--Advertisement--

थाने से आपत्ति लग गई तो घर बनाना मुश्किल हो जाएगा

भोपाल| क्रेडाई के बाद इंस्टीट्यूट ऑफ टाउन प्लानर्स ऑफ इंडिया (आईटीपीआई) ने प्रस्तावित जनसुरक्षा एवं संरक्षा...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:25 AM IST
भोपाल| क्रेडाई के बाद इंस्टीट्यूट ऑफ टाउन प्लानर्स ऑफ इंडिया (आईटीपीआई) ने प्रस्तावित जनसुरक्षा एवं संरक्षा अधिनियम का विरोध किया है। इस अधिनियम में कॉलोनाइजर को टीएंडसीपी की अनुमति से पहले पुलिस की एनओसी लेना जरूरी किए जाने का प्रावधान है। आईटीपीआई मप्र चैप्टर के अध्यक्ष वीपी कुलश्रेष्ठ ने कहा कि थाने से आपत्ति लग गई तो आम आदमी को काफी मशक्कत के बाद भी घर बनाने की अनुमति नहीं मिलेगी। सुरक्षा ऑडिट के नाम पर कानून बनने के बाद 24 घंटे में कभी भी पुलिस को आम आदमी के घर में घुसकर जांच करने का अधिकार मिल जाएगा। पब्लिक सेफ्टी के नाम पर अधिकारों का दुरुपयोग हो सकता है। कुलश्रेष्ठ ने बताया कि आईटीपीआई ने नगरीय विकास विभाग के प्रमुख सचिव विवेक अग्रवाल और टी एंड सीपी डायरेक्टर स्वाति मीणा को पत्र सौंप कर अपनी आपत्तियों से अवगत करा दिया है। क्रेडाई का तर्क है कि ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में सिंगल विंडो सिस्टम लागू करने का वादा किया गया था, लेकिन इस अधिनियम के रास्ते से एक और विंडो खोली जा रही है।