--Advertisement--

ये बच्चे जिंदगी में पहली बार पहुंचे स्कूल, बोले- यहां नहीं आते तो भीख मांग रहे होते

73 बच्चों को स्कूल में शिक्षा का सपना साकार किया गया। बच्चों को हॉस्टल से ढोल बाजकर स्कूल में एडमिशन दिलाया गया।

Danik Bhaskar | Jan 16, 2018, 04:49 AM IST

राजगढ़ (भोपाल) . सोमवार को 73 बच्चों को स्कूल में शिक्षा का सपना साकार किया गया। बच्चों को हॉस्टल से ढोल बाजकर स्कूल में एडमिशन दिलाया गया। इस दौरान बच्चे स्कूल ड्रेस में थे। उन्होंने अपने लाइफ में पहली बार स्कूल की यूनिफार्म पहनी। ये मामला मध्यप्रदेश के राजगढ़ जिले का है। जहां बेसहारा, अनाथ और गरीब बच्चों को स्कूल में एडमिशन दिलाया गया। इस दौरान बच्चों के चेहरे पर स्कूल जाने की खुशी देखने को मिली। उत्सव जैसा था माहौल...

- दरअसल, दोपहर दो बजे शहर के पुराने डाइट परिसर में बने स्पेशल बायज हॉस्टल। जहां सोमवार को उत्सव सा माहौल था।

- उत्सव 73 बच्चों के जीवन को शिक्षा से साकार करने का। इन बच्चों को हॉस्टल से ढोल बजाकर स्कूल में एडमिशन दिलाया गया।

- सुबह से ही बच्चे सजधजकर तैयार थे। पहली बार बच्चों ने यूनीफार्म पहनी।

- बेसहारा, अनाथ और गरीब बच्चों ने सोचा भी नहीं था कि वे एक दिन स्कूल जाएंगे।
- इस दौरान शहर के कलेक्टर कर्मवीर शर्मा पत्नी के साथ पहुंचे और उन्होंने बच्चों का हाथ थामा और हॉस्टल से ढोल और फूलों की बरसात के बीच प्राइमरी स्कूल टैगोर शाला ले गए।

- अब बच्चे यहीं बच्चे पढ़ेंगे। कलेक्टर ने बच्चों से पूछा कि अब कैसा लग रहा है। तो लसूडिया लोधा गांव का ओमप्रकाश बोला-सर अच्छा लग रहा है। आज अगर यहां नहीं होता तो कहीं भीख मांग रहा होता।