• Hindi News
  • Madhya Pradesh
  • Bhopal
  • News
  • जिन पुलों पर मेले के दौरान रहेगा सबसे अधिक ट्रैफिक, उन पर नहीं लगी रेलिंग
--Advertisement--

जिन पुलों पर मेले के दौरान रहेगा सबसे अधिक ट्रैफिक, उन पर नहीं लगी रेलिंग

News - भास्कर संवाददाता | मुंगावली रंगपंचमी पर लगने वाले करीला मेले को अब 5 दिन ही बचे हैं, लेकिन अब तक कई मुख्य मार्गो की...

Dainik Bhaskar

Mar 01, 2018, 02:20 AM IST
जिन पुलों पर मेले के दौरान रहेगा सबसे अधिक ट्रैफिक, उन पर नहीं लगी रेलिंग
भास्कर संवाददाता | मुंगावली

रंगपंचमी पर लगने वाले करीला मेले को अब 5 दिन ही बचे हैं, लेकिन अब तक कई मुख्य मार्गो की हालत नहीं सुधारी गई है। कंजिया और कैथन नदी के पुल रेलिंग विहीन है। इन दोनों पुल पर मेले के दौरान सबसे अधिक वाहनों का दबाव रहेगा।

अशोकनगर और सागर जिले की सीमा पर लगा बेतवा नदी का पुल नगर मुख्यालय से 8 किमी दूर है। इस मार्ग से सागर, दमोह, कटनी, इलाहाबाद सहित आसपास के क्षेत्रों से लोग मां जानकी मंदिर करीला दर्शन करने पहुंचते हैं।

नगर मुख्यालय से पांच किमी दूर ग्राम ढिचरी पर पड़ने वाला कैथन नदी के पुल पर भी रेलिंग की व्यवस्था नहीं है। यह मुख्य पुल है जो कुरवाई, मंडी बामोरा, विदिशा, रायसेन सहित कई जिलों को जोड़ता है, लेकिन इस केथन नदी के पुल पर भी रेलिंग नहीं है। सालों पहले आई बाढ़ में यहां की रेलिंग बह गई थी जबसे पीडब्लूडी विभाग द्वारा इस ओर ध्यान नहीं दिया। इस पुल पर मुंगावली से जाने पर पुल के दाहिने ओर जहां पुल की सीमा खत्म होती है वहां भी बाढ़ आने से वहां की किनारे की मिट्टी कट कर बह गई थी। इससे पुल के पास ही गहरी खाई बन गई है। विभाग ने उस समय हल्की मरम्मत कर उसे चनखारी से भर दिया था। यह खाई अब फिर से दिखाई देने लगी है। यह खाई रात के समय सामने से आने वाले वाहनों की लाइट के कारण दिखाई नहीं देती इससे वाहन चालकों को अपने वाहन साइड में करते समय दुर्घटना की आशंका रहेगी।

जिम्मेदार नहीं देते इस ओर ध्यान: यह दोनों पुल सालों से रेलिंग विहीन है। इन पुलों की रेलिंग लम्बे समय से टूटी हुई है। इसकी जानकारी जिम्मेदार अधिकारियों को होने के बाद भी न तो इस ओर कभी ध्यान दिया गया और न ही किसी तरह की कार्रवाई की गई। जिसका परिणाम यह हुआ कि वे अब भी किसी बड़ी घटना का होने का इंतजार कर रहे हैं।

रंगपंचमी पर लगने वाला है मेला, किनारे की मिट्‌टी कट कर बह रही है

कंजिया मार्ग पर बना रेलिंग विहीन पुल।

नहीं भरे गए खाई नुमा गड्ढे

ग्राम खूटिया बामोरी सरपंच भूरी बाई, महेन्द्र सिंह रावत यही नदी के पास ही निवास करते है। उन्होंने बताया कि अगर इस पुल के इस खाई नुमा गड्ढे को नहीं भरवाया व रेलिंग नहीं लगवाई तो वाहन चालक की जरा सी चूक से कभी भी दुर्घटना हो सकती है। छोटी भोपाल सरपंच राजकुमार यादव ने बताया कि बेतवा पुल की लंबाई अधिक है लेकिन रेलिंग नहीं होने से कभी भी कोई बड़ा हादसा हो सकता है।


X
जिन पुलों पर मेले के दौरान रहेगा सबसे अधिक ट्रैफिक, उन पर नहीं लगी रेलिंग
Bhaskar Whatsapp

Recommended

Click to listen..