Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» The Lady Officer Is Preventing Suicide By Telling The Reason Of Living Life

जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर

महिला सशक्तिकरण स्पेशल: बैतूल की जिला पंचायत सीईओ शीला दाहिमा का गीत यूट्यूब पर पसंद कर रहे लोग।

Vinod Patriya | Last Modified - Mar 07, 2018, 07:57 PM IST

  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    बैतूल की सीईओ व अपर कलेक्टर शीला दाहिमा आत्महत्याओं को रोकने की कोशिश में जुटी हैं।

    भोपाल.इतनी सस्ती नहीं है मेरी जिंदगी कि किसी बात पर मैं अपनी दे दूं जान... ये पंक्तियां जिंदगी से हार चुके लोगों के लिए जीने का सहारा बन रही हैं। उन्हें डिप्रेशन से बाहर निकाल कर उम्मीद का कारण बन रही हैं। लोगों को निराशा से बाहर निकालने की इसी कोशिश में अपर कलेक्टर व बैतूल की जिला पंचायत सीईओ शीला दाहिमा लगी हैं।

    -समाज में बढ़ रहीं आत्महत्या की घटनाओं को रोकने के लिए इस अफसर ने मुहिम चलाई है। वह लोगों को अपनी कविता और आवाज के माध्यम से आत्महत्या नहीं करने की प्रेरणा देती हैं। सीईओ ने अपनी इस कविता का वीडियो यू-ट्यूब पर अपलोड किया है। इसे काफी पसंद भी किया जा रहा है।

    -जिला पंचायत सीईओ शीला दाहिमा पहले कई गीतों को अपनी आवाज दे चुकी हैं। लोगों को जल संरक्षण का महत्व बताने के लिए भी उन्होंने गीत लिखा था। इस बार सीईओ ने आत्महत्या की घटनाओं पर चिंता जताते हुए उन्हें प्रेरित करने के लिए कविता लिखी है। कविता की लाइनों में जिंदगी से हौसलों से लड़ने की प्रेरणा देकर जीवन का महत्व बताया है।

    समय से पहले न बुझ जाए जिंदगी का दीया...

    -सीईओ शीला दाहिमा ने इस कविता के पहले खुद की आवाज में कहा जिंदगी कई बार बहुत कठिन होती है, बहुत परीक्षाएं लेती है। ऐसा लगने लगता है कि क्या करना है इस जिंदगी का। क्यों जिएं, कोई राह नजर नहीं आती, कुछ सूझता नहीं। चारों ओर निराशा- निराशा ही होती है और सबसे आसान लगता है मर जाना। लेकिन क्या सचमुच कोई ओर रास्ता नहीं होता, कोई उम्मीद नहीं होती है। क्या कोई कठिनाई हमारी आशाओं को खत्म कर सकती है। क्या सच में मरने के अलावा कोई विकल्प नहीं होता है। होता है जीने का विकल्प। जीना खुद के लिए और औरों के लिए ताकि बुझ न जाए किसी का जिंदगी का दीया...।

    प्रेरक कविता

    -आत्महत्या करने वालों को प्रेरित करेगी जिपं सीईओ की कविता, वीडियो बनाकर यू-ट्यूब पर किया अपलोड यू-ट्यूब पर दो दिनों में 700 लोगों ने देखा है। सीईओ दाहिमा द्वारा लिखी कविता को स्वयं की आवाज में रिकार्ड कर वीडियो बनाया है। इस वीडियो को उन्होंने यू-ट्यूब पर अपलोड किया है। इस कविता को लोग बहुत पसंद कर रहे हैं। यू-ट्यूब पर दो दिनों में इस वीडियो को सात सौ से अधिक लोग देख चुके हैं।

    ये है उनकी कविता...
    जिंदा रहना है मुझे खुद और औरों के लिए, इतनी सस्ती नहीं जिंदगी कि किसी बात पर दे दूं अपनी जान.....

    इतनी सस्ती नहीं है मेरी जिंदगी की किसी बात पर मैं अपनी जान ही दे दूं।
    माना की मुश्किलें मेरे हौसलों पर भारी पड़ती हैं, पर मैंने तोड़ा नहीं है अपने हौसलों को।
    मेरे जैसे कमजोर पड़ते हौसले वालों को भी तो मुझे हौसला देना होगा।

    मेरी जान सिर्फ मेरे लिए नहीं है, इससे कई और जानें भी तो जुड़ी हैं...।
    -----------------

  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    वह गीत लिखती हैं और उसे खुद की आवाज से सजाकर यूट्यूब पर शेयर करती हैं।
  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    उनकी चिंता है कि लोगों को सुसाइड करने से रोका जाए।
  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    वह लिखती हैं और सोशल मीडिया पर शेयर करती हैं।
  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    बैतूल की सीईओ हैं शीला दाहिमा।
  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    गीत लिखती हैं और फिर उसे आवाज देती हैं।
  • जिंदगी जीने की वजह बताकर सुसाइड करने से रोक रही है ये लेडी अफसर
    +6और स्लाइड देखें
    उनका खुद का यूट्यूब चैनल है।
आगे की स्लाइड्स देखने के लिए क्लिक करें
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: The Lady Officer Is Preventing Suicide By Telling The Reason Of Living Life
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×