Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Padmavat Is Stopping At The Film And Why Played The Song In School

गृहमंत्री बोले- फिल्म पद्मावत पर रोक है तो स्कूल में गाना क्यों बजाया

राष्ट्र विरोधी काम कर रहा है तो स्कूल वाले पुलिस में शिकायत करें।

Bhaskar News | Last Modified - Jan 18, 2018, 06:23 AM IST

  • गृहमंत्री बोले- फिल्म पद्मावत पर रोक है तो स्कूल में गाना क्यों बजाया

    भोपाल.जावरा के सेंटपॉल कॉन्वेंट स्कूल में पद्मावत फिल्म के गाने पर डांस प्रैक्टिस कर रहीं स्कूली छात्राओं से दुर्व्यवहार और कथित तौर पर उपद्रव मामले में गृहमंत्री भूपेंद्र सिंह ने कहा कि जब फिल्म पर रोक है तो स्कूल में गाना क्यों बजाया जा रहा था। जहां तक कानून हाथ में लेने की बात है तो इसकी इजाजत किसी को नहीं है। जब उनसे कहा गया कि गाने पर रोक नहीं है तो वे यह सवाल टाल गए। भारत माता की आरती को लेकर विवाद पर भी उन्होंने कहा कि स्कूलों की शर्त में जो शामिल है, उसे करना चाहिए। चाहे राष्ट्रगान हो या राष्ट्रीय गीत। यदि कोई राष्ट्र विरोधी काम कर रहा है तो स्कूल वाले पुलिस में शिकायत करें।

    फिल्म ‘पद्मावत’ को बैन करने के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट पहुंचे निर्माता
    - मध्यप्रदेश, गुजरात, राजस्थान अैर हरियाणा में फिल्म ‘पद्मावत’ को बैन करने के खिलाफ इसके निर्माता सुप्रीम कोर्ट पहुंच गए हैं। चीफ जस्टिस दीपक मिश्रा की अध्यक्षता वाली तीन सदस्यीय बेंच इसे सुनने को तैयार हो गई है।

    - हालांकि उन्होंने इस पर प्रतिक्रिया नहीं दी है। सुनवाई कब से होगी, यह गुरुवार को पता चलेगा। फिल्म 25 जनवरी को रिलीज होने वाली है। निर्माता वायकॉम 18 ने याचिका में फिल्म पर प्रतिबंध लगाने पर सवाल उठाए हैं।

    - उसने कहा है कि सुप्रीम कोर्ट ने अपने पहले के आदेश में कहा है कि कानून-व्यवस्था बिगड़ने की आशंका में सिर्फ संबंधित क्षेत्र में फिल्म दिखाने पर रोक लगाई जा सकती है, न कि पूरे राज्य में। मध्यप्रदेश, राजस्थान, गुजरात और हरियाणा की सरकारों ने फिल्म रिलीज करने पर रोक लगा दी है। पिछले साल नवंबर में रोक लगाने से जुड़ी याचिका सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दी थी।



दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×