--Advertisement--

फोटो वायरल करने की दी धमकी , लड़की ने दिखाई सूझबूझ आरोपी को किया पुलिस के हवाले

आरोपी कर्मचारी ने मोबाइल फोन से छात्रा के फोटो और कुछ कांटेक्ट नंबर निकाल लिए

Danik Bhaskar | Jan 17, 2018, 03:48 AM IST

भोपाल. सर्विस सेंटर पर 11वीं की एक छात्रा ने मोबाइल फाेन सुधरने के लिए दिया। आरोपी कर्मचारी ने मोबाइल फोन से छात्रा के फोटो और कुछ कांटेक्ट नंबर निकाल लिए। कुछ ही दिन बाद छात्रा को माेबाइल फोन मिल गया। इसके बाद छात्रा के मोबाइल पर एक वाट्सएप मैसेज आया- उसमें लिखा था, 20 हजार रुपए दो, नहीं तो तुम्हारे फोटो वायरल कर दूंगा। छात्रा ने पहले तो रुपए दोस्तों से मांगकर जमा कर लिए, लेकिन बाद में समझदारी दिखाते हुए दोस्तों की ही मदद से आरोपी को पकड़ कर कोहेफिजा पुलिस के हवाले कर दिया।

मैं तो दंग ही रह गई...वह तो सर्विस सेंटर का कर्मचारी निकला

- मेरा मोबाइल फोन खराब हो गया था। कुछ दिन पहले ही मैंने उसे सुधरने के लिए बैरागढ़ स्थित सैमसंग कंपनी के सर्विस सेंटर पर दिया था। कुछ दिनों बाद मुझे मोबाइल सुधारकर दे दिया गया। मोबाइल लेकर घर पहुंची, तभी एक अनजान नंबर से वाट्सएप मैसेज आया।

- उसमें लिखा था-तुम्हारेेे कुछ फोटो मेरे पास हैं। अगर तुम चाहती हो कि मैं उन फोटो को वायरल न करूं और तुम्हारे माता पिता को न दिखाऊं, तो उसके एवज में मुझे 20 हजार रुपए देना होंगे। मैं मैसेज पढ़कर घबरा गई। मुझे लगा कि उसने कहीं मेरे फोटो का गलत उपयोग कर लिया तो क्या होगा?

- उसके डराने से मैंने अपने कुछ दोस्तों से 20 हजार रुपए उधार भी ले लिए। उसके कहे अनुसार मैं अपनी सहेलियों के साथ सोमवार शाम करीब 7 बजे लालघाटी चौराहे पहुंची। शायद उसने मेरे साथ मेरी सहेलियों को देख लिया था। उसने तुरंत मुझे एक और मैसेज किया, उसमें लिखा था कि मैंने तुम्हें अकेले आने के लिए कहा था।

- अब मैं वाट्सएप पर तुम्हारे फोटो शेयर कर देता हूं। मैंने उसे तुरंत रिप्लाई किया कि सहेलियों को वहां से दूर भेज रही हूं। इसी दौरान मैंने अपनी सहेलियों को इशारों में ही कुछ और दोस्तों को बुलाने के लिए कहा। सहेलियों के जाने के कुछ देर बाद वह वहां आ गया। उसे देख में दंग रह गई।

- वह उसी सर्विस सेंटर का कर्मचारी शादाब (28)पिता मुश्ताक था। उसे तब तक बातों में उलझाए रखा, जब तक अन्य दोस्त वहां नहीं आ गए। उनके आते ही हमने उसे पकड़ लिया। इसी बीच कोहेफिजा पुलिस को फोन करके बुला लिया। उसके बाद हमने उसे पुलिस के हवाले कर दिया।
( -जैसा बैरागढ़ निवासी 11वीं की छात्रा ने कोहेफिजा पुलिस को बताया)

थाने पहुंचते ही शादाब ने पकड़ लिए पुलिस के पैर
- रेजीमेंट रोड निवासी शादाब ने थाने पहुंचते ही पुलिस के पैर पकड़ लिए। हाथ जोड़कर कहने लगा। सर, गलती हो गई। अब कभी ऐसा नहीं करूंगा। मुझे लगा लड़की के पास इतना मंहगा मोबाइल फोन है तो वह 20 हजार रुपए तो दे ही सकती है। बदनामी के डर से वह किसी को नहीं बताएगी और मुझे कुछ रुपए मिल जाएंगे। शादाब ने बताया कि वह सैमसंग कंपनी के सर्विस सेंटर में जाॅब करता है। उसे 8 हजार रुपए महीने वेतन मिलता है।