• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • ड्रामा स्टूडेंट्स ने सीखी किरदार को उनकी आवाज से पहचानने की कला
--Advertisement--

ड्रामा स्टूडेंट्स ने सीखी किरदार को उनकी आवाज से पहचानने की कला

भूमिका नाट्य संस्था की ओर से मायाराम सुरजन भवन में चल रही नाट्य कार्यशाला में स्टूडेंट्स ने अपने पसंदीदा...

Danik Bhaskar | Feb 02, 2018, 03:15 AM IST
भूमिका नाट्य संस्था की ओर से मायाराम सुरजन भवन में चल रही नाट्य कार्यशाला में स्टूडेंट्स ने अपने पसंदीदा किरदारों के बारे में बताया। 20 दिनों की इस नाट्य कार्यशाला की थीम ‘अनचेंज योर एक्टर’ रखी गई है। नाट्य कार्यशाला में स्टूडेंट्स को स्पीच, वॉइस मॉड्यूलेशन, बॉडी लैंग्वेज और इम्प्रोवाइजेशन की ट्रेनिंग दी जाएगी। नाट्य कार्यशाला के तीसरे दिन स्टूडेंट्स ने फेशियल एक्सप्रेशन और बॉडी लैंग्वेज के साथ अपने पसंदीदा टीवी और माइथो कैरेक्टर्स को अपने साथियों के सामने रखने की कोशिश की।

वर्कशॉप में गोपाल दुबे ने स्टूडेंट्स को बताया कि, किस तरह सिर्फ आवाज से किरदार के रुतबे, उसके व्यवहार और उसके ओहदे की झलक महसूस होती है। एक अहंकारी की आवाज कैसी होगी और किसी बुजुर्ग की आवाज में किस तरह की थर्राहट हो सकती है। एक बच्चा किस तरह से चहकते हुए अपनी बातों को कहेगा और एक महिला लाज-शर्म के साथ कैसे अपने ससुराल पक्ष के सामने आएगी। भूमिका नाट्य संस्था के गोपाल दुबे ने बताया कि, एक्टिंग का शौक रखने वाले युवाओं को अभिनय की बारीकियां समझाने के लिए इस कार्यशाला का आयोजन किया गया है। प्रोडक्शन ओरिएंटेड इस वर्कशॉप में हमारा प्रयास है कि 20 दिनों बाद कार्यशाला के अंत में हमारे पास कम से कम दो नाटक तैयार हों। वर्कशॉप में स्टूडेंट्स को स्पीच मॉड्यूलेशन टेक्नीक्स भी सिखाई गईं।