• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • मंच पर दिखाई मोहिनीअट्टम की सबसे विस्तृत शैली वर्णम, गीतों में किया ग्रीष्म ऋतु का वर्णन
--Advertisement--

मंच पर दिखाई मोहिनीअट्टम की सबसे विस्तृत शैली वर्णम, गीतों में किया ग्रीष्म ऋतु का वर्णन

मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में रविवार को उपशास्त्रीय गायन एवं मोहिनीअट्टम समूह नृत्य की प्रस्तुतियां हुईं।...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:30 AM IST
मध्यप्रदेश जनजातीय संग्रहालय में रविवार को उपशास्त्रीय गायन एवं मोहिनीअट्टम समूह नृत्य की प्रस्तुतियां हुईं। कार्यक्रम में ग्वालियर घराने के गायक सज्जनलाल भट्ट ‘रसरंग’ एवं उनकी शिष्या दीप्ती गेड़ाम परमार (भोपाल) ने शास्त्रीय, उपशास्त्रीय गायन परंपरा के नवनिर्मित रागों की प्रस्तुति दी। चतुरंग पर आधारित इस सभा में आपने संगीत के चार अंगों को प्रस्तुत किया। इसके पश्चात कलाकारों ने शब्दों के माध्यम से स्वरों की अर्थपूर्ण प्रस्तुति दी और श्रोताओं को मुग्ध किया।

परंपरागत बंदिशों की प्रस्तुति देते हुए राग भोपाली तीन ताल में और राग दरबारी रूपक ताल में निबद्ध रचनाओं को अपने गायन से प्रस्तुत किया। कलाकारों ने ग्रीष्म ऋतु का वर्णन करते हुए उपशास्त्रीय एवं लोकगीतों की मिश्रित रचना चैती के साथ गायन को विराम दिया। तबले पर निशांत शर्मा ने हारमोनियम पर चैतन्य भट्ट ने एवं तानपुरे पर मिनाली जैन ने संगत की।