने वाले लोग भटक जाते हैं इसलिए इसे भूलभुलैया कहते हैं। इतिहासकार होशंग हवलदार ने कहा इंटक की ओर से हमने आर्कियोलॉजिकल सर्वे ऑफ इंडिया व भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण विभाग को पत्र लिखा था कि महल का भीतरी भाग पर्यटकों के लिए खोला जाना चाहिए।

    महल में म्यूजियम भी दर्शनीय
    महल के परिसर में दीवान-ए-आम, दीवान-ए-खास, शाही हमाम, लौंगानी मस्जिद देखने के लिए पर्यटक पहुंच रहे हैं। परिसर में म्यूजियम भी बनाया गया है। इसमें शहर की पुरातन वस्तुओं का संग्रह किया गया है। हरियाली से परिसर निखर उठा है।

    मुमताज ने यहां ली थी अंतिम सांस

    महल की छत चांदनी के नाम से प्रसिद्ध हैं, दीवारें नौगजी के नाम से प्रसिद्ध है। आगरा और दिल्ली की तरह दीवान-ए-आम और दीवान-ए-खास बनवाया था। किले में 1603 ईसवीं से मुगल बादशाहों का आगमन हुआ। बेगम मुमताज ने इसी महल में 14वीं संतान को जन्म दिया। 6 जून 1631 की सुबह शाहजहां की गोद में मुमताज ने अंतिम सांस ली।

    आगे की स्लाइड्स में देखें फोटोज...

  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    इस बुलंद इमारत को छठी-सातवीं शताब्दी में आदिल शाह फारुकी बादशाह ने बनवाया था।
  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    इस किले का ज्यादातर भाग खंडित हो गया है।
  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    पहले सात मंजिल का भव्य महल था, लेकिन अब केवल तीन मंजिल ही शेष है।
  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    25 साल पहले इसे देखरेख के अभाव में बंद कर दिया था।
  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
    ये शाही किला पर्यटकों के लिए खुलेगा।
  • मुमताज ने इस किले में ली थी अंतिम सांसें, यहीं दिया था 14वीं संतान को जन्म
    +6और स्लाइड देखें
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Indore News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Mumtaz Took The Last Breath In This Fort
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×