Hindi News »Madhya Pradesh »Bhopal »News» महिलाओं से दोस्ती और गिफ्ट के नाम पर ठगी

महिलाओं से दोस्ती और गिफ्ट के नाम पर ठगी

डीबी स्टार

Bhaskar News Network | Last Modified - Mar 01, 2018, 04:20 AM IST

महिलाओं से दोस्ती और गिफ्ट के नाम पर ठगी
डीबी स्टार भोपाल

फिल्म जगत की जानीमानी अभिनेत्रियों के नाम से मिलती-जुलती प्रोफाइल बनाकर महिलाओं से दोस्ती करने का जाल फैलाया जाता है। चेटिंग के दौरान आकर्षक ढंग से महिलाओं की नुमाइश की जाती है। जब किशोर उम्र के बच्चे और युवा इनके जाल में फंस जाते हैं तो उनसे गिफ्ट के नाम पर अपने खाते में पैसे ट्रांसफर कराए जाते हैं। इतना ही नहीं ऑनलाइन शापिंग वेबसाइट पर मिलने वाले गिफ्ट भी इन मासूमों से खरीदकर भिजवाने को कहा जाता है। खूबसूरत महिलाओं द्वारा छले जाने का पता युवाओं को तब चलता है जब उनकी जेब खाली हो जाती है या बैंक बेलेंस जीरो। इस खेल में लुटने-पिटने के बाद भी फरियादी मूंह खोलने से डरता है, क्योंकि शिकायत करने से उसे बदनामी का भय सताता है।

यह प्रोफाइल किसके हैं यह पता ही नहीं चलता है, लेकिन आने वाले कॉल महिलाओं के ही होते हैं। मोह-पाश में फंसाने के बाद बातचीत का पैसा प्रति मिनट की दर से वसूला जाता है। इसके कुछ प्रमाण भी डीबी स्टार के पास मौजूद हैं। एक पीड़ित ने नाम न छापने के अनुरोध पर बताया कि वह भी इस ऑनलाइन वीडियो चेटिंग का शिकार हो चुका है। महिलाओं के जाल में फंसकर वह 12 हजार रुपए गंवा चुका है। मेरी तरह कोई और ठगा नहीं जाए, इसलिए उन्होंने पूरा मामला डीबी स्टार को बताया। उन्होंने बताया कि व्हाट्स एप चेटिंग के लिए यह लोग सीधे ऑनलाइन पैसा सेंड करने को कहती हैं और जब पैसा सेंड हो जाता है तो फिर वीडियो चेटिंग करती हैं। इसमें आदमी इतना फंसता जाता है कि वह हर दिन रकम खर्च करने को तैयार रहता है। पीड़ित ने ऐसी तीन प्रोफाइल दिखाई जिसमें लिखा है कि 1200 रुपए सेंट करिए और दी गई लिंक पर बात करिए। इतना ही नहीं दुनिया की दो बड़ी ऑनलाइन शॉपिंग वेबसाइट से गिफ्ट कार्ड खरीदकर उसका नंबर भी भेजने के लिए कहा जाता है। आश्चर्यजनक बात यह है कि अकाउंट के फॉलोअर किसी सेलिब्रिटी से भी अधिक हैं। सायबर क्राइम के अफसरों से बात की तो पता चला कि ऐसे ठगी के मामले ताे हो रहेे हैं, लेकिन लोग सामाजिक प्रतिष्ठा के कारण शिकायत नहीं करते हैं। इसी का पूरा फायदा यह फर्जी प्रोफाइल धारी उठाते हैं।

किशोर और युवा सॉफ्ट टारगेट

सायबर क्राइम पुलिस और सायबर विशेषज्ञों से बातचीत में पता चला कि इस तरह के प्रोफाइल में युवा पीढ़ी बहुत अधिक फंसी हुई है और वहीं लोग इन अकाउंट के फॉलाेअर होते हैं। किसी महिला से बातचीत के लिए सबसे अधिक टीन एज ग्रुप के लड़के लालायित होते हैं। यह लोग पहले फॉलाेअर बनते हैं और फिर लाइक या कमेंट करते हैं। इससे ठगों द्वारा ऐसे युवाओं को ट्रैक करना आसान होता है और फिर यह इन्हें शिकार बनाते हैं। बदले में यह लोग ऑनलाइन गिफ्ट कार्ड लेते हैं। इससे लुटने वाले के अकाउंट में वेबसाइट का अकाउंट नंबर शो होता है और सामने वाली महिला गिफ्टकार्ड से कभी भी सामान खरीद लेती हैं। सायबर क्राइम के जानकार बताते हैं कि इससे बचने के लिए बच्चों के बैंक अकाउंट के स्टेटमेंट चेक करते रहे, क्योंकि मोबाइल को चेक करना अब इतना असान नहीं रहा। यदि बच्चों को क्रेडिट कार्ड या डेबिट कार्ड दिया है तो हर महीने उसका स्टेटमेंट मंगाए और जानकारी रखें। किसी भी तरह के ऑनलाइन ट्रांजेक्शन को लेकर सवाल करें और जरुरत पड़ने पर सायबर पुलिस को शिकायत भी करें।

सावधानी ही बचाव है

 जिस तरह के मामलों की आप बात कर हैं, वैसा होता तो है, लेकिन पीड़ित के सामने नहीं आने के कारण कार्यवाही नहीं हो पाती। खासतौर से टीन एज ग्रुप में लड़के इसमें अधिक फंसते हैं। यह प्रोफाइल इतनी आकर्षक होती हैं कि इससे बचना बहुत मुश्किल है। चूंकि सामने वाला ठगी के लिए ऑनलाइन ट्रांजेक्शन करवाता है तो स्टेटमेंट के जरिए आसानी से पकड़ा जा सकता है। खास बात यह है कि इसमें बहुत बड़ा अमाउंट ठगी का नहीं होता। 1000 रुपए से लेकर 10 हजार रुपए तक के गिफ्ट कार्ड मिलते हैं। माता-पिता को चाहिए कि वे ऐसे किसी ट्रांजेक्शन को लेकर सवाल जरूर करें, लेकिन बच्चों पर कैमरा नहीं लगाएं। उन्हें विश्वास में लेकर बात करें। शैलेंद्र सिंह चौहान, एएसपी, सायबर क्राइम

दैनिक भास्कर पर Hindi News पढ़िए और रखिये अपने आप को अप-टू-डेट | अब पाइए Bhopal News in Hindi सबसे पहले दैनिक भास्कर पर | Hindi Samachar अपने मोबाइल पर पढ़ने के लिए डाउनलोड करें Hindi News App, या फिर 2G नेटवर्क के लिए हमारा Dainik Bhaskar Lite App.
Web Title: महिलाओं से दोस्ती और गिफ्ट के नाम पर ठगी
(News in Hindi from Dainik Bhaskar)

More From News

    Trending

    Live Hindi News

    0

    कुछ ख़बरें रच देती हैं इतिहास। ऐसी खबरों को सबसे पहले जानने के लिए
    Allow पर क्लिक करें।

    ×