• Home
  • Madhya Pradesh News
  • Bhopal News
  • News
  • जवाहर चौक से पॉलिटेक्निक तक ओवरब्रिज स्मार्ट सिटी कंपनी के जिम्मे
--Advertisement--

जवाहर चौक से पॉलिटेक्निक तक ओवरब्रिज स्मार्ट सिटी कंपनी के जिम्मे

भोपाल| छोटे तालाब पर बन रहे आर्च ब्रिज के बाद अब जवाहर चौक से बाणगंगा होते हुए पॉलिटेक्निक तक ओवरब्रिज भी स्मार्ट...

Danik Bhaskar | Apr 01, 2018, 04:20 AM IST
भोपाल| छोटे तालाब पर बन रहे आर्च ब्रिज के बाद अब जवाहर चौक से बाणगंगा होते हुए पॉलिटेक्निक तक ओवरब्रिज भी स्मार्ट सिटी कंपनी बनाएगी। पिछले साल के बजट में हुई घोषणा के बाद निगम इस पर काम नहीं कर सका। शनिवार को बजट में यह ओवरब्रिज स्मार्ट सिटी कंपनी के जरिए बनाने की घोषणा की गई। भोपाल टॉकीज से बस स्टैंड तक ग्रेड सेपरेटर, इतवारा में कवर्ड मीट मार्केट और हर वार्ड में हॉकर्स कॉर्नर जैसी पुरानी घोषणाओं की कोई चर्चा ही नहीं हुई। शनिवार को पेश बजट की पिछले दो बजटों से तुलना करें तो पता लगता है कि निगम का बजट वास्तविकता से कोसों दूर है। बजट में दिखाई जाने वाले आंकड़ों को साल के अंत में देखें तो 60% तक ही काम हो पाते हैं। इस बार महापौर कोई भी बड़ी घोषणा करने से बचते नजर आए हैं।


2016-17

वास्तविक खर्च

1059 करोड़

संभावित आय 2090 करोड़

नगर निगम की स्वयं के स्रोतों से आय

संपत्ति कर

110 करोड़

प्रमुख घोषणा... अत्याधुनिक बस स्टैंड

घोषणा- नवबहार सब्जी मंडी की भूमि पर अत्याधुनिक बस स्टैंड का निर्माण

स्थिति- जमीन ही खाली नहीं हुई, कागजों पर योजना।

2018-19

घोषणा - चौक बाजार एप्रोच रोड में अंडरग्राउंड बिजली केबल के लिए 2 करोड़ रुपए का प्रावधान।

स्थिति- 2015-16 के बजट की घोषणा पर अब तक चल रहा काम

घोषणा - विश्रामघाटों पर विद्युत शवदाह गृह सहित अन्य कार्यों के लिए 10.5 करोड़ का प्रावधान।

स्थिति - पिछले कई सालों से अलग-अलग रूप में घोषणा, कुछ कार्य हुए लेकिन विद्युत शवदाह गृह चालू नहीं।

घोषणा - रानी कमलापति सहित अन्य महापुरुषों की मूर्ति स्थापना के लिए चार करोड़ का प्रावधान।

स्थिति - पिछले तीन साल से लगातार हो रही घोषणा

व्यस्त बाजारों में महिला सहायता केंद्र व पुलिस चौकी के लिए 2 करोड़

बजट पेश -2095 करोड़ 96 लाख 86 हजार रुपए

जल दर

33 करोड़

वास्तविक आय

1032 करोड़

कुल उपयोग 52 %

अन्य कर

90 करोड़

घोषणा- इतवारा में कवर्ड मीट मार्केट के लिए पांच करोड़ का प्रावधान

स्थिति- कोई प्रगति नहीं, योजना कागजों पर।

1995 करोड़ 94 लाख 72 हजार रुपए

2017-18

वास्तविक खर्च

1348 करोड़

संभावित आय-1739 करोड़

नगर निगम की स्वयं के स्रोतों से आय

संपत्ति कर

124 करोड़

प्रमुख घोषणा... भोपाल टॉकीज ग्रेड सेपरेटर

घोषणा- भोपाल टॉकीज से बस स्टैंड चौराहा तक ग्रेड सेपरेटर लागत 80 करोड़ प्रारंभिक प्रावधान 20 करोड़

स्थिति - योजना कागजों पर।

हम खर्चों को नियंत्रित कर रहे हैं : महापौर


वित्तीय अनुशासन की कमी है : एक्सपर्ट


हर विधानसभा क्षेत्र में 3 करोड़ रुपए के विकास कार्यों का प्रावधान

बजट पेश 1739 करोड़ 87 लाख का बजट

जल दर

36 करोड़

वास्तविक आय

1151 करोड़

कुल उपयोग 66.19 %

अन्य कर

150 करोड़

घोषणा- जवाहर चौक से पॉलिटेक्निक तक ओवरब्रिज 60 करोड़ का प्रावधा।न

स्थिति- अब स्मार्ट सिटी कंपनी बनाएगी।

भोपाल की चौपाल में आई समस्याओं के निराकरण के लिए 5 करोड़ रुपए

जनता के मुद्दे पीछे छूटे

सदन में हनुमान जी की पूजा को लेकर हंगामा

नगर निगम भोपाल का वर्ष 2018-19 का 2000 करोड़ रुपए का बजट 35 मिनट में बिना चर्चा के पारित हो गया। हनुमान जयंती पर बैठक आयोजित करने के विरोधस्वरूप कांग्रेस पार्षदों ने सदन में ही पूजा शुरू कर दी। इसका महापौर आलोक शर्मा सहित पूरे भाजपा पार्षदों ने तीखा विरोध किया। महापौर ने नेता प्रतिपक्ष मो. सगीर द्वारा पूजा करने पर एतराज जताया और कहा - ‘यदि हम कुरान लेकर सदन में आ जाते तो शहर की कानून व्यवस्था बिगड़ जाती।’ महापौर ने यहां तक कहा कि शहर का विकास एक तरफ है, लेकिन वे हिंदू धर्म का अपमान नहीं सहन कर सकते। इस तरह का घटनाक्रम भोपाल नगर निगम में पहली बार हुआ। महापौर ने भाजपा पार्षदों के साथ अध्यक्ष की आसंदी का घेराव करते हुए सगीर के खिलाफ कार्रवाई की भी मांग की। बाद में वे नेता प्रतिपक्ष की कुर्सी तक गए और उन्हें धमकी भी दी। कांग्रेस के गिरीश शर्मा, गुड्डू चौहान, मोनू सक्सेना और अमित शर्मा ने मोर्चा संभाल रखा था। कांग्रेस पार्षद संतोष कंसाना का भी भाजपा पार्षदों से विवाद हो गया। इस बीच अध्यक्ष सुरजीत सिंह चौहान ने कार्रवाई शुरू कर दी। महापौर ने बजट भाषण पढ़ना शुरू किया। शोर के कारण वे अपना पूरा भाषण भी नहीं पढ़ पाए। इसके बाद अध्यक्ष ने बहुमत के आधार पर पहले बजट फिर एजेंडा और पूरक एजेंडा के भी सभी विषय बिना चर्चा के पारित करने की भी घोषणा कर दी। बैठक के बाद एक नाटकीय घटनाक्रम में वार्ड 56 के कांग्रेस पार्षद फकीरा कचके ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण कर ली। कचके ने कहा कि वे सदन में कांग्रेस द्वारा हिंदू धर्म का अपमान किए जाने से दु:खी होकर पार्टी छोड़ रहे हैं।