--Advertisement--

छेड़छाड़ का विरोध कर बताया, नो मींस नो

देश समाज में लड़कियों और महिलाओं के साथ होने वाली छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार को अभी तक जहां स्ट्रीट प्ले और नाटकों के...

Danik Bhaskar | Mar 01, 2018, 02:20 AM IST
देश समाज में लड़कियों और महिलाओं के साथ होने वाली छेड़छाड़ और दुर्व्यवहार को अभी तक जहां स्ट्रीट प्ले और नाटकों के माध्यम से दिखाया जाता था, वहीं बुधवार को उत्कल भवन में हुए बैले प्रदर्शन के माध्यम से कलाकारों ने छेड़छाड का विरोध प्रदर्शन दिखाया। ‘नो मींस नो’ बैले की कोरियोग्राफी दिल्ली के विक्रम मोहन ने की। जिसमें उन्होंने 21 कलाकारों के साथ बड़े ही खूबसूरत ढंग से बैले डांस में पिरोकर दर्शकों के सामने प्रदर्शित किया। कीर्ति बैले एंड आर्ट परफॉर्मिंग की ओर से पिछले 20 दिनों से डांस वर्कशॉप का आयोजन किया गया था, जिसमें कलाकारों ने कंटेम्प्रेरी डांस फॉर्म में बैले का प्रदर्शन किया।

योग के मूवमेंट किए शामिल

कोरियोग्राफर विक्रम मोहन ने बताया कि कंटेम्प्रेरी बैले डांस फॉर्म में योगा के कई प्रमुख आसनों को जोड़ते हुए प्रस्तुति को प्रभावी बनाने की कोशिश की गई। इसमें सूर्य नमस्कार, हलासन, सहित अन्य आसनों को मिक्स करके बैले डांस तैयार किया है।