--Advertisement--

दोनों भाइयों का था जिंदादिली से जिंदगी जीने में यकीन, दोस्त बोला....अब सिर्फ उसकी यादें रह गईं

फिल्म देखकर घर लौट रहे चचेरे भाइयों की तेज रफ्तार डंपर ने ली जान, दोस्त गंभीर

Dainik Bhaskar

Apr 03, 2018, 05:37 AM IST
मृतक नितिन मृतक नितिन

भोपाल. आसाराम चौराहे के पास तेज रफ्तार डंपर ने बाइक सवार चचेरे भाइयों की जान ले ली, जबकि दोस्त को गंभीर चोट आई है। हादसे के वक्त तीनों फिल्म देखकर लौट रहे थे। मरने वालों में शामिल 12वीं के छात्र ने फेसबुक पर लिखे आखिरी पोस्ट में मानो जिंदगी को समेट दिया है। लिखा-मेरे लफ्ज अगर उस तक पहुंचे तो बस इतना कह देना... हम जैसे लोग एक बार खो जाएं, तो दोबारा नहीं मिलते...


गांधीनगर निवासी 24 वर्षीय बृजेश पिता संतोष मीणा पोल्ट्री फॉर्म संचालक थे। रविवार रात 18 वर्षीय चचेरे भाई नितिन पिता नरेश मीणा के साथ फिल्म देखने पीपुल्स मॉल आए थे। नितिन का दोस्त अमित भी साथ था। रात 12 बजे तीनों करोंद चौराहा होते हुए आसाराम चौराहा पहुंचे। तीनों दोस्त चौराहा से थोड़ा आगे बढ़े ही थे तभी सामने से आ रहे सफेद रंग के डंपर ने बाइक को टक्कर मार दी। टक्कर से बृजेश और नितिन बेहोश हो गए, जबकि अमित ने बृजेश के फोन से 108 एंबुलेंस और परिजनों को सूचना दी। अस्पताल ले जाने पर डॉक्टरों ने बृजेश और नितिन को मृत घोषित कर दिया।

दोस्त सोमू ने बताया कि नितिन बहुत हंसमुख था। उसे घूमना और फिल्म देखने का बड़ा शौक था। उसने फेसबुक पर एक अंतिम पोस्ट किया था। इसमें उसने लिखा था - मेरे लफ्ज अगर उस तक पहुंचे तो बस इतना कह देना... हम जैसे लोग एक बार खो जाए तो दोबारा नहीं मिलते। उसे सोशल साइट पर अपडेट रहना पंसद था। वह भाई और दोस्तों के साथ जिंदगी के मजे लेता था। उसका किसी से कोई झगड़ा नहीं होता था। वह बहुत जिंदादिल था।

हेलमेट पहने होते तो बच सकती थी जान हेलमेट पहने होते तो बच सकती थी जान
बृजेश मीणा बृजेश मीणा
X
मृतक नितिनमृतक नितिन
हेलमेट पहने होते तो बच सकती थी जानहेलमेट पहने होते तो बच सकती थी जान
बृजेश मीणाबृजेश मीणा
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..