--Advertisement--

ASI ने बिजनेसमैन के घर में घुस की मारपीट, बाद वीडियो में ऐसे गिड़गिड़ाते दिखा

एएसआई ने एक लेडी पुलिस कॉन्स्टेबल के साथ मिलकर बिजनेसमैन और पत्नी से मारपीट की।

Danik Bhaskar | Dec 26, 2017, 12:49 AM IST
कम्प्लेंट के बाद माफी मांगता आरोपी पुलिसकर्मी। कम्प्लेंट के बाद माफी मांगता आरोपी पुलिसकर्मी।

भोपाल. शहर में पुलिस के ज्यादती के आए दिन मामले सामने आ रहे हैं। हाल में कट्टा दिखाकर लड़की से छेड़छाड़ और एमपी नगर में होटल में घुसकर कर्मचारियों से मारपीट के बाद अब संडे को एक एएसआई ने एक लेडी पुलिस कॉन्स्टेबल के साथ मिलकर बिजनेसमैन और पत्नी से मारपीट की। उन्होंने दंपती को झूठे मामलों में फंसाने का डर दिखाकर 50 हजार रुपए ले लिए। खुद एएसआई ने खुद एसआई को बताया कि, पीड़ित अधिकारियों से कंप्लेंट करने पर एएसआई रुपए लेकर लौटने पहुंच गया। आधे घंटे वह बिजनेसमैन से हाथ जोड़कर माफी मांगते रहा। देर शाम डीआईजी ने एएसआई को सस्पेंड कर दिया। पूरी वारदात पर एक नजर...

- जैसा बिजनेसमैन अमन खान ने बताया कि रविवार रात 11 बजे वे अपनी पत्नी अश्का के साथ खाना खा रहा था। इसी दौरान आवाज आने पर पत्नी बाहर देखने गई, तो एक शख्स और महिला पुलिसकर्मी आते दिखे।

- वे पत्नी को धक्का मारते हुए अंदर घुस आए। बोले-घर में कट्टा छिपा रखा है। हम क्राइम ब्रांच से हैं। महिला ऊपर वाले हिस्से में और सादे कपड़ों में आया पुलिसकर्मी नीचे तलाशी लेने लगा।

- उसने अपना नाम एसआई धर्मेंद्र मौर्य और कॉन्स्टेबल वंदना पांडे बताया। तलाशी करने के वारंट के बारे में पूछने पर धर्मेंद्र ने अश्का को चांटा मारा। अश्का ने भी उसे धक्का दे दिया। शोर सुनकर मैं नीचे आया तो देखा कि धर्मेंद्र पत्नी से धक्कामुक्की कर रहा था।

- उसने आर्म्स रखने और गांजा रखने के झूठे मामले में फंसाने की धमकी देते हुए 1 लाख रुपए की मांग की। मैंने बताया कि पिता के इलाज के लिए 51 हजार रुपए हैं। उन्होंने एक हजार रुपए छोड़कर 50 हजार रुपए छीन लिए।’

डीआईजी ने आरोपी को किया सस्पेंड , वीडियो में कहा....गलती हो गई

- वर्दी की रंगदारी और उसके गिड़गिड़ाना पीड़ित ने मोबाइल फोन में कैद कर लिया। अधिकारियों के पास कंप्लेंट पहुंचने पर आरोपी एएसआई बहादुर सिंह पटेल सोमवार शाम अमन के घर पहुंचा।

