--Advertisement--

अब विज्ञान स्नातक भी शुरू करें अपने स्टार्टअप

प्रदेश के विज्ञान स्नातकों का रुझान अच्छे पैकेज की नौकरियों की बजाए अपने उद्यम में होना चाहिए। इसमें शुरुआती...

Danik Bhaskar | Apr 02, 2018, 02:30 AM IST
प्रदेश के विज्ञान स्नातकों का रुझान अच्छे पैकेज की नौकरियों की बजाए अपने उद्यम में होना चाहिए। इसमें शुरुआती संघर्ष है, लेकिन वे बड़ी कामयाबी हासिल कर सकते हैं। सकारात्मक संकेत है कि ग्रेजुएशन के बाद खास प्रशिक्षण लेकर प्रदेश में इसेंशियल ऑयल, ऑर्गेनिक उत्पाद, ईको फ्रेंडली कैरी बैग्स और हाइड्रो फॉनिक्स जैसे स्टार्टअप्स में वे रुचि ले रहे हैं। यह बात एमपीकॉन की पहल पर विज्ञान और इंजीनियरिंग में स्नातक युवाओं के लिए आयोजित प्रशिक्षण शृंखला के समापन पर उद्यमिता विशेषज्ञ डॉ. गुरपालसिंह जरयाल ने कही। विज्ञान और तकनीकी विभाग ने इन्हीं रुझानों को देखते हुए बीते वित्त वर्ष में तीन हजार से ज्यादा युवाओं के लिए यह निशुल्क शृंखला आयोजित की। इसमें उन्हें उद्योग के चयन, प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार करना, सरकारी योजनाओं और बैंकिंग व्यवस्था से जुड़ीं कई सारी अहम जानकारियां साझा कीं।

इस अवसर पर मार्गदर्शक अवनीश शर्मा ने बताया कि करीब डेढ़ सौ प्राध्यापकों को भी उद्यमिता विकास की ट्रेनिंग दी गई है, ताकि वे अपने स्टूडेंट्स को तैयार कर सकें। हम प्रदेश के सफल युवा उद्यमियों का रिकॉर्ड भी तैयार कर रहे हैं, ताकि अगले कार्यक्रमाें में इनकी कहानियां नए उद्यमियों को मिल सकें।