--Advertisement--

75 साल की महिला ने 6 डकैतों से 15 मिनट तक किया मुकाबला, नहीं निकाल सके कंगन

डकैती का प्रयास- क्रेसर व्यवसायी ने रिवाल्वर से किए दो फायर तो घबराकर भागे बदमाश

Danik Bhaskar | Dec 23, 2017, 08:02 AM IST
शांति बाई राजपूत, सीसीटीवी कैमरे में पूरी वारदात कैद शांति बाई राजपूत, सीसीटीवी कैमरे में पूरी वारदात कैद

होशंगाबाद. रसूलिया के राधव नगर में 6 डकैतों ने एक घर में घुसकर गुरुवार-शुक्रवार रात करीब 3.10 बजे डकैती डालने का प्रयास किया। क्रेसर व्यवसायी अरविंद राजपूत ने लाइसेंसधारी रिवाल्वर से डकैतों पर गोलियां चलाईं। बदमाश घबरा गए और घर से भाग गए। अरविंद ने बताया मां के कमरे में 15 मिनट तक डकैतों ने आतंक मचाया। जब मां शांति बाई (75) के हाथ से सोमने के कंगन निकालने लगे तो उन्होंने उनसे मुकाबला किया। डकैतों ने मां के सीधे गाल पर थप्पड़ मारा लेकिन उनके हौसले के आगे सब हार गए। वारदात सीसीटीवी में कैद हो गई।


एसपी अरविंद सक्सेना ने बताया अरविंद राजपूत उर्फ गुल्लू ठाकुर के घर रात में 6 डकैत घुसे थे। ये मकान की बाउंड्रीबाल से अंदर आए। पहले मुख्य दरवाजे पर लगे सीसीटीवी कैमरे पर मिट्टी लगाई। कुल्हाड़ी से दरवाजे का कुंदा तोड़कर घर में घुस गए। वे अरविंद की मां के कमरे में गए और हाथ से कंगन खींचने की कोशिश की लेकिन शांति बाई ने उन्हें कंगन नहीं दिए। कुत्ते के भौंकने पर अरविंद की नींद खुल गई। उनकी नजर कुछ लोगों पर पड़ी। अरविंद कमरे में गए और दरवाजा बंद कर लिया। खिड़की से लाइसेंसी रिवाल्वर से दो गोलियां चलाईं। आरोपी वहां से भाग गए। घर में डकैतों ने करीब 25 मिनट तक आतंक मचाया।

मैं सो रही थी हाथ हिला रहे थे नींद खुली तो चाटा मारा
अरविंद राजूपत की मां शांति बाई ने भास्कर को बताया वह रात में सो रही थी। इस दौरान अचानक 5 लोग कमरे में आ गए। दो लोगों ने मेरे हाथ हिलाकर सोने के कंंगन निकालने की कोशिश की। मेरी नींद खुल गई। मैंने हाथ मजबूत कर लिया तो उन्होंने मुझे चांटा मारा। मुझे चक्कर आ गए। मैंने गुल्लु ( अरविंद राजपूत) काे आवाज दी। इसके बाद उसने फायर किया तो वे भाग गए। आप कैसे भी उन आरोपियों को पकड़वा देना। मैं उनको छोडूंगी नहीं।
आरोपियों की तलाश शुरू
पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश शुरू कर दी है। मामले की सभी बिंदुओं पर जांच की जा रही है। आरोपी घर में करीब 25 मिनट तक घूमते रहे। वारदात की सूचना सभी थानों में दे दी गई है।
गोली चलने के बाद भाग गए डकैत
अरविंद राजपूत ने बताया उनका बड़ा कारोबार है। इसलिए उन्होंने आत्मसुरक्षा के लिए रिवाल्वर ले रखी है। मैं मोबाइल और रिवाल्वर साथ रखता हूं। रात को जैसे ही डकैतों को देखा मैंने खिड़की से उन पर फायर किए। वे तो आरोपी भाग गए नहीं तो मैं उनके सिर और सीने पर ही गोली मार रहा था। उनके भागने पर मैंने पुलिस को सूचना दी।
रैकी : कौने-कौने से वाकिफ थे बदमाश
पुलिस के अनुसार गुल्लू के घर की किसी ने रैकी की है। चूंकि जिस हिसाब से आरोपी आए और हाल के बाद वे सीधे मां के कमरे में गए और जो उनकी पोजिशन थी, उससे साफ लग रहा था कि उन्होंने पहले ये घर देख लिया है। घटना के बाद डाग स्कवाड मौके पर गया जो घटनास्थल से रेलवे लाइन के पास तक गया है। गुल्लू ठाकुर शराब व्यवसायी, रेत कारोबारी और क्रेसर व्यवसायी हैं। इस मोहल्ले में 15 दिन पहले भी बसंत कुमार के यहां चोरी हुई थी।
आरोपियों ने 25 मिनट तक मचाया आतंक
अरविंद कमरे में गए और दरवाजा लगाया। खिड़की से ही रिवाल्वर से दो गोलियां चलाईं। आरोपी घबराकर भाग गए। एक आरोपी हाल में 5 मिनट तक रुका और बाद में वह भी चला गया। आरोपियों ने करीब 25 मिनट तक घर में आतंक मचाया।
गोली चलने के बाद भाग गए डकैत गोली चलने के बाद भाग गए डकैत