यह हुआ कैमरे में कैद
- कुर्सी पर रुपए गिनते हुए एएसआई पटेल कहता है- आज माफ कर दो। आप रुपए ले लें। आप जो कहेंगे मैं करूंगा। जब भी फोन लगाएंगे, मैं आपके पास मौजूद हो जाऊंगा। आप बस अपनी कंप्लेंट वापस लेे लें।
अमन - आप क्या समझकर हमारे पास आए। आप बताएं कि यह रुपए किस-किस को गए हैं।
पटेल - नहीं किसी को नहीं गया। आप कंप्लेंट वापस ले लें।
अमन - मैं रुपए वापस नहीं लूंगा। आपकाे पता है कि यह रुपए मुझे अपने बीमार पिता को भेजने थे। आज मैं यह रुपए नहीं भेज पाया।
पटेल - गलती हो गई मुझसे। अब मैं क्या बताऊं। आप तो भाई जैसे हैं।
अमन - आपको पता है पिता को नागपुर में दिखाना था। रुपए नहीं भेज पाने के कारण मां को जेवर बेचने पड़े। अब वे वापस आ जाएंगे क्या?

आधे घंटे धमकाया
- अमन ने आरोप लगाए कि वह दोनों आधे घंटे तक डराते-धमकाते रहे। उनके जाने के बाद मैंने परिचित वकील से जानकारी निकलवाई तो पता चला कि धर्मेंद्र क्राइम ब्रांच नहीं, बल्कि हबीबगंज थाने में हैं। हमने टीआई हबीबगंज से कंप्लेंट की, लेकिन उन्होंने ध्यान तक नहीं दिया। सुबह डीआईजी संतोष कुमार से कंप्लेंट करने पर उन्होंने क्राइम ब्रांच की एएसपी रश्मि मिश्रा से मिलने को कहा।

खुद को बताया एसआई। खुद को बताया एसआई।

खुद को बताया एसआई
- आरोपी मोहन सिंह पटेल हबीबगंज थाने में एएसआई है। उसने खुद का नाम एसआई धर्मेंद्र मौर्य बताया था। अमन की कंप्लेंट पर पुलिस ने जब धर्मेंद्र मौर्य से पूछताछ की तो उसने साफ मना कर दिया। अमन का धर्मेंद्र मौर्य से सामने कराया गया तो अमन ने उन्हें पहचानने से मना कर दिया। 

आरोपी ASI। आरोपी ASI।
एएसआई ने एक लेडी पुलिस कॉन्स्टेबल के साथ मिलकर बिजनेसमैन और पत्नी से मारपीट की। एएसआई ने एक लेडी पुलिस कॉन्स्टेबल के साथ मिलकर बिजनेसमैन और पत्नी से मारपीट की।
बिजनेसमैन अमन। बिजनेसमैन अमन।

शाम को रुपए देने आया
- अमन के मुताबिक कंप्लेंट करने पर सोमवार शाम धर्मेंद्र रुपए लेकर घर आ गया। वह रुपए वापस करने का कहते हुए माफी मांगने लगा। हमने एक लिखित कंप्लेंट क्राइम ब्रांच एएसपी को दी है। इसके अलावा हबीबगंज सीएसपी भूपेंद्र सिंह को अपने बयान दर्ज करा दिए हैं।

आरोपी ASI। आरोपी ASI।
CSP CSP
  • जल्द सौंप जल्द सौंप दूंगा रिपोर्ट
    - सीएसपी के मुताबिक, अमन और उसकी पत्नी के बयान ले लिए हैं। फिलहाल कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है। मामले की जांच कर रहा हूं। रिपोर्ट जल्द ही डीआईजी को सौंप दूंगा।दूंगा रिपोर्ट
  • सीएसपी के मुताबिक, अमन और उसकी पत्नी के बयान ले लिए हैं। फिलहाल कोई मामला दर्ज नहीं किया गया है। मामले की जांच कर रहा हूं। रिपोर्ट जल्द ही डीआईजी को सौंप दूंगा।

     
     
  •  
     
ASP ASP

महिला कॉन्स्टेबल की गलती नहीं
- एएसपी क्राइम ब्रांच के मुताबिक, अमन की कंप्लेंट पर एएसआई की गलती पाई गई है। अब तक महिला कॉन्स्टेबल की गलती नहीं मिली है। वह सीनियर के कहने पर वारंट तामील कराने गई थी।