--Advertisement--

पिता की हवस की शिकार मासूम को स्कूल ने निकाला, कहा- पिता का नाम लिखवाओ

तीन साल पहले पिता की हैवानियत की शिकार मासूम को स्कूल से बाहर निकाल देने का मामला सामने आया है।

Danik Bhaskar | Jan 19, 2018, 05:27 AM IST

भोपाल . तीन साल पहले पिता की हैवानियत की शिकार मासूम को स्कूल से बाहर निकाल देने का मामला सामने आया है। निजी स्कूल में पढ़ी रही पीड़िता के चाचा-चाची ने गुरुवार को बच्ची की पढ़ाई बहाल कराने बाल अधिकार संरक्षण आयोग में आवेदन दिया है। इसमें स्कूल प्रबंधन को बच्ची के पिता के नाम के स्थान पर खुद का नाम दर्ज कर, बच्ची का एडमिशन कराने की मांग की है।

- आयोग अध्यक्ष डॉ. राघवेन्द्र शर्मा ने डीपीसी को मामले की जांच करने और बच्ची की पढ़ाई सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं।

- उन्होंने 23 जनवरी तक स्कूल प्रबंधन से जवाब मांगा है। इधर स्कूल की प्रिंसिपल फातिमा रिजवी का कहना है कि बच्ची के दस्तावेजों में समस्या थी।

- दस्तावेजों में जरूरी संशोधन के लिए उसके परिजनों को कहा है। स्कूल में एंट्री बंद नहीं की है।

चाचा ने पिता की जगह लिखवाया था खुद का नाम

- बच्ची के चाचा-चाची ने बाल आयोग में शिकायत करते हुए बताया कि बच्ची हर्षवर्धन नगर के पास स्थित निजी स्कूल में दो साल से पढ़ रही है। स्कूल में दाखिले के समय एडमिशन फाॅर्म में अभिभावक की जगह खुद का नाम लिखाया था। लेकिन, बच्ची के आधार कार्ड पर उसके पिता का नाम लिखा है, जिन्हें कोर्ट ने बच्ची से ज्यादती के आरोप में आजीवन कारावास की सजा दी है।

- चाचा के मुताबिक घटना के बाद से मासूम को वे ही पाल रहे हैं। बच्ची के नाम से उसके पिता का नाम न जुड़े, इसलिए उसके फाॅर्म में पिता के नाम वाले कॉलम में खुद का नाम दर्ज कराया था। लेकिन, स्कूल बच्ची के एडमिशन फाॅर्म में पिता का नाम दर्ज कराने का दबाव बना रहा है। स्कूल में उसकी एंट्री में बंद कर दी है।