--Advertisement--

90 की बहन और 85 साल के भाई ने लिया देहदान का संकल्प, कहा- मरने के बाद आएंगी काम

कहना है कि जीते-जी तो देह किसी के काम नहीं आ सकी। मरने के बाद काया किसी के तो काम आएगी।

Danik Bhaskar | Jan 06, 2018, 06:26 AM IST

हरदा. रहटगांव में रहने वाली 90 वर्षीय बहन और 85 वर्षीय भाई ने देहदान का संकल्प लिया है। साथ में रहने वाले भाई-बहन घर में बने मंदिर में ही भजन-कीर्तन कर जीवन-यापन कर रहे हैं। उनका कहना है कि जीते-जी तो देह किसी के काम नहीं आ सकी। मरने के बाद काया किसी के तो काम आएगी।

भाई जीवनदास शर्मा रिटायर्ड शिक्षक हैं और बहन श्यामा बाई के पति रामदास एएसआई थे। दोनों के जीवन यापन पेंशन से होता है। दोनों ने क्षेत्र के लोगों के लिए समाज सेवा की मिसाल पेश की है। उन्होंने देहदान के लिए संकल्प पत्र कलेक्टर अनय द्विवेदी को सौंपा।


सीएमएचओ ने किया सम्मान
देहदान करने वाली श्यामा बाई और भाई जीवनदास शर्मा का रहटगांव घर पहुंचकर स्वास्थ्य विभाग ने सम्मान किया। सीएमएचओ डॉ. आरके धुर्वे ने उन्हें शाल-श्रीफल भेंट किया और मिठाई खिलाई। इस दौरान जिला मीडिया अधिकारी आई तिग्गा, आईईसी सलाहकार केके राजोरिया, डॉ. उदित भट्ट, सत्यनारायण गौर मौजूद थे।