भोपाल

--Advertisement--

ODF सर्टिफिकेट: सीक्रेट दौरे पर आई जांच टीम, कमिश्नर को फोन किया- हम आ गए हैं...

उज्जैन में थी और निगम अफसरों को बता दिया गया था कि शुक्रवार को भोपाल में निरीक्षण होगा।

Dainik Bhaskar

Dec 30, 2017, 05:42 AM IST
ODF Certificate: The inquiry team on the Secret Tour

भोपाल . एक हफ्ते से नगर निगम के अपर कमीश्नर कह रहे थे कि ओडीएफ की जांच के लिए दिल्ली से आने वाली (क्वालिटी काउंसिल अॉफ इंडिया) क्यूसीआई की टीम बिना बताए आएगी और नगर निगम के अफसर भी जांच के दौरान साथ में नहीं रहेंगे। लेकिन ऐसा हुआ नहीं। क्यूसीआई की टीम गुरुवार को उज्जैन में थी और निगम अफसरों को बता दिया गया था कि शुक्रवार को भोपाल में निरीक्षण होगा।
सुबह आते ही क्यूसीआई के दोनों एक्सपर्ट ने करीब 10 बजे निगम कमीश्नर प्रियंका दास से संपर्क किया। इसके बाद निगम की ओर से उपायुक्त राहुल सिंह राजपूत, एएचओ राजीव सक्सेना और अतिक्रमण अधिकारी कमर साकिब को टीम के साथ कर दिया गया। इनके अलावा कंसल्टिंग एजेंसी केपीएमजी के शैंकी जैन भी पूरे दिन टीम के साथ मौजूद थे। पिछले साल की तरह दिल्ली से मिल रही लोकेशन पर टीम के सदस्य नगर निगम के अफसरों के साथ पहुंच रहे थे। हर उस जगह पर जहां टीम के पहुंचने की संभावना थी निगम के वरिष्ठ अधिकारी सफाई अमले के साथ मौजूद थे।

विजय मार्केट बरखेड़ा, दोपहर 1.20 बजे
- निगम की आधा दर्जन से अधिक गाड़ियां साफ-सफाई में लगी हैं। सफाईकर्मी एक-एक दुकान से कचरा उठाकर मैजिक में डाल रहे हैं। तभी उपायुक्त राहुल सिंह राजपूत क्यूसीआई की टीम के साथ यहां पहुंचे। उनके साथ जोन सात एएचओ सक्सेना और अतिक्रमण अधिकारी साकिब भी थे। टीम ने बाजार देखा और सामुदायिक शौचालय पहुंचे। टीम के दोनों सदस्यों ने यहां पहुंची महिलाओं से दीवार पर लगी फीडबैक मशीन के बारे में पूछा कि हरा बटन किसका है। जवाब मिला- अच्छी सफाई के लिए।

भदभदा के समीप, सुबह 8 :30 बजे
- यहां सड़क किनारे लोग हर रोज की भांति जहां-तहां खुले में शौच कर रहे थे। तभी निगम के जलकार्य यंत्री संतोष गुप्ता व क्षेत्रीय जोनल अधिकारी बाबूलाल सीकरी पहुंचे। साथ चल रहे अमले ने लोगों को वहां से खदेड़ा। इसके बाद जो किया गया वह बेहद चौंकाने वाला था। वायरलेस सेट पर आला अधिकारियों के संदेश लगातार आ रहे थे। गुप्ता ने यहां की स्थिति की जानकारी सेट पर अधिकारियों को दी। इसके बाद सेट पर ही किसी वरिष्ठ अधिकारी ने निर्देश दिए कि मिट्टी डालकर गंदगी को छुपा दो। और ऐसा ही किया गया।

मॉडल स्कूल में सब कुछ चकाचक मिला
- क्यूसीआई और नगर निगम की टीम सुबह करीब 11 बजे मॉडल स्कूल पहुंची। यहां प्रिंसिपल एसके रेनीवाल के साथ उन्होंने स्कूल परिसर में छात्र-छात्राओं और स्टाफ व आगंतुकों के लिए बने टॉयलेट्स का निरीक्षण किया। इन सभी में सफाई की पर्याप्त व्यवस्था थी। यही नहीं हर टॉयलेट में लिक्विड सोप रखा हुआ था। इधर, कोलार तिराहे के पास बौद्ध विहार के सामने सड़क के उस पार आधा दर्जन से अधिक मॉड्यूलर टायलेट रखे गए हैं। यहां महीनों से सफाई नहीं हुई, लेकिन शुक्रवार को निगमकर्मियों ने न सिर्फ इसकी सफाई कराई बल्कि यहां एक कर्मचारी भी तैनात किया जो लोगों को टॉयलेट के इस्तेमाल के लिए समझाइश दे रहा था।

कल आएगा रिजल्ट

- टीम दो दिन तक शहर के अलग-अलग इलाकों का दौरा करेगी। इसकी रिपोर्ट तत्काल सर्वर के माध्यम से दिल्ली भेजी जा रही है। शुक्रवार को निरीक्षण पूरा होने के अगले दिन शनिवार को इसका रिजल्ट घोषित कर दिया जाएगा।

24 घंटे पहले बताने का नियम

- ओडीएफ के री-सर्टिफिकेशन में जांच दल द्वारा 24 घंटे पहले जानकारी देने का नियम है। लेकिन न तो जांच दल के सदस्यों का नाम पता होता है और न यह जानकारी होती है कि टीम किन लोकेशन पर जाएगी।
नीलेश दुबे, डिप्टी डायरेक्टर, यूएडीडी

दिल्ली से तय हो रही लोकेशन
- दिल्ली से ही लोकेशन तय हो रही हैं। हम तो तय स्थान पर पहुंचकर वहां के फोटो खींचकर दिल्ली भेज रहे हैं। अगली लोकेशन क्या होगी यह भी हमें पता नहीं होता।
कपिल तिवारी, सदस्य, क्यूसीआई टीम

X
ODF Certificate: The inquiry team on the Secret Tour
Click to listen..