Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» Will Be Required To Send The Goods To The Neighborhood Shop E-Way Bill

, पड़ोस की दुकान में माल भेजने पर जरूरी होगा ई-वे बिल, 1 जनवरी से लागू

एक जनवरी से ई-वे बिल लागू हो रहा है। इसके बाद एक दुकान से दूसरी दुकान तक माल भेजने के लिए भी ई वे बिल जरूरी होगा।

Bhaskar News | Last Modified - Dec 16, 2017, 05:59 AM IST

  • , पड़ोस की दुकान में माल भेजने पर जरूरी होगा ई-वे बिल, 1 जनवरी से लागू

    भोपाल.एक जनवरी से ई-वे बिल लागू हो रहा है। इसके बाद एक दुकान से दूसरी दुकान तक माल भेजने के लिए भी ई वे बिल जरूरी होगा। इतना ही गोडाउन से ट्रांसपोर्टर तक को माल भेजने के लिए यह बिल जरूरी बनाया जा रहा है। केवल उन्हीं स्थितियों में छूट दी जा रही जब ट्रांसपोर्टर से गोडाउन तक की दूरी 10 किमी से कम हो। फाॅर्म-49 की तुलना में इस बिल का दायरा काफी बड़ा होगा। केवल 154 आइटम को छोड़कर यह सब पर लगने जा रहा है। यह बातें टैक्स लॉ बार एसोसिएशन द्वारा आयोजित सेमिनार में सामने आईं।

    - मुख्य वक्ता के रूप में राज्य जीएसटी विभाग के डिप्टी कमिश्नर नरेंद्र सिंह चौहान ने यहां वकीलों और चार्टर्ड अकाउंटेंट के सवालों के जवाब दिए। एसोसिएशन के अध्यक्ष एस कृष्णन और सचिव मृदुल आर्य और जीएसटी विशेषज्ञ मुकुल शर्मा भी इस अवसर पर उपस्थिति थे।

    - चौहान ने कहा कि प्रस्तावित बिल में सभी की सहूलियतों का ध्यान रखा गया है। अगर रास्ते में सामन लेकर आ रही गाड़ी खराब हो जाए तो उसके लिए भी इसमें प्रावधान किए गए हैं। यूज्ड गुड्स और हाउसहोल्ड गुड्स को इससे बाहर रखा गया है। रेल्वे के जरिए आने वाले सामान के लिए इसमें रेल्वे रजिस्ट्रेशन नंबर लगेगा।

    कहां लगेगा ई-वे बिल

    - बाहर से सामान मंगाने के लिए वैट एक्ट में फाॅर्म-49 लगता था। लेकिन ई-वे बिल में टैक्स फ्री 154 आइटम को छोड़कर शेष सभी में ई-वे बिल लगेगा।

    - एक शहर से दूसरे शहर नहीं बल्कि चौक में एक दुकान से दूसरे दुकान में माल भेजने के लिए भी ई-वेे बिल की जरूरत होगी।
    - गोडाउन से माल ऐसे ट्रांसपोर्टर के पास भेजा जा रहा है जिसकी दूरी 10 किमी से कम है तो ई-वे बिल नहीं लगेगा। लेकिन उसे ई-वेे बिल का फाॅर्म ए तो भरना ही होगा।

    किस ई-वे बिल की वैधता कितने दिन

    100 किमी 01 दिन

    200 किमी 02दिन

    300 किमी 03दिन

    1000 किमी 10 दिन

    1001 किमी 11 दिन

    इन सवालों के नहीं मिले जवाब

    - गोडाउन से ट्रांसपोर्टर तक माल भेजने के लिए दूरी का निर्धारण गूगल मैप से ही होगा। सड़क मार्ग से नापी गई दूरी को सही नहीं माना जाएगा। व्यापारी इसको लेकर दुविधा की स्थिति में रहेगा। ज्यादातर लोग गूगल मैप से दूरी नापना नहीं जानते। वे सड़क मार्ग से तय की गई दूरी के आधार माल भेजते हैं और यह बाद में ज्यादा निकल गई तो उन्हें पेनॉल्टी देनी पड़ सकती है।
    - ई-वे बिल के लिए हर वस्तु का एचएसएन कोड डालना है। लेकिन जीएसटी में जिन कारोबारियों का टर्नओवर 1.50 करोड़ से कम है। उनके लिए यह कोड जरूरी नहीं है। ऐसे में वे ईवे बिल में क्या डालेंगे इसको लेकर संशय है।

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: Will Be Required To Send The Goods To The Neighborhood Shop E-Way Bill
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×