Home | Madhya Pradesh | Bhopal | News | threat to the mother of girl who Committed Suicide

छेड़खानी के बाद सुसाइड करने वाली लड़की की मां को मिल रही धमकी, कहा- खौफ में जी रहे

रहवासियों में से एक ने पुलिस से कहा कि उस दिन छात्रा कॉलेज से रोते हुए घर लौटी थी।

Bhaskar News| Last Modified - Mar 15, 2018, 06:52 AM IST

threat to the mother of girl who Committed Suicide
छेड़खानी के बाद सुसाइड करने वाली लड़की की मां को मिल रही धमकी, कहा- खौफ में जी रहे

भोपाल.    रात दो बजे अचानक दरवाजे पर दस्तक होती है, धमकियां मिल रही हैं, लेकिन पुलिस की सुरक्षा उस दानिश के घर पर है, जिसने मेरी बेटी को खुदकुशी के लिए मजबूर कर दिया। पूरा परिवार खौफ के साए में जी रहा है। मेरे घर पर कोई सुरक्षा नहीं है। इसे क्या माना जाए? गौतम नगर थाना क्षेत्र में छेड़छाड़ से तंग आकर खुदकुशी करने वाली बीकॉम छात्रा की मां ने ये दर्द एएसपी महिला अपराध श्रद्धा जोशी के सामने बुधवार दोपहर बयां किया।


पीएचक्यू के निर्देश पर एएसपी छात्रा के परिवार से मिलने पहुंचीं थीं। मामला गर्माने के बाद बुधवार को पीएचक्यू ने मामले की केस डायरी तलब की है। छात्रा की मां ने सवाल उठाया कि पुलिस ने आरोपी को रिमांड पर क्यों नहीं लिया? सुना है कि सच जानने के लिए पुलिस गड़े मुर्दे भी निकाल लेती है। मेरी बेटी की परेशानी तो उसके साथ चली गई, लेकिन आरोपी तो जिंदा है। उसे ऐसी सजा मिलनी चाहिए, जिससे बेटियों को परेशान करने वाले हर दानिश को सबक मिले। 


डीआईजी धर्मेंद्र चौधरी ने विवेचना अधिकारी एसआई प्रह्लाद मर्सकोले को जांच से हटा दिया है। जांच अब एसआई कंचन राजपूत करेंगी। इधर छात्रा के साथ गीतांजलि कॉलेज से डीआईजी बंगला के बीच वारदात होनी बताई जा रही है। पुलिस ने यहां 47 लोगों के बयान दर्ज किए, लेकिन कोई प्रत्यक्षदर्शी नहीं मिला है। सूत्रों के मुताबिक छात्रा और आरोपी के बीच फोन पर बातचीत का रिकॉर्ड भी मिला है। पुलिस का मानना है कि आरोपी के दबाव में छात्रा ने उसे फोन किए होंगे।

 

रहवासी बोले...उस दिन रोते हुए आई थी छात्रा


रहवासियों में से एक ने पुलिस से कहा कि उस दिन छात्रा कॉलेज से रोते हुए घर लौटी थी।  दानिश उसके घर के पास स्थित एक दुकान पर अक्सर घंटों खड़ा रहता था। यहां और भी कई ऐसे लड़के दिनभर खड़े नजर आते हैं। शिकायत करो तो लगता है जैसे पुलिस उनके पक्ष में ही खड़ी है। हम कब तक डर के साए में जीते रहेंगे? दोपहर में एसपी हेमंत चौहान भी छात्रा के परिवार से मिले।

 

महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा न कराने पर कांग्रेसियों ने किया सदन से वॉकआउट

 

महिलाओं की सुरक्षा को लेकर चर्चा कराए जाने की मांग  पर अड़े कांग्रेसी विधायकों की बात न सुने जाने पर उन्होंने सदन से वॉकआउट कर दिया। शून्यकाल में राजधानी के गीतांजलि कॉलेज में पढ़ने वाली छात्रा आरती द्वारा छेड़छाड़ से परेशान होकर आत्महत्या किए जाने का मामला कांग्रेस के मुख्य सचेतक रामनिवास रावत ने उठाया। उन्होंने कहा कि छात्रा की आत्महत्या को लेकर पूरे शहर में लोगों में आक्रोश है। लोग सड़कों पर आंदोलन करने अतर आए हैं। तत्काल इस मामले पर चर्चा कराई जाना चाहिए। विधानसभा अध्यक्ष डॉ. सीतासरन शर्मा ने इस पर गुरुवार को निर्णय लेने की बात कही। जीतू पटवारी ने आरोप लगाया कि प्रदेश में अपराधियों के हौसले बढ़े  हुए हैं। जनवरी से दिसंबर 2017 के बीच ऐसे 2199 मुकदमे कायम किए गए, जिनमें से 1765 बरी हो गए। दुष्कर्म के 84 में से 60 मामलों में अपराधी बरी हो गए।

 

ग्राउंड रिपोर्ट : कॉलेज से बाहर निकलते ही छेड़छाड़ शुरू, घर तक पीछा करते हैं बदमाश

 

कॉलेज और स्कूल की दहलीज से लेकर घर तक का सफर सुरक्षित नहीं है। रास्ते में छेड़खानी की घटना आम हो गई है। जब तक शोर मचाते हैं, तब तक बदमाश तेज रफ्तार गाड़ी चलाकर भाग जाते हैं। पुलिस को शिकायत करने पर वह आरोपी की गाड़ी नंबर, हुलिया पूछती है। जो हम लड़कियां नहीं बता पाती। यह आपबीती बुधवार को नूतन कॉलेज, एमएलबी कॉलेज, सत्यसाईं कॉलेज, आनंद विहार, कमला नेहरू और सरोजनी नायडू स्कूल की छात्राओं ने दैनिक भास्कर से साझा की। 


एमएलबी गर्ल्स कॉलेज

 

एक छात्रा ने बताया कि कॉलेज वीआईपी गेस्ट हाउस के सामने हैं। इस गेस्ट हाउस में नेताओं और अफसरों का आना जाना लगा रहता है। बावजूद इसके मेन रोड और कॉलेज के प्रोफेसर कॉलोनी वाले तिराहे पर असामाजिक तत्व लड़कियों को छेड़ने के बाद रश ड्राइविंग करते हुए भाग जाते हैं। 


नूतन कॉलेज

 

ग्रेजुएशन कर रही एक छात्रा ने बताया कि असामाजिक तत्वों की हिम्मत इतनी बढ़ी हुई है, कि वह कॉलोनी के कार्नर तक पीछा करते हैं। इस दौरान भद्दे कमेंट और इशारे भी करते हैं। पढ़ाई छूटने के डर से शिकायत नहीं करते। नूतन कॉलेज की प्राचार्य डॉ. मंजुला शर्मा ने बताया कि हर सप्ताह औसतन दो लड़कियां छेड़खानी की शिकायत करती हैं। आपसी संवाद कार्यक्रम के दौरान यह शिकायतें सामने आती हैं।

prev
next
दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए News in Hindi, Breaking News सबसे पहले दैनिक भास्कर पर |

Trending Now