--Advertisement--

दो महिलाओं ने मुख्यमंत्री आवास योजना के नाम पर 12 लोगों से ठगे ~27 लाख

धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में आरोपी बनाया।

Dainik Bhaskar

Jan 14, 2018, 04:55 AM IST
डेमोफोटो डेमोफोटो

भोपाल. अवधपुरी में एक महिला ने खुद को बिल्डर बताकर शो-रूम संचालक की पत्नी के साथ 12 लोगों से मुख्यमंत्री आवास योजना के नाम पर 27 लाख रुपए ऐंठ लिए। आरोपी महिलाओं ने पीड़ितों को राहुल नगर में साइट विजिट कराने से लेकर नगर से फर्जी पट्‌टा तक थमा दिए। पुलिस ने सात महीने की जांच के बाद दोनों महिलाओं के खिलाफ धोखाधड़ी समेत अन्य धाराओं में आरोपी बनाया।


मकान नंबर-129 पूर्वांचल फेस-2 पिपलानी निवासी 42 वर्षीय राकेश बारवे पिता बाबूलाल बारवे प्राइवेट जॉब करते हैं। उन्होंने बताया कि वर्ष 2013-14 में उनकी पहचान अवधपुरी निवासी कविता नागले से उनके घर पर हुई। कविता ने बताया था कि वह बिल्डर है और राहुल नगर में मुख्यमंत्री आवास योजना के तहत मकान बना रही है। इसमें वह उन्हें एक फ्लैट दिलवा सकती है। इसके लिए उसे सिर्फ वोटर आईडी कार्ड और 2 लाख 25 हजार रुपए देने होंगे। आधे रुपए मिलने पर वह पट्‌टा दिलवा देगी और बाद में आवंटन के पहले शेष रकम लेगी। राकेश ने भरोसे में आकर कविता को सवा लाख रुपए दो किश्त में दे दिए।

इसके बाद उन्होंने दो किश्त में शेष रकम जमा कर दी। उन समेत कुल 12 लोगों ने इतनी-इतनी ही रकम कविता को दी, लेकिन उनका आवंटन नहीं हुआ। उन्होंने रुपए मांगे तो कविता ने कहा कि वह उन्हें अपनी साथी सविता परिहार से मिलवाती है। उसी को उसने यह रुपए आवंटन कराने के लिए दिए। सविता ने कहा कि उनका आवंटन हो गया है। पत्र के दो-दो हजार रुपए लगेंगे। राकेश ने बताया कि कुछ और ने यह रुपए दे दिए, लेकिन उन्होंने नहीं दिए। बाद में जब उन्होंने नगर निगम में जाकर पता लगाया, तो सामने आया कि उनका नाम तो कहीं नहीं है। रुपए मांगने पर कविता और सविता ने रुपए लौटने से इनकार कर दिया।

X
डेमोफोटोडेमोफोटो
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..