भोपाल

  • Hindi News
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • चुनावी बजट का फायदा सिर्फ डिफॉल्टर्स को क्यों : किसान बीमार मेडिकल एजुकेशन का कोई इलाज नहीं : डॉक्टर
--Advertisement--

चुनावी बजट का फायदा सिर्फ डिफॉल्टर्स को क्यों : किसान बीमार मेडिकल एजुकेशन का कोई इलाज नहीं : डॉक्टर

मध्यप्रदेश सरकार ने अपने बजट में खेती के लिए सबसे ज्यादा बजट का प्रावधान किया है लेकिन किसानों का कहना है कि...

Dainik Bhaskar

Mar 02, 2018, 02:15 AM IST
चुनावी बजट का फायदा सिर्फ डिफॉल्टर्स को क्यों : किसान बीमार मेडिकल एजुकेशन का कोई इलाज नहीं : डॉक्टर
मध्यप्रदेश सरकार ने अपने बजट में खेती के लिए सबसे ज्यादा बजट का प्रावधान किया है लेकिन किसानों का कहना है कि चुनावी बजट सिर्फ डिफॉल्टर किसानों को राहत देने वाला है। डॉक्टर्स का कहना है कि ग्रामीण क्षेत्रों में स्वास्थ्य सेवाओं में निजी भागीदारी बढ़ाना जोखिम भरा हो सकता है।

बीमार मेडिकल एजुकेशन का ईमानदारी से इलाज करने के लिए सरकार ने कोई जतन नहीं किया है। उद्योगपतियों का कहना है कि इंफ्रास्ट्रक्चर, स्टार्टअप और स्किल डेवलपमेंट को राज्य ने बिल्कुल बेनूर छोड़ दिया। दैनिक भास्कर ने अलग-अलग वर्गों से बजट पर उनकी राय जानी।

मध्यप्रदेश के बजट पर दैनिक भास्कर ने ली समाज के हर तबके की राय, सभी की कुछ न कुछ शिकायतें

महिला

ढूंढने पड़ते हैं टॉयलेट

महिलाओं के लिए घोषणाएं तो बहुत हैं लेकिन हकीकत यह है कि ं अब भी महिला टॉयलेट ढूंढने पड़ते हैं।

रवीशा मर्चेंट, इंटीरियर आर्किटेक्ट

महिला शिक्षा पर ध्यान नहीं

महिलाओं के एजुकेशन के लिए कुछ नहीं किया, इसी से लांग टर्म में महिलाओं की स्थिति में बदलाव ला सकते हैं।

नित्या तलरेजा, भोपाल विमन एसो.

स्वास्थ्य

सरकार बनाए इंफ्रास्ट्रक्चर

मेडिकल एजुकेशन के के लिए कुछ नहीं किया । गांवों में सरकार खुद इंफ्रास्ट्रक्चर बनाए। डॉ. ललित श्रीवास्तव, संरक्षक, एमपी मेडि. ऑफि. एसो.

शिशु-मातृ मृत्यु दर कलंक

डॉक्टर्स की सुरक्षा के लिए कुछ नहीं हुआ। शिशुमातृ मृत्यु दर की स्थिति राज्य पर कलंक है। डॉ जेपी पालीवाल, पूर्व अध्यक्ष, नर्सिंग होम एसोसिएशन

उद्याेग -व्यापार

स्टार्टअप पर ध्यान नहीं

केंद्र ने तो स्टार्टअप और स्किल डेवलपमेंट पर फोकस किया था, राज्य ने इन पर ध्यान नहीं दिया। संतोष अग्रवाल- उपाध्यक्ष, एफएमपीसीसीआई

एमपी में उद्योग क्यों नहीं

सरकार इन्वेस्टर्स से यह जानने की कोशिश नहीं कर रही है कि वे एमपी में उद्योग क्यों नहीं लगा रहे हैं। आदित्य मनयां जैन, चेयरमैन, कल्पतरू

शिक्षा

एडमिशन 25% रह गए

पहले इंजीनियरिंग में हर साल एक लाख एडमिशन होते थे, वो घटकर अब 25 हजार रह गए हैं। धर्मेश शुक्ला, डिप्टी रजिस्ट्रार, आरजीपीवी

बेहाली की वजह स्कूल शिक्षा

तकनीकी शिक्षा की खराब हालत के लिए स्कूल एजुकेशन जिम्मेदार है। इस पर ध्यान नहीं दिया गया। संजीव शर्मा, प्रो. आईटी, आरजीपीवी

कर्मचारी

कैसे चलेंगे निगम मंडल

निगम-मंडल तो सेल्फ डिपेंडेंट हैं। यहां 60 फीसदी कर्मचारी रिटायर हो गए हैं। ये चलेंगे कैसे? अजय श्रीवास्तव नीलू , कर्मचारी नेता

मेट्रो की घोषणा 10 साल पुरानी

मेट्रो ट्रेन चलाने की घोषणा भोपाल में दस साल पहले की है। लखनऊ और जयपुर में मेट्रो शुरू हो गई है।

जयंत शाह, गुजराती समाज

X
चुनावी बजट का फायदा सिर्फ डिफॉल्टर्स को क्यों : किसान बीमार मेडिकल एजुकेशन का कोई इलाज नहीं : डॉक्टर
Click to listen